चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

करवाचौथ के दिन बीबी की चूत में गैर का लंड

loading...

New Sex Stories करवाचौथ के दिन बीबी की चूत में गैर का लंड

loading...

मेरा नाम वरुण है। गाजियाबाद का रहने वाला हूँ। मेरी बीबी का नाम रजनी था। हमारी शादी 2014 में हो गयी थी। रजनी बहुत सुंदर और सेक्सी लड़की थी। मुझे आज भी याद है की हम लोगो ने सुहागरात पर खूब मजे किये थे। वो पूरी तरह से फ्रेश माल थी। उसकी सील बंद थी। मैंने ही आपके 6” के लौड़े से उसकी चूत की सील तोड़ी थी और खूब चोदा था उसे। उसने बिस्तर पर उछल उछलकर अपना काम लगवाया था। दोस्तों अब शादी के 3 साल बीत चुके थे। अक्सर अपनी पतिव्रता बीबी को गैर मर्द से चुदवाने के मैं सपने देखने लगा। कभी कभी रजनी से मजाक मैं करता।
“जान!! तुम पतिव्रता औरत हो। कभी कभी मन करता है की किसी गैर मर्द से चुदते हुए तुमको देखू। आजतक तुम्हारी रसीली चूत में सिर्फ एक ही लौड़ा गया है और वो भी मेरा। क्या तुम और किसी और का लंड नही खाना चाहती???” मैंने एक दिन रजनी से कहा
“नही मुझे सिर्फ तुम्हारा लंड ही खाना है” वो बोली
“जान जिन्दगी छोटी है। हम कब मर जाए कोई गारंटी नही। खेलो खाओ मौज करो” मैंने कहा
“नही !! मैं एक लौड़े पर टिकने वाली औरत हूँ” रजनी बोली
इस तरह से हम अक्सर मजाक करने लगे। जब रात में मैं उसके साथ लेटता तो तरह तरह के सपने देखता की काश कोई और मर्द मेरी बीबी को रगड़ के मेरे सामने ही चोदे। मैं बार बार इस तरह के सपने देखने लगा। ऐसा नही था की मेरी बीबी रजनी सेक्सी औरत थी। वो बेहद सेक्सी औरत थी। अभी सिर्फ 24 साल उम्र थी उसकी। 5’2” की माल थी वो। गोल मटोल और मस्त फिगर वाली। रजनी का फिगर 36 28 32 का था। जींस टॉप में पटाखा आइटम लगती थी। जब मैं उसके साथ बाहर मार्किट में जाता था लोग रुक कर उसको घूरने लग जाते थे। मर्दों के लौड़े खड़े हो जाते थे रजनी की जवानी देखकर। मेरी गली के लड़के तो उसे देखकर अपने घरों में जाकर मुठ मार लेते थे। इसकी सुंदर थी मेरी बीबी रजनी। कसे कसे टॉप में उसके मम्मे गोल गोल जब उछलते थे तो मर्दों के दिल में हलचल मच जाती थी। रजनी हमेशा कसी टाईट जींस पहनती थी जिसमे उसका पिछवाडा, उसके पुट्ठे बेहद शानदार दीखते थे। हाई हील्स में वो मस्त माल लगती थी और पिछवाडा मटका मटकाकर चलती। आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

कितने लोग उसके पुट्ठो पर हाथ रखना चाहते थे। ऐसी थी मेरी सेक्सी बीबी रजनी। वो मेरी तरह ही सेक्सी थी। जब वो गर्म वो जाती थी मेरा लंड हाथ से फेट फेटकर घंटो चुस्ती थी उसके बाद हर तरह की पोज में चुदवाती थी। मिशनरी, गोद में बैठकर, 69 में, कुतिया बनकर, दीवाल के सहारे खड़े होकर, हर पोज में रजनी को चुदना पसंद था। सेक्स के मामले में वो काफी खुली मिजाज की लड़की थी। मैं उससे शादी करके पूरी तरह से संतुस्ट था। हम दोनों रात रात भर मजे लुटते थे। खूब इश्क लगाड़े थे। अब मैं रोज रात में उससे अपने दिल की बात बोल देता था।
“जान !! सारी औरते जिन्दगी में एक बार अपने पति का अरमान पूरा करती है। प्लीस!! एक बार तुमको किसी गिर मर्द से चुदते देखने का मन है। प्लीस मेरा अरमान पूरा कर दो” मैंने उससे रोज रात में कह देता।
धीरे धीरे रजनी मान गयी।
“वरुण!! क्या तुम सच में मुझे गैर मर्द से चुदवाना चाहते हो???” वो दूसरी रात मुझसे कहने लगी
“हा जान!! शहरो में सभी औरते ऐसा करती है। हर पति का अरमान होता है की एक दिन उसकी पतिव्रता बीबी गैर लौड़े से चुदे” मैंने कहा
रजनी मान गयी। 2 दिनों बाद करवाचौथ का त्यौहार था। उसने फैसला कर लिया की करवाचौथ पर किसी गैर मर्द का लंड खाएगी। मैं उसके लिए एक अच्छी सी बनारसी साड़ी ले आया। मैंने अपने दोस्त कौशिक को फोन लगाया और उसे पूरी बात बता दी।
“कौशिक! मेरे भाई मेरा बचपन का सपना है की मेरी पतिव्रता बीबी किसी गैर मर्द से मेरे सामने ही चुदे। तुझे भी मेरी बीबी सेक्सी लगती है। बोल करवाचौथ को आएगा मेरी बीबी की चूत बजाने” मैंने पूछा तो वो उछल पड़ा
वो बेहद खुश था ये बात सुनकर। मैंने उससे बनठन कर आने को कहा क्यूंकि रजनी को गंदे मर्द जरा भी पसंद नही है। कौशिक ने अपनी झांटे अच्छी तरह से बना ली। अपनी दाढ़ी बना ली और बिलकुल हीरो बनकर करवाचौथ की शाम को 8 बजे मेरे घर आ गया। नीली जींस के साथ उसने ब्लू शर्ट स्ट्राइप डीजाइन में पहनी थी। कौशिक देखने में स्मार्ट मर्द लग रहा था। उसकी शादी हो चुकी थी। वो भी मेरी तरह से शादी शुदा मर्द था। मैंने उसे लॉबी में बिठाया और नाश्ता दिया। कुछ देर बाद चाँद निकल आया। मैं अपनी बीबी रजनी के साथ छत पर चला गया। रजनी ने मुझे छलनी में देखकर पूजा की। उसके बाद हम तीनो से खाना खाया। डाइनिंग टेबल पर मैं, रजनी और कौशिक साथ बैठकर खाना खा रहे थे। रजनी नजरे नीची करके शर्मा रही थी। आज मेरा बरसों का सपना पूरा होने जा रहा था। आज मेरी जवान और खूबसूरत औरत एक गैर मर्द से चुदने जा रही थी।

कौशिक भी शर्म कर रहा था। वो पुड़ी के कौर बहुत धीरे धीरे खा रहा था। तिरछी नजरों से रजनी की तरह देख रहा था।“अरे भाई इतना भी मत शरमाओ। कुछ बोलो यार” मैंने उसकी तरह देखते हुए हंसकर कहा .. रजनी पानी पानी हुई जा रही थी। वो बार बार कौशिक के सीने की तरफ देख रही थी। उसकी शर्ट की बटन उपर की तरफ खुली हुई थी। कौशिक के सीने पर काले काले हजारो काले घुंघराले बाल थे। रजनी समझ रही थी की मेरा दोस्त कौशिक बेहद सेक्सी मर्द होगा। क्यूंकि सीने पर बाल वाले मर्द बेहद सेक्सी होते है। डिनर के बाद हम तीनो बेडरूम में आ गये। कौशिक मेरे बेड पर एक किनारे बैठ गया। रजनी दुर खड़ी थी शायद झेप रही थी। “आओ जान!! अपने आज रात के होने वाले सैयां से मिलो” मैंने रजनी का हाथ पकड़ लिया और अपने दोस्त कौशिक के पास जाकर बिठा दिया। रजनी चुप होकर उसके बगल बैठ गयी। दोनों चुप दे। मैं कौशिक को आँख मारी। उसे ही शुरुवात करनी थी वरना सुबह हो जाती और कोई चुदाई नही होती। कौसिक ने मेरी बीबी रजनी का हाथ पकड़ लिया और उठाकर अपने होठो तक ले गया। उसने चूम लिया। रजनी बचने की कोशिश करने लगी पर कौशिक समझदार मर्द था। उसके जल्दी से रजनी को बाहों में लपेट लिया। इससे पहले वो इंकार करती कौशिक ने उसे गाल पर पप्पी लेनी शुरू कर दी। मैं कमरे में एक कोने में जाकर बैठ गया जिससे दोनों को शर्म ना आये और खुलकर वो सेक्स करे।  रजनी शरमा रही थी पर कौशिक कई औरतों को चोद चुका था। उसे पता था कैसा क्या करना है। लाल साड़ी में रजनी नवविवाहिता लग रही थी। वो बार बार रजनी के गालो पर किस कर रहा था। दांत से काट रहा था। फिर उसके रजनी को बिस्तर पर लिटा दिया और उसके उपर आ गया। कौशिक ने अपना ओंठ रजनी के होठो पर रख दिया। रजनी ने लाल रंग की गहरी लिपस्टिक लगाई हुई थी। कौशिक ने उसके हाथो की उँगलियों में अपनी उंगलियाँ फंसा ली और मस्ती से उसके लाल होठो को चूसने लगा। रजनी के ब्लाउस पर उसके हाथ रख दिया और 36” के शानदार दूध को सहलाने लगा। रजनी बचने की नाकाम कोशिश कर रही थी। मेरा दोस्त कौशिक मेरी बीबी के होठों का रस पी रहा था। ये सब देखकर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया। आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोनों प्यार करने लगे। रजनी की आँखें बंद थी। शायद झेंप रही थी। कौशिक मर्द का बच्चा था। किसी औरत को कैसे पटाकर चोदना है वो अच्छे से जानता था। वो रजनी के दूध दबाने लगा तो वो “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” करने लगी। वो मेरी बीबी के दूध को ब्लाउस के उपर से गोल गोल हाथ घुमाकर सहला रहा था। मेरी तो आँखे ही फटी जा रही थी। कितना आनंद आया मुझे आज। फिर वो रजनी की कसी कसी रसीली चूचियों को दबाने लगा। रजनी सिसक रही थी। मुझे बड़ा अच्छा लगा। धीरे धीरे कौशिक ने मेरी बीबी का पूरा ब्लाउस उतार दिया। उसकी ब्रा भी उतार दी।ओह्ह गॉड!! रजनी की चूचियां गर्व से तनी हुई थी। कड़ी और बेहद कसी दिख रही थी। कौशिक रजनी की भीतरी सुन्दरता देखकर पागल हो गया और बायीं चूची को मुंह में लेकर चूसने लगा।  आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
रजनी “ओहह्ह्ह…ओह्ह्ह्ह…अह्हह्हह…अई..अई. .अई… उ उ उ उ उ…”की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। कौशिक आज मेरे सामने मेरी औरत के मम्मे चूस रहा था। ये सीन देखकर मेरा लंड पानी छोड़ने लगा। मैं कमरे में एक कोने में चुपचाप बैठा था। पूरी पिक्चर देख रहा था। कौशिक रजनी पर पूरी तरह से हावी हो गया। रजनी के बूब्स गोरे गोरे गेंद की तरह थे जो बेहद सेक्सी दिख रहे थे। वो रजनी की उभरी निपल्स को दांत से काट काटकर चूस रहा था। मजे लूट रहा था। धीरे धीरे रजनी भी चुदने को राजी हो गयी और कौशिक का पूरा साथ देने लगी। पर रजनी ने अपनी आँखें खोली नही बंद ही रखी। कौशिक उसकी काली काली निपल्स को चूं चूं की आवाज करके चूस रहा था। उसके 20 मिनट तक रजनी के रसीले आमो का स्तनपान किया।

फिर मेरे सामने रजनी की शादी कौशिक ने अपने हाथ से उतार दी। उसका पेटीकोट उतार दिया, फिर ब्रा भी उतार दी। रजनी ने अपनी दोनों टांगे खोल दी। कौशिक रजनी का भोसडा देखकर पागल हो गया। लेटकर रजनी की चूत चाटने लगा। वो जल्दी जल्दी चूत के रस को पी रहा था। मेरी बीबी रजनी “आआआअह्हह्हह…..ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” की आवाजे निकाल रही थी। सुख सागर में रजनी भी डूब गयी थी। उसे चूत पीलाना अच्छा लग रहा था। कौशिक जल्दी जल्दी उसकी चूत पी रहा था। फिर उसने अपने सब कपड़े उतार दिए। नंगा हो गया। उसका लंड 7” लम्बा और 2” मोटा था। उसने जल्दी से रजनी के भोसड़े में अपना ताकतवर लौड़ा सेट किया और धक्का दिया। लंड अंदर घुस गया। अब कौशिक मेरी बीबी को जल्दी जल्दी चोदने लगा। ये देखकर मेरी बरसों पुराना सपना पूरा हो गया। मेरी औरत मेरी आखों के सामने एक गैर मर्द से चुद रही थी। कौशिक किसी चोदू मर्द की तरह जल्दी जल्दी रजनी की चूत में लंड अंदर बाहर करने लगा। मुझे मौज आ गयी। धीरे धीरे रफ्तार बढ़ गयी। कौशिक किसी कुत्ते की तरह रजनी की दोनों टांग उठाकर उसे पेल रहा था। खूब सम्भोग किया। पूरा बेड चर चर की आवाज करने लगा। रजनी की पलंग तोड़ चुदाई हो गयी। अंत में कौशिक ने रजनी की चूत में ही माल छोड़ दिया। मेरा सपना पूरा हो गया था। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर जरुर दे। DMCA.com Protection Status  आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

कहानी शेयर करें :
loading...