चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

ऑफिस में सेक्रेटरी को बेवकूफ बना कर चोद लिया

Hindi xxx Story मेरा नाम दिनेश है। मैं कानपूर का रहने वाला हूँ। दोस्तों मेरी कम्पनी में एक नई और हॉट सेक्रेट्री ने नौकरी करना शुरू कर दिया था। उसका नाम कनिका था। वो बेहद सेक्सी और हॉट लड़की थी। धीरे धीरे मैं उसे पसंद करना लगा। वो मेरे ऑफिस का सब काम देखती थी। क्लाइंट से मेरी मीटिंग फिक्स करती थी। फोन अटेंड करती थी। प्रेजेंटेशन बनाती थी और कभी कभी रेसेपशनिस्ट वाला काम भी कर लेती थी। हर तरह से वो अपने काम में माहिर थी। धीरे धीरे मेरा उसे चोदने का दिल करने लगा। वो मेरे केबिन में ही बाए तरफ बैठती थी। कभी कभी जब वो झुककर अलमारी से कोई ऑफिस की फ़ाइल निकालती थी तो उसकी कमर और पुट्ठे मुझे साफ़ साफ़ दिख जाती थी। अक्सर कनिका जींस टॉप ही पहनकर आती थी। पर कई बार वो मिनी स्कर्ट में ऑफिस आ जाती थी। उसकी गोरी गोरी चिकनी जांघो को देखकर मैं दंग रह जाता था। पेंटी के दर्शन भी हो जाते थे। कितनी हॉट लड़की है मैं सोचता था। एक दिन वो नीचे की तरफ झुककर कुछ निकाल रही थी। उसके गोल मटोल भरे हुए पुट्ठे मुझे दिख गये। दोस्तों एक दिन मैंने अचानक सीने में दर्द का बहाना बनाया। और जोर जोर से हाफ़ने का नाटक करने लगा।
“सर सर!! क्या हुआ आपको??” कनिका मेरे पास आकर पूछने लगी
“कनिका!! मुझे एक ख़ास तरह की बीमारी है। मेरे सीने में बहुत दर्द हो रहा है। दिल में खून का थक्का जम जाता है और खून बहना बंद हो जाता है। अब अगर मैं सेक्स करू तो ये ठीक हो आएगा” मैंने कहा
“सेक्स?? किस्से करेंगे आप???” कनिका घबराकर बोली
“बाते करना का वक़्त नही है कनिका। मेरे सीने का दर्द अभी 10 मिनट में गायब हो जाएगा। एक काम करो। अपनी स्कर्ट और पेंटी उतार दो। मैं तुमको जल्दी से चोद लूँ तो मेरे दिल में खून बहना फिर से शुरू हो जाएगा। फिर मैं ठीक हो जाऊँगा” मैंने कहा

“पर सर मैं आपसे कैसे चुदवा सकती हूँ। मेरी तो अभी शादी भी नही हुई” मेरी सेक्रेटरी कनिका बोली
मैंने बहाना बनाकर अपने सीने पर फिर से हाथ रख दिया। “आह!! आज मैं जिन्दा नही बचूंगा…हाय आज तो मैं मरा” दोस्तों इस तरह से मैं जोर जोर से चिल्ला रहा था। कनिका को लगा की शायद मैं सच में मर जाउंगा।
“ओके सर!! आइये आप मुझे चोद लीजिये” वो बोली और मेज के अपने कंधे रखकर वो झुक गयी।
मैं उसके पीछे आ गया। दोस्तों आज मेरी सेक्रेटरी कनिका ने एक पिंक कलर की हॉट सी मिनी स्कर्ट पहन रखी थी। मैंने जल्दी से उसकी स्कर्ट को नीचे खींच दिया और उतार दिया। कनिका ने एक सफ़ेद कलर की रेशमी पेंटी पहन रखी थी। उसके पुट्ठे बहुत गोरे फूले फुले और हॉट थे। किसी मॉडल की तरह सेक्सी पुट्ठे थे मेरी सेक्रेटरी के। मैं नीचे बैठ गया और उसके गुलाबी पुट्ठो से खेलने लगा। जैसे ही मैंने हाथ से दबाना शुरू कर दिया कनिका “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” करने लगी। उसे भी अच्छा लग रहा था। मजा आ रहा था उसे। दोस्तों उसके पुट्ठे बहुत सेक्सी और कामुक थे। रुई की तरह नर्म नर्म थे। मैं बार बार दबाने लगा और मजा लेने लगा। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
फिर मैंने अपना मुंह उसके गोल मटोल पुट्ठो के बीच में डाल दिया। और जल्दी जल्दी हिलाने लगा। कनिका को मस्ती चढ़ रही थी। धीरे धीरे मैं अपनी सेक्रेटरी के पुट्ठो को किस करने लगा। मैं चूम रहा था। धीरे धीरे मैंने उसके नर्म नर्म मुलायम पुट्ठे पीना शुरू कर दिया। सफ़ेद रंग की पेंटी में कनिक किसी मॉडल की तरह सेक्सी लग रही थी। धीरे धीरे मैं उसकी चूत को पेंटी के उपर से ही घिसने लगा।
वो तडप रही थी और “ओहह्ह्ह…ओह्ह्ह्ह…अह्हह्हह…अई..अई. .अई… उ उ उ उ उ…” बोल रही थी। उसके पुट्ठो पर मैं दांत गड़ाकर काट रहा था। आज तो मैं जैसे खा जाना चाहता था। कनिका मेरी मेज पर झुकी हुई थी। उसके पैर जमींन पर थे। अपना कंधा उसने मेरी टेबल पर रख दिया था। मैं हाथ से उसके गोल मटोल पुट्ठो पर चांटे मार देता था।

ओहह.. कनिका चिल्ला देती थी। दोस्तों धीरे धीरे मैंने उसकी चूत को रेशमी पेंटी के उपर से ही चाटना शुरू कर दिया। कनिका मस्त होने लगी। खुद ही अपनी चूत सहलाने लगी। धीरे धीरे उसकी पेंटी पूरी तरह से गीली हो गयी। उसने खुद ही अपनी पेंटी निकाल दी।
“चाट लीजिये सर!! आप मेरी रसीली चूत अच्छे से चाट लीजिये। आपकी तबियत सही हो जाएगी” वो बोली
उसके बाद मुझे उसकी मलाई जैसी चिकनी चूत के दर्शन हो गये। कनिका ने अपनी एक टांग उठा दी। जिससे मेरा मुंह पीछे से उसकी चूत तक आसानी से पहुच जाए। उसके बाद मैं जल्दी जल्दी किसी चूत के पुँजारी की तरह उसकी चूत पीने लगा। कनिका सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। “आआआअह्हह्हह…..ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” वो चिल्ला रही थी। मैं अपनी जीभ को उसकी चूत के अंदर डालकर पी रहा था। इस तरह से मैं खूब मजे लूटे। उसके बाद मेरी सेक्रेटरी कनिका ने अपना पिंक कलर का टॉप निकाल दिया। अब वो मेरे सामने सफ़ेद ब्रा में थी। मैं खड़ा हो गया। मैंने अपनी पेंट की बेल्ट खोल दी और नीचे सरका था। मेरा लंड अंडरवियर में ही बहने लगा था। मैं जल्दी से अंडरवियर नीचे सरका दिया और अपनी ऊँगली में थूक लगाकर अपने लंड के टोपे पर मल लिया।
“सर!! अब किस बार का वेट कर रहे है। चोदिये मुझे। आपने तो मुझे पूरी तरह से गर्म कर दिया है” कनिका बोली और मेज पर झुक गयी। अपना बाया पैर उसने मोड़कर मेज पर रख दिया। उसकी चूत का छेद मुझे मिल गया। मैं अपने लंड को पकड़कर उसके छेद में डाल दिया और जल्दी जल्दी चोदने लगा। कुछ ही देर में मैं 100 की तेज रफ्तार में अपनी सेक्रेटरी को चोद रहा था।
““……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा चोदिये सर!! चोदिये और जोर से…..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” कनिका किसी स्लट की तरह चिल्ला रही थी। मैं खड़ा होकर आज अपने ऑफिस में ही अपनी सेक्रेटरी को चोद रहा था। मैं जल्दी जल्दी किसी कुत्ते की तरह उसे खड़े होकर चोद रहा था। कनिका मेरी मेज पर झुकी हुई थी। धीरे धीरे मुझे जबरदस्त कसावट मिलने लगी। ओह्ह गॉड!! उसकी चूत बहुत कसी थी। इससे पहले वाली जो सेक्रेटरी मेरे ऑफिस में काम करती थी उसकी चूत भी मैं बहाना बनाकर मारता था। पर उसकी चूत तो बहुत ढीली थी। पर आज जब कनिका को मैं चोद रहा था तो वो बेहद हॉट लग रही थी। दोस्तों मैं जल्दी जल्दी खड़े होकर अपनी कमर घुमा घुमाकर कनिका को चोद रहा था।

मुझे बड़ा हॉट हॉट महसूस हो रहा था। धीरे धीरे मैं झड़ने वाला था। मैं इतनी जोर जोर से धक्के मारे की मेज आगे की तरह खिसकने लगे। मैं किसी कुत्ते की तरह कनिका को चोद रहा था। हाथ से वो खुद अपनी चूत के दाने को सहला रही थी। उसकी गर्म गर्म आवाजे मुझे दीवाना बना रही थी। अंत में 20 मिनट बाद मैं अपना पानी अपनी सेक्रेटरी की चूत में छोड़ दिया। मैं झड़ गया। फिर अपनी बोस वाली कुर्सी पर बैठ गया। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
“लाइए सर!! आपका लंड चूस दूँ” कनिका बोली
वो अब जमीन पर बैठ गयी और मेरा लंड चूसने लगी। धीरे धीरे वो सारा माल चूस गयी। मेरे लंड से जो माल की बुँदे टपक रही थी कनिका जल्दी जल्दी चूसने लगी। मैंने उसके सिर को हाथो से सहलाने लगा। धीरे धीरे उसने मेरा लंड को फेटना शुरू कर दिया। 10 मिनट तक फेटा। मुझे बड़ा मजा आया।
“सर!! अब आपको कैसा लग रहा है। क्या आपके सीने का दर्द सही हो गया” कनिका ने पूछा
“हाँ!! अब काफी आराम है। तुम्हारी चूत चोदने में मेरी अच्छी खासी एक्सरसाइस हो गयी है। अब आराम है। अब मेरे दिल में खून बहने लगा है” मैंने कहा
“सर!! आज तो आपने मुझे चोद दिया है। अब काम में तो दिल लगेगा नही” कनिका बोली
“सुनो ऐसा करो आज ऑफिस का कोई काम मत करो। आज हम दोनों सिर्फ चुदाई की कर डालते है। मेरी तबियत और अच्छी हो जाएगी” मैंने कहा
“ठीक है सर” कनिका बोली
“जान!! मुझे अपने दूध पिलाओ” मैंने कहा
उसके बाद कनिका ने अपनी सारी शर्म छोड़ दी। एक एक करके वो पूरी तरह से नंगी हो गयी। उसने अपनी ब्रा खोल दी और मेरी गोद में आकर बैठ गयी। मेरे मुंह पर उसने अपने दूध रख दिये। वो मेरे साथ खेलने लगी। मैं उसके दूध को हाथ में लेकर सहलाने लगा। उसके बूब्स बहुत सेक्सी थे। लिओन जैसी हॉट और सेक्सी थी कनिका। मैं उसके अनारो को हाथ से दबाने लगा। वो “…….उई. .उई..उई…….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ……अहह्ह्ह्हह…” करने लगी। मुझे उसके चिकने बूब्स सहलाने में ख़ास मजा मिल रहा था। कितनी खूबसूरत बूब्स थे उसके। मैं तो देखकर ही हैरान था। धीरे धीरे मैंने उसकी निपल्स को चुसना शुरू कर दिया। कनिका हिलोहे खाने लगी। वो मेरी गोद में आकर बैठी थी अपने पैरों को आजू बाजू डालकर। मैं उसके जिस्म से खेल रहा था। कितनी पतली चिकनी कमर थी उसकी। उसके पेट को मैं सहला रहा था। कनिका का रंग बहुत साफ़ था। उसकी एक एक पसली मुझे दिख रही थी। उफ्फ्फ्फ़!! कितना लचीला बदन था उसका।

धीरे धीरे मैं अपनी खूबसूरत और जवान सेक्रेटरी के पीछे पूरी तरह से पागल हो गया था। मैं जल्दी जल्दी अब उसकी मुसम्मी चूस रहा था। कनिका की चूत बहने लगी थी। मैं हाथ से जोर जोर से उसकी मुसम्मी दबा रहा था। वो कराह रही थी। मैं जल्दी जल्दी उसके आम चूस रहा था। आधे घंटे तक हम दोनों प्यार करते रहे। फिर हम दोनों का मौसम बन गया। कनिका जल्दी से मेरे लंड को चूत में डालकर मेरी गोद में ही बैठ गयी।
“चोदिये सर!! आज फाड़ दीजिये मेरी गुलाबी चूत को” वो कहने लगी
उसके बाद मैं धीरे धीरे उसे गोद में बिठाकर चोदना शुरू कर दिया। मैं कुर्सी पर बैठकर ही उसका गेम बजाने लगा था। मैंने 1 घंटे अपनी खूबसूरत सेक्रेटरी को पेला और फिर से उसकी चूत अपने माल से भर दी।DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :