चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

बुआ के ननद से सेक्स

loading...

दोस्तो मेरा नाम राजन है और हाजीपुर, बिहार का रहने वाला हूँ! मै आपके
साँथ एक कहानी शेयर करना चाहता हूँ!
बात उस समय की है जब मै 18 साल का था और मैट्रीक की परीक्षा खत्म हुई थी! उसके बाद घुमने के लिए मै अपने बुआ के घर नालंदा चला गया! बुआ के घर पर फुफा, बुआ, बुआ के ससुर और बुआ की ननद थी जो बिदवा थी! छेः साल पहले शादी के तीन महिने ही हुए थे कि उनके पति का सर पर बुखार चढ़ने से मौत होगई थी! जिसके बाद से वह यहीं रहने लगी! बुआ के ननद का नाम रीता है वह 28 साल की थी उनका फीगर 35-30-35 है! उनके स्तन गोल गोल बड़े हैं! मै उनको रीता आंटी बुलाता हूँ!
वह हमेशा खामोश रहती थी!
उस दिन रविवार था सुबह उठ कर मै टोय्लेट गया! टोयलेट और बाथरूम के बीच एक भेन्डलीटर था जिससे बाथरूम से आवाज आरही थी! बाथरूम मे रीटा आंटी ही नहा रही थी क्यों कि वह सुबह मे सबसे पहले उठती है! कल रात को ही मै मोबाईल पर ×××वीडीयों देखा था जिससे मेरे मन मे गलत विचार आने लगें! फिर मै पाईप पर चढ़कर भेन्डलीटर से झांकने लगा! बाथरूम के उस नजारे को देखकर पूरी तरह वासना से भरगया! रीता आंटी नहते समय अपने दोनो चुचियों को मसल रही थी फिर वह अपने पेटीकोट मे हाथ डालकर अपनी चूत को सहलाने लगी! यह सब देखकर मै नीचे उतकर मूठ मार दिया! इसके बाद मै उनके चक्कर मे रहने लगा! अधिक समय मै उन्ही से बातें करता था! बस एक मौके की तलास थी कि कैसे उनसे सेक्स करूँ!
रात मे लाईट कटी हुई थी और गर्मी थी इसलिए बुआ के ससुर को छोर हम सभी छत पर सोने के लिए चलेगयें! फिर लगभग दस बजरहा थी कि अचानक लाईट आगइ जिस पर बुआ और फुफा नीचे अपने रूम मे चले गयें! पर मै और रीता आंटी उपर ही सोये रहें! मुझे पूरा विश्वास होगया कि आज मेरी कामना जरूर पूरी hogi पर मुझे डर भी लग रहा था कि कहीं रीता आंटी ने विरोध कर दिया तो मै कहीं का नही रहूंगा! पूरी तरह से मेरी बदनामी हो जाएगी! और एक तरफ सुबह बाथरूम का सीन दिमाग मे आरहा था जिससे कन्फर्म था कि इन्हे भी सेक्स करने का मन करता होगा! वैसे भी सादी के तीन माह मे ही इनके pati मर गयें थे!
इस पर मै रिस्क लेने को तैयार हो गया!
मैने अपना बिछावन उठाकर उनके बगल मे बिछकर सोगया! पूर्निमा की रात थी जिससे उनका बदन दिख रहा था उनकी उभरी हुइ उँची छाती थी और वह पैर फैलाकर सोई हुई थी! मैने धीरे से अपना हांथ उनके एक चुची पर रख दिया कुछ समय तक रखा ही रहा रीता आंटी सोइ ही रही कोइ हलचल नही हुआ! मेरे दिल का धरकन तेज होरहा था! फिर मै उनके चुची को धीरे धीरे दबाने लगा! उनका धरकन तेजी से चलने लगा पर वह कोइ हलचल नही की! फिर मै दुसरे चुची को दबाने लगा! मेरा छः इन्च का खड़ा हो गया था! अांटी के चुची भी टाईट होगई थी फिर मै उनके ब्लाउज का हुंक खोलना शुरू किया और चुचियों को बाहर कर दिया फिर उनके चुचियों को मसलने लगा! उनकी चुचियां बड़ी थी और निप्पल उभरे हुए थें! जब इसपर भी वह नही जगी तो मै समझ गया कि वह सोने का नाटक कर रही है और वह भी मजे लेरही है!
फिर मैने उनके चुचियों को मुह से चुसना शुरू किया और जीभ से निप्पल को झटका देने लगा! वह तेजी से सांस लेरही थी! फिर मै उनके सारी को ढ़ीला कर के पेटीकोट का नारा खोलदिया और एक हांथ को अंदर डाल कर उनके चूत को सहलाने लगा! उनका चूत मुलायम था और फूला हुआ था! उस वक्त रीता आंटी सीसकी लेरही थी! मै एक हांथ से उनकी चूत सहलारहा था एक हांथ से उनकी एक चुची मसलरहा था और एक चुची को मुह मे ले चुस रहा था! थोरी देर बाद वह अचानक करवट घुम गइ! फिर मै सारी और पेटीकोट को नीचे घसकादिया उनकी गांड बहुत ही सुन्दर और सुडौल थें! मैने उनके गांड को जोर से मसलने लगा फिर अपने पैंट को उतार कर अपना लंड उनके गांड के बीच मे सटा दिया और चुचियों को फिर से मसलने लगा! फिर मैने उनको सीधा कर के उनके दोनो पैर को फैलाकर रीताआंटी के बुर मे अपना लंड घुसा दिया! आंटी के मुह से ओ…ह.. निकल रहा था! मैने अपने छाती के निप्पल उनके निप्पल से सटा दियें थे और तेजी से उनका चूत चोदरहा था! चोदते समय रीताआंटी ने अपना हांत मेरे चुतर पर रखकर सहलारही थी बहुत मजा आरहा था! पांच मिनट बाद मेरा माल अंटी के ही बुर मे झड़ गया! कुछ देर तक मै अपना लंड बुर मे ही घुयाय हुए परा रहा! बाद मे उठकर कपरा पहन कर मै नीचे रूम मे आकर सोगया! सुबह मे रीताआंटी से मेरी नजरे नही मिल रही थी बहुत शर्म आरहा था! कुछ देर बाद उन्होने मुझे पैसे देकर गर्भनिरोधक गोलीयां मंगवाया! मै एक महिने तक वहां रहा और रीता आंटी से सात बार और सेक्स किया!

loading...
कहानी शेयर करें :
loading...