चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

दीदी के ससुराल में उसकी ननद, सास और जेठानी को खूब चोदा Part – 2

new chudai stories दीदी के ससुराल में चुदाई की कहानी शुरू हो चुकी है, अब मैं आप को आगे की कहानी सुनाता हूँ, रात को मैंने दीदी की ननद रेखा की चुदाई की मेरी पहली चुदाई थी मेरे लंड की चमड़ी थोड़ी छील गयी थी, मुझे लंड में जलन हो रही थी। सुबह रेखा मेरे कमरे मे आयी और मुझे उठाते हुई बोली मेरा सोना बाबू उठ जाओ चाय लाई हूँ पीओ और जा कर फ्रेश हो जाओ। मैं उठा और रेखा को किश किया रेखा किचन चली गयी मैं चाय पिकर फ्रेश हुआ और थोड़ी देर में दीदी मुझे नास्ता करने के लिए बुला ली, नास्ते के लिए हम सब बैठ गए। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

जीजा जी और उनके भाई भी थे हम सब ने नास्ता किया आज घर की सभी औरतों के चहरे पर अलग ही खुशी थी, वो सब जानती थी आज उन्हें चुदाई का सुख मिलने वाला है। हम सब ने नास्ता किया उसके बाद जीजा जी और उनके भाई अपने दोस्त की सादी में जाने के लिए निकल गए और जाते हुए बोले घर में सब का ख्याल रखना हम लोग कल दोपहर 12 बजे तक वापस आ जाएंगे। इसके बाद मैं टीवी देखने लगा सभी औरतें किचन में खाना बनाने लगी। 2 बजे हम सब ने खाना खाया, खाना खाते समय रेखा मेरे बगल में बैठी थी और मुझे अपने हाथ से खिला रही थी, दीदी की जेठानी माया मुझे बड़े प्यार से शर्मा कर देख रही थी और दीद की सास ललिता बोली अच्छे से खा ले बेटा तुझे बहोत मेहनत करनी है आज। मेरी दीदी और सभी औरतें हसने लगी मैं भी हंस पड़ा, खाना ख़तम कर के मैं थोड़ा आराम करुगा बोल कर अपने कमरे में आ गया।

मैं लेटा हुआ सोच रहा था रात को कैसे सब की चुदाई करुगा और कितना मजा आएगा मेरा लंड खड़ा हो गया था। दीदी की सास कमरे में आई और बोली बेटा तूने कल रात रेखा को जो मजा दिया है आज मुझे और माया बहु को भी दे दे मैं बोला – अम्मा जी रेखा बोली है रात को करेंगे। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। दीदी की सास बोली बेटा रात को तो सब मिल कर करेंगे अभी तू मुझे और माया को चोद दे, हम दोनों से रुका नहीं जा रहा है। मैं बोला ठीक है दीदी की सास माया को आवाज दे कर बुला ली साथ में मेरी दीदी और रेखा भी आ गयी।

मैं अपनी दीदी को देख कर शरमा गया और बोला दीदी आप जाओ मैं आप के सामने नहीं कर पाऊगा तभी दीदी की सास ललिता बोली रेखा तू भी जा अभी ये मुझे और माया को चोदेगा। दीदी और रेखा चली गयी, दीदी की जेठानी माया और दीदी की सास ललिता मेरे पास आ कर बैठ गयी और बोली बाबू शुरू करें ? मैं उठा और माया जो अभी तक 29 साल की उम्र में भी कुवारी थी उसे पकड़ कर चूमने लगा उसके बूब्स मध्यम आकर के थे जिसे मैं ब्लाउज के ऊपर से ही दाबने लगा तभी दीदी की सास पीछे से आयी और मुझे पकड़ ली अभी मैं माया की बूब्स मसल रहा था और दीदी की सास पीछे से मुझे लिपटी हुई थी मैं पहले माया की साड़ी खोला उसके बाद ललिता की साड़ी उतार दिया दोनों ब्लाउज और पेटीकोट में थी। मैं दोनों के बारी बारी ब्लाउज और पेटीकोट उतर दिया अभी माया और ललिता ब्रा पेंटी पहनी हुई खड़ी थी मैं माया को बोला मेरे कपडे उतरो तभी दीदी की सास कूद पड़ी और मेरे कपडे निकल कर फेक दी। बुढिआ में कुछ ज्यादा ही गर्मी थी। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। मैं चड्डी में खड़ा था मैंने माया की ब्रा और पेंटी निकल दी और उसको बेड पर लेटा दिया माया के चूत में हलके बाल थे उसने 4-5 दिन पहले ही क्लीन किया होगा।
दीद की सास खुद से ब्रा पेंटी उतार मेरी चड्डी निकाल दी, मेरा लंड देखी और बोली वह क्या लंड है ऐसा मैं आज तक नहीं देखी माया उठी और वो भी मेरे लंड को घूरने लगी।

दीदी की सास के चूत में बड़े बड़े बाल थे सायद उसने महीनो से साफ़ नहीं किया था।

माया तो खूबसूरत थी ही दीदी की सास 52 साल के उम्र में भी कमाल की दिख रही थी। मैं माया की चूत चाटने लगा और दीदी की सास माया के मुँह में अपनी चूत सटा कर चटवाने लगी मैं बोला आप लोग एक दूसरे की चूत चाटती हो क्या दीदी की सास बोली हाँ  रेखा, माया और मैं आपस में एक दूसरे की चूत चाट कर ही इतने सालों से अपनी वासना मिटा रही है।

2 मिनट ऐसे चूत चाटने के बाद मैं उठा, माया और ललिता दोनों बैठ कर मेरा लंड चूसने लगी दीदी की सास ललिता मेरी गोटिया चाटने लगी मैं मजे से खड़ा हो कर चुसवा रहा था। 5 मिनट बाद मैं माया को उठा कर बिस्तर पर लेटा दिया दीदी की सास माया को अपनी चूत चटाने लगी मैं माया की चूत में लंड डालने लगा लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था कुवारी औरत को चोदने का ये मेरा पहला मौका था मैं एक जोर का धक्का दिया और मेरा लंड का सूपड़ा माया की चूत को चीरते हुए अंदर घुस गया। माया के मुँह में ललिता की चूत थी उसकी चीख भी नहीं निकल पायी मैं एक और जोर का धक्का दिया पूरा लंड अंदर माया की चूत की गहराई में चला गया माया की चूत से खून निकलने लगा और मेरे लंड पर पूरा खून लग गया मैं धीरे धीरे धक्के देने लगा, माया को दर्द हो रहा था लेकिन मैं रुका नहीं और चोदने लगा। 2 मिनट बाद माया निचे से धक्के मारने लगी माया पुरे मजे में थी और मैं उसकी चूत चोद रहा था। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दीदी की सास बोली बाबू रुक जाओ अभी माया को थोड़ा आराम दो मुझे चोद अब मैं माया की चूत से लंड निकाल दिया। दीदी की सास टांग उठा कर लेट गयी इस बार माया ललिता के मुँह में चूत डाल दी और चाटने को बोली ललिता माया की खून लगी चूत चाटने लगी। मैं ललिता की चूत में लंड डाला ललिता की बूढी चूत पूरी तरह ढीली पड़ चुकी थी पूरा लंड आराम से अंदर चला गया मैं फुल स्पीड में चोदने लगा 5 मिनट में ललिता की चूत पानी छोड़ दी। अब माया उठी और दोनों अगल बगल लेट गयी। मैं माया की चूत को चाटने लगा। दीदी की सास की चुदाई पूरी हो गयी थी लेकिन उसकी हवस नहीं मिटी थी वो पीछे से मेरा गांड चाटने लगी मैं माया की चूत चाट कर उसे चोदने के लिया उठाया और डॉगी स्टाइल में पीछे से उसकी चूत में लंड डाल कर चोदने लगा , माया की 2-4 मिनट चुदाई करते हुई माया अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह्ह्ह्हह इस उम्मम्मम्म करने लगी माया की गांड पे धक्के लग रहे थे इसलिए फच फच की आवाज आ रही थी। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

2 मिनट और चोदने के बाद मैं निचे लेट गया और माया को मेरे लंड पर बैठ कर चोदने को बोला माया उछल उछल कर चोदने लगी 5 मिनट में मेरा लंड पानी छोड़ दिया साथ ही माया भी झड़ गयी हम दोनों लिपट कर सोये गए। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मेरे पीछे से दीदी की सास लिपट गयी, इतनी चुदाई के बाद मैं थोड़ा थक गया और बोला मैं सो रहा हु रात को सब को एक साथ चोदना भी है। माया और ललिता ठीक है बोल कर चली गयी।
जाते हुए दीदी की सास रेखा को आवाज दी और बोली बाबू को आ कर सुला दे रेखा। मैं खुस हो गया मुझे रेखा की बाहों में अच्छी नींद आयी थी, रेखा की खुसबू मुझे दीवानी बना देती है। रेखा आ गयी हम दोनों ने किश किया और मैं रेखा को लिपट कर सो गया कब नींद आयी पता ही नहीं चला।

रात के 8 बजे मेरी नींद खुली रेखा मेरे बगल में नहीं थी मैं बाहर गया और देखा सब किचन में काम कर रही है मैं बाथरूम जा कर फ्रेश हुआ मेरी नींद पूरी हो गयी थी अब मुझे अच्छा लग रहा था और मैं रात की चुदाई के लिए तैयार था।
आगे की कहानी पार्ट 3 में , कहानी के तीसरे भाग में आप को पता चलेगा कुछ नया ,,, इसलिए इन्तजार करें।
DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :