चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मुझसे बोली तुम्हारा वीर्य मेरी गांड में डाल दो प्लीज़

loading...

sexy stories मेरा नाम सुजय है और मैं बंगाल का रहने वाला हु. मैं गुडगांव में जॉब करता हूं. में  दिखने में बहुत सुंदर हूं और सेक्सी भी हूं मेरी हाइट 5 फुट 5 इंच है. मैं ठीक ठाक कमा लेता हूं और मैंने सेविंग भी ठीक ठाक कर रखी है. मेरी हाइट बहुत ज्यादा नहीं है और भीड़ मैं चलना मुझे पसंद नहीं है उसकी वजह से मेरा नेटवर्क फिलहाल कम है.

यह चुदाई स्टोरी शुरु होती है दो साल कॉरपोरेट में काम करने के बाद. उत्तेजना मेरे मन में काम की हमेशा से ही रही है. पर जब पॉलिटिक्स बहुत हो और साथ देने वाला कोई ना हो तो इंसान को अपना साथी खुद चुज करना पड़ता है. मेरा बोस बहुत बड़ा दारु बाज है, जो उसे दारु पिलाता है वह उसी का फ्रेंड हो जाता है मैं दारू नहीं पीता हु और ना ही पिलाता हूं. अकेली जान करे तो क्या करें? टाइम पास करने को कुछ नहीं बात करने को लिए पास में कोई नहीं. मैं अपनी ऑफिस में देखता रहता हूं कि कौन क्या कर रहा है? इसी बहाने मुझे लोगों को जानने का मौका मिलता है. मेरा ऑफिस फ्लोर बहुत बड़ा है और तिन अपार्टमेंट उसमें काम करते हैं. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

एक दिन मुझे मौका मिला एक लड़की के बारे में जानने का एक दिन मुझे मौका मिला एक लड़की के बारे में जानने का जो ऑफिस में नई नई आई हुई थी. मेरी नॉलेज से इंप्रेस होकर वह मुझसे बात करने लगी. मैं क्लाएंट सोलूशन में उसकी हेल्प भी करता हूं. उसे मुज से बात करना अच्छा लगता था क्योंकि की कंपनी में कोन कैसा हैं, यहां कैसे काम करना है यह सब कुछ उसे मुझ से मालूम पड़ता रहता था. इस लड़की का फिगर एक बार जो कोई भी देख ले वह एकदम से पागल हो जाए ऐसा था. और उसे देखने वाला तो नंगा होकर मुजरा करें ऐसा सेक्सी था.

loading...
loading...

जैसे आज बारिश हो रही है वैसे ही एक दिन बारिश हो रही थी और वह भीगी हुई ऑफिस में आई क्योंकि उसके पास छाता नहीं था और वह गाड़ी से ही आई थी लेकिन गाडी को रखने के लिए पार्किंग में जाना पड़ता था और  पार्किंग से ऑफिस का डिस्टेंस ईतना ज्यादा है कि बारिश में चल कर आने वाला आराम से एकदम भीग जाए कोई भी इंसान या जानवर या फिर कोई चीज.

इसकी टॉप उसके भीगे बदन से पूरी तरह से चिपक रही थी जिससे उसके बूब्स बाहर को आ रहे थे और ध्यान से देखने पर उसका निपल भी दिख रहा था. वह जैसे ही अंदर घुसी हर कोई अपने लंड पर हाथ रख कर उसकी कामुकता की तारीफ करने लगा. तो कोई अपनी छाती या बाल पकड़कर बोला, “भाई यह लड़की तो माल है माल”, दिमाग खराब कर रखा है इसने, जब से इस ऑफिस में आई है तब से उसके बिना कुछ सुजता ही नहीं हे. तो कोई बोला कि भाई इसने आज तक कितनो को दी होगी? तो कोई वॉशरूम में जा कर मुठ मारने लगता है.

उस दिन वह बहुत पतले से कपडे की लेगीन पहन कर आई हुई थी. भीगने की वजह से लेगीं उसकी भड़काऊ बदन को चिपक कर उसके बदन को जरूरत से ज्यादा दर्शा रही थी.

जैसे कि मैंने बताया था कि वह मुझसे बात करती है, तो वह सबसे पहले मेरे पास आई और बोली की सूजय देखो मेरे साथ क्या हुआ? और जो मैंने उसे ऊपर से नीचे तक देखा तो मैंने अपनी आंखें उसकी जोशीली जवानी भरे बदन से नहीं हटा सका. मेरी आंखों में उसके बदन के हर पार्ट को स्केन कर अपनी मेमोरी में स्टोर कर लिया था. और मुझे ऐसा लगा कि मेरा मुठ निकल आएगा.

उस दिन पूरे दिन बारिश हुई थी और बहार बारिश की वजह से ठंड भी बहोत बढ़ गयी थी. उसने मुझे अपनी गाड़ी में चलना ऑफर किया के कई बार इंसिस्ट करने के बाद मैंने उसकी गाड़ी में चला गया. मेरा घर पहले पढ़ता है, और उसका थोड़ा सा दूरी पर आता हे. उस वक्त मौसम बहुत ठंडा होने की वजह से मेरे मुंह से एकदम से एकदम निकला कि आज मेरे हाथ के मुंग की दाल के पकोड़े और मसाला चाय हो जाए? तूम्हारा क्या कहना हे?  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

उसने कहा ठीक है चलो, कल वैसे भी सेकंड सेटरडे है और पकोड़े और मसाला चाय का कोम्बिनेशन तो बारिश से अच्छा और कब लगेगा, वह बहुत खुश हो गई थी.

सो, मैंने बात कर के पता किया कि उसका रिसेंटली कोई बॉय फ्रेंड नहीं है, पहले था. मैंने उसे पूछा कि आगे क्या? तो वह बोली कि अब कोई अच्छा मिला तो मैं ठीक हूं बस कोई जीक जीक नहीं होनी चाहिए. तो मैंने उसे पूछा कि ऑफिस में उसे किस का नेचर पसंद है. तो उसने कहा कि सबसे पहले तो तुम इसका मतलब ऐसा नहीं कि बाकी लोग खराब हैं या अच्छे नहीं हैं, लेकिन तुम बहुत अच्छे इंसान हो. तो मैंने कहा अच्छा सच में? और उसने जब उसने हां कहा तो मैं समझ गया उसका मतलब.

मैंने उसे पूछा अगर तुम्हे मेरे साथ तुम्हारा नेक्स्ट लिविंग रिलेशन शिप स्टार्ट करने को कहा जाए तो तुम्हें कैसा लगेगा? और इस बार मैं एकदम से शोक हो गया क्योंकि उसने मुझे कहा कि हा क्यों नहीं?

उसके बाद मैंने उसे किस किया और उसके गालों को और लिप्स पर किस किया. मैं उसे अपने बेड रूम में लेकर गया. मैंने उसके बूब्स को जोर से दबाना शुरु कर दिया. उसने आवाज निकालना शुरू कर दिया और वह सेक्सी आवाजें निकाल रही थी. मैं तो स्वर्ग में उड़ रहा था मुझे ऐसा अच्छा कभी भी नहीं लगा हुआ था.

फिर मैंने उसकी टॉप को उतारने की जगह उसकी टॉप को फाड़ दिया उसे दो तीन झटके लगे लेकीन वह ठीक थी. फिर में उसके बोबे को चूसने लगा एक छोटे बच्चे की तरह. मुझे अभी भी याद है कि वह उस वक्त मेरे शरीर पर अलग अलग तरीके से हाथ लगा रही थी. मेरी गांड पर वह बार बार दबाव दे रही थी. और मेरी गर्दन पर वो अपनी एक उंगली से मुझे जानवर बनने पर मजबूर कर रही थी.

मैंने उसे उल्टा किया तो वक्त थोड़ी जुक गई बेड़ का सपोर्ट लेकर. और मेने उसकी लेगी फाड़ दी. अब उसका 36-26-36 का फिगर मेरे सामने था और मेरा लंड यह देखते ही जड गया था.

मैंने अपना मुंह उसकी चूत पर डाल दिया और मुझे इस तरह से देख रही थी कि आप मुझे चोद डालो और तुम्हें जो करना है वह मेरे साथ कर लो, मैं तुम्हें ना नहीं कहूंगी. फिर मैं उसकी चूत के बीच में अपना लंड रगड़ने लगा. मैंने देखा वो वर्जिन नहीं है उसकी चूत देख कर लगता था कि वह कम से कम नहीं तो छह सात बार चूदी हुई है. मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा की लड़की एक्सपीरियंस है तो मुझे बहुत मजे देगी.

तो अब बारी आई चूत मारने की. जब मैं उसकी चूत मार रहा था तो उसका दूसरा छेद अंदर बाहर हो रहा था और ऐसा लगा मानो उसके दूसरे छेद को कोई बड़ी सी चीज बार बार और बहुत अंदर तक घुसाई गई है. तो मेने चोदते हुए उसे कहा तुम्हारी चूत किसी गुफा की तरह लग रही है में उसे देख कर एकदम से दांग रह गया हु.

उसके बाद उसने जो जवाब दिया वह सुन कर मैं बहुत चकित हो गया उसने कहा क्या तुम इस का मजा लेना चाहते हो. मैंने कहा हां. इसका मतलब मुझे सामने से अपनी गांड मारने की परमिशन दे रही थी.उसने कहा की मेरी गांड में हर चीज को लेनेकी शक्ती हे. अभी तक मेने उसकी चूत मारना बंद भी नहीं की थी और वह मुझे अपनी गांड मारने के लिए कह रही थी. बाद में हम दोनों किचन में गए और मैंने एक बोतल ली और वह उसके गांड में डाल दी. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मैं उसकी चूत में चोदने लगा औए मेने उसकी गांड में बेलन डाल दिया और मैं उसके फोटो मेरे फोन से लेने लगा. फिर मेने मेरी पसंद की पोर्न मूवी चालू कर दी मेरी पसंदीदा तबेला डेंजर की और मैं वैसा करता गया जैसे वह कर रही थी. चेतना की चूत में अपनी उंगलियां को घुसा दी और उसे मास्टरबेट करवाने लगा. वह बहुत मदहोश होने लगी थी हल्की सी उसकी आंखें ऊपर की ओर चढ़ने लगी और उसका पूरा बदन झटके मारने लगा. मैंने कसम खा ली थी की इसका पानी निकाल के ही रहूंगा.

जब उसने पानी निकाला तो पूरे 10 मिनट तक पानी निकाला उसे देख कर मेरी गांड फट गई और तब उसका रूद्र मेरे सामने आया. अब तक जो कर रहा था में कर रहा था और अब में सब कुछ देख रहा था और वह सब कुछ कर रही थी. उसने कहा तुम्हारा लंड मेरी गांड में रखो मैं समझ गया कि यह पागल हो गई है.

मैंने थूक से अपने मूत से  कोल्ड्रिंग से बीयर से उसके पानी से तेल से दूध से और हर चीज से उसको और खुद को नहला दिया.

उसके बाद उसने मेरे साथ गेम खेलना शुरू किया. उसने मुझसे दूर भागना शुरु कर दिया और कभी वह घर में छुप जाती. दोस्तों इमेजिन करो की तुम्हें मालूम है कि लड़की तुम्हें अपना सब कुछ देने को तैयार है और तुम उसे आसानी से ढूंढ लोगे और बाद में वह पूरी नंगी तुम्हारी बाहों में होगी. जहां जैसे जितनी देर तक उसकी चूत गांड मारना चाहो मार सकते हो, तो तुम्हारा एक्साइटमेंट लेवल कैसा होगा? बहुत ज्यादा खुशी होगी या नहीं होगी, होगी. मुझे खुशी हुई और मैं आसमान में उड़ रहा था.

पूरे घर में उसकी चूत का पानी और मेरा वीर्य फैला हुआ था और हम उस में चल रहे थे उस में लोट पोट हो रहे थे. हम दोनों चाहने लगे कि वक्त थम जाए और  कोई और काम ना हो ना किसी और से मिलना हो ना किसी और के साथ बिजी होना पड़े.

हम नंगे लेटे हुए थे और उसने मुझे बताया कि वह उस टाइप की लड़की है जिसे अपने काम और अपनी सेक्स लाइफ को अच्छी तरह से मज़े ले कर जीना अच्छा लगता है. मुझे यह सुनकर बहुत अच्छा लगा.

और अचानक से उसने अपने बूब्स जोर जोर से दबाना शुरू कर दिया और अपनी उंगली डाल कर मुठ मारना शुरू कर दिया. मेरा लंड तो खड़ा ही था पिछले 3 घंटे से मेरे लंड में से बिना हाथ लगाए वीर्य निकलना शुरु हो गया. दोस्तो सच मानो मन ही मन में डर रहा था कि अगर मैं इस चीज से बाहर नहीं आ पाया क्योंकि इस लड़की ने मुझे उसकी हरकतों से डोमिनेट कर दिया था. में  खुद को अव्वल समझ रहा था पर यह तो मुझसे 10 कदम आगे थी. 3 घंटे में 15 बार मेरा मुत निकल चुका था और इच्छा फिर भी कम नहीं हो रही थी. एक ही तरीका था इस लड़की से छुटकारा पाने का, उसे ऐसा चोदा जाए फाइनली उसकी सेक्स की भूख मिट जाए.

दोस्तों अब क्लायमेक्स था. मैंने इसे बाथरूम में लेकर गया मैंने उसे गुटनो पर बैठाया लंड उसके मुंह में डाल दिया. आधे घंटे तक लंड मुंह में देने के बाद एक बार और मेरा वीर्य छूट गया. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम अब मैंने उसकी गांड पर आक्रमण किया और एक घंटे तक गांड चोदी, गांड चोदते टाइम उसने पाच छह बार चूत का पानी निकाला और मेरा वीर्य उसकी गांड में पांच बार जा चुका था. आप इसकी कल्पना कर सकते हैं मैं जानता हूं आपको इसका यकीन नहीं होगा पर यही होता है जब आपको ना मिले और मिले तो ऐसे ही आपकी कल्पना से परे. फिर मैंने उसकी चूत में छोड़ा और यह लड़की अब थक चुकी थी.

जो कि मैं चाहता था उसने 5 बोतल बीयर पी ली थी. तो यह नशे में थी. मुझसे बोली तुम्हारा वीर्य मेरी गांड में डाल दो प्लीज़ प्लीज़. मेरे लिए करो. तुम्हारा वीर्य रस मेरी बोडी में डाल दो.

अब मेरे मन में एक बात आई, उसने मुझे बोला था कि मुझे जीक जीक पसंद नहीं है. कहीं इतनी ज्यादा सेक्स की वजह से ही तो इसकी जीक जीक होती थी इसके बॉयफ्रेंड से?

और दोस्तों जो मजा आ रहा था उस टाइम वो यह कहानी थी क्या बयान कर पायी  है. पर हां बड़े प्रेम से मैंने यह कहानी आपके साथ शेयर की अगर आपकी इच्छा हो तो आप यह कहानी औरों के साथ शेयर कर सकते हैं.

कहानी शेयर करें :
loading...