चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

अनुष्का चाची ने कहकर चूत चुदवाई

loading...

Hindi Sex मेरा नाम मुकुल है। दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी 2 चाचियाँ है— मंजू और अनुष्का। stories मंजू बड़ी चाची है। वो तो बहुत घमंडी है और सीधे मुंह बात भी नही करती। पर छोटी वाली अनुष्का चाची बहुत प्यारी है। वो मुझे बहुत प्यार दुलार करती है। आपको बता दूँ की मेरा अनुष्का चाची से अफेयर चल रहा है। मैंने उनसे बोलता हूँ और प्यार करता हूँ। हमारी जॉइंट फेमिली है। घर में सब लोग साथ में रहते है पर ये बात किसी को नही पता है। सिर्फ मेरे और अनुष्का चाची के बीच का राज है ये। हुआ ये था की मैं उन पर पूरी तरह से सेंटी था और जिस बाथरूम में मैं मुठ मार रहा था वहां पर अनुष्का चाची अचानक आ गयी। “अनुष्का चाची की चूत…. अनुष्का चाची की चूत” ये बोलकर मैं उनकी पेंटी अपने लंड पर लपेट कर जल्दी जल्दी मुठ मार रहा था। मैंने बाथरूम का दरवाजा भी बंद नही किया था। इतने में चाची आ गयी और अपनी पेंटी को उन्होंने पहचान लिया।
“मुकुल!! ये सब क्या है??” वो बोली
पर तब तक मुठ मारने वाला काम क्लाइमेक्स पर आ गया था। मेरे लंड पर उनकी पेंटी चारो ओर लिपटी हुई थी। मैं जैसे ही चाची की तरह मुड़ा मेरा माल छूट गया और उनके ठीक सामने ही मैं स्खलित हो गया। चाची नाराज दिख रही थी। उनका मुंह बन गया था। मैं डर गया था। indiansexkahani.com
“तुमने मेरी पेंटी खराब कर दी। अब इसे फिर से धोना पड़ेगा” वो बोली
“चाची!! मैं आपको पसंद करता हूँ। प्यार हो गया है मुझे” मैंने कहा
वो नाराज होकर वहां से चली गयी। उनकी पेंटी पर मेरा माल लग गया था। कुछ दिन तब अनुष्का चाची मुझसे नही बोली। हमेशा मुंह बनाए रहती। कुछ दिनों बाद मेरे छोटे दिनेश चाचा का ट्रान्सफर गुवाहाटी हो गया। अब चाची अकेली रहती और कोई उसने बात करने वाला नही था। उन्होंने मुझे अपने कमरे में शाम को बुलाया और दरवाजा बंद कर दिया।

“क्या चाची!! आप मेरी पिटाई करोगी???” मैंने घबराकर पूछा
“नही!! आओ इधर आओ। क्या कह रहे थे तुम उस दिन??” वो पूछने लगी
“यही की आप मुझे अच्छी लगती हो। मैं आपको प्यार करने लगा हूँ” मैंने कहा
मेरी बात सुनकर वो चुप थी। मैं तो समझ रहा था की वो अभी मुझे एक चांटा खींचकर मार देगी। पर ऐसा नही हुआ। अनुष्का चाची ने मेरा हाथ पकड़ा, उपर उठाया, अपने मुंह तक ले गयी और किस कर लिया। मैं उनको ताड़ने लगा। वो मुझसे लिपट गयी और मैं भी उनके गले लग गया।
“ओह्ह भतीजे!! कितने प्यारे हो तुम। आओ मुझसे प्यार करो” वो बोली और मुझे किस करने लगी।
मुझे तो जैसे यकीन ही नही हो रहा था। आज मेरा सपना पूरा हो गया था। मैंने भी उनको दिल से लगा लिया और उसके गालो पर मम्मी लेने लगा। आपको बता दूँ की दिन रात मुझे बस अनुष्का चाची की याद ही सताती रहती थी। दिल करता था की उनको खूब प्यार करूं और उसने शादी कर लूँ। उसके बाद खूब चोदू उनको। धीरे धीरे चाची मुझे प्यार करने लगी। वो बड़ी सुंदर लग रही थी। अनुष्का चाची की उम 24 साल की थी और अभी 1 साल पहले ही मेरे छोटे चाचा से उनकी शादी हुई थी। अभी उनके बच्चे नही थे। देखने में क्या मस्त आइटम लगती थी बिलकुल गुलाब का फूल। रंग साथ था और चेहरा सुंदर। जब चाची छत पर कपड़े डालने जाती थी तो पडोस के लड़के उनको सिर घुमा घुमाकर देखत थ। पूरा जिस्म ही बहुत सेक्सी था चाची का। मस्त माल थी वो। दूध 36” के बेहद शानदार थे और फिगर 36 30 32 का था। गोल मटोल और सुंदर दिखती थी। मैंने भी आज मौक़ा पाकर उनको दोनों हाथों से पकड़ लिया और किस करने लगा। indiansexkahani.com

मैं अनुष्का चाची से जादा लम्बा था। वो मेरे कंधे तक आ गयी थी। जब मैं जान गया की वो भी चुदने के मूड में है तो मैं भी उनको खुलकर प्यार करने लगा। उन्होंने काले रंग की साड़ी पहनी थी जिसमे वो बिलकुल दीपिका पादुकोण दिख रही थी। मैं उनकी कमर में हाथ डाल और अपनी तरह खीच लिया। हम दोनों के ओंठ आपस में छू गये और हम किस करने लगे। आज चाची चुदने के मूड में थी। वो भी मेरे लब चूसने लगी। मैं भी चूसने लगा। हम दोनों की गर्म होने लगे। काली साड़ी और काले ब्लाउस में वो कातिल लग रही थी। मैं उनकी कमर पर दोनों तरह से बार बार हाथ से सहला रहा था। उनके लब को चबा चबा कर काट काट कर चूस रहा था। आज वो मुझे चाचा की तरह प्यार कर रही थी। फिर मुझे बिस्तर पर ले गयी। अपना लेट गयी और मुझे अपने उपर खींच लिया।
“कुनाल!! आज मुझसे प्यार करेगा। बोल आज चोदेगा मुझे??” वो पूछने लगी
मैं तो चुप ही था। कुछ बोल ना सका। उन्होंने मेरा सिर पकड़ा और अपने ब्लाउस के उपर रख दिया। 36” के गोल गोल मम्मो पर वो मेरे चेहरे को जोर जोर से दबाने लगी। मतलब साफ़ था। अनुष्का चाची आप पूरी तरह से चुदने के मूड में थी। मैं भी खुल गया और हाथ से उसके दबाने लगा। उफ्फ्फ !! कितनी कसी कसी निपल्स थी उनकी। मैं हाथ लगाकर उसके सहलाने लगा। फिर दबाने लगा। अनुष्का चाची “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” करने लगी। उनको भी अच्छा लग रहा था। मैं और कस कसके प्यार करने लगा। फिर उन्होंने खुद अपने ब्लाउस की बटन खोल दी और ब्लाउस उतार खोल दिया। फिर ब्रा उतार दी।
“भतीजे!! आज तू अपने चाचा की तरह मुझे प्यार कर ले। पर देख किसी को इसके बारे में पता न चले” चाची बोली
मैं उनके नंगे दूध पर हाथ घुमाने लगा। कितनी सुंदर चूचियां थी बिलकुल गोरी गोरी और तनी हुई। चाची की निपल्स काली रंग की थी और गोल गोल काले गोले निपल्स के इर्द गिर्द थे जो बहुत सुंदर लग रहे थे। मैं हाथ से दोनों बूब्स को कस कसके दबा रहा था और फिर चाची के उपर ही मैं लेट गया और जल्दी जल्दी दूध को मुंह में लेकर मैं चूसने लगा।

loading...

वो गर्म होने लगी। मेरे चहरे पर हाथ से सहलाने लगी। मैं मुंह चला चलाकर उनके मम्मे पी रहा था। चाची मुझे पिला रही थी। साथ निभा रही थी। आज वो खुद ही चुदना चाहती थी। उनकी काली काली निपल्स मेरे मर्दाना स्पर्श को पाकर टनटना गयी थी और खड़ी हो गयी थी। मैं भी आज अपनी जवान और खूबसूरत अनुष्का चाची के पीछे पूरी तरह से पागल हो गया था। मैं मुंह चला चलाकर उसकी बायीं चूची को चूस रहा था। वो “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी।
मैंने कभी सोचा नही था चाची को चोदने को मिल जाएगा। पर आज मेरा सपना पूरा होने वाला था। मैं जी भरकर उनकी बायीं चूची को चूस चूस कर लाल कर दिया। फिर दाई वाली चूसने लगा। अनुष्का चाची बहुत गर्म हो गयी। उन्होंने अपनी साड़ी को पेटीकोट के साथ ही उपर उठा दिया। अपनी पेंटी में ऊँगली डाली और जल्दी जल्दी चूत में ऊँगली करने लगी। उनके बाल अपने आप ही लपटा झपटी में खुल गये। मैं जल्दी जल्दी उनके बूब्स चूस रहा था और वो अपनी चूत में जल्दी जल्दी ऊँगली कर रही थी। काफी देर तक ये चलता रहा। indiansexkahani.com
“चाची!! साड़ी उतारो” मैंने कहा
वो बिस्तर से खड़ी हो गयी। अपनी साड़ी कमर से खोलने लगी। मैंने अपनी टी शर्ट और जींस उतार दिया। फिर अपना अंडरवियर मैंने उतार दिया। अब नंगा हो गया। अपना 7” लंड मैं जल्दी जल्दी फेट रहा था। मेरा लंड आज अनुष्का चाची की जवानी देखकर पागल हो गया था। खड़ा हो गया था। इतने में चाची ने अपना पेटीकोट भी उतार दिया। अपनी पेंटी उन्होंने उतारकर खूटी पर टांग दी।
“आ जाओ भतीजे!! आज मेरी जिस्मासी प्यास बुझा दो” चाची बोली
वो बिस्तर पर लेट गयी। मैं भी उनके लेट गया। उन्होंने अपने पैर खोल दिए। मैं उननी चूत के दर्शन करने लगा। कितनी सुंदर सेक्सी चूत थी चाची की। बिलकुल चिकनी और कितनी मासूम दिख रही थी। लग रहा था की इस चूत ने कभी लंड खाया ही नही है पर चाचा तो जब दिल्ली में थे रोज चाची की चूत लेते थे। फिर भी वो बड़ी मासूम दिख रही थी। मैं झुक गया और जल्दी जल्दी उस पर अपनी जीभ घुमाने लगा। अनुष्का चाची “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…” की आवाजे निकालने लगी।

loading...

उन्होंने अपने दोनों हाथ पैरों को मेरे लिए खोल दिया था जिससे मैं पूरा मजा ले सकूं। मैं जल्दी जल्दी उनके भोसड़े को पीने लगा। मुंह लगा लगाकर सब रस को पी रहा था। चाची मेरी नंगी कमर और पुट्ठो पर हाथ लगा रही थी। सहला रही थी। मुझे प्यार कर रही थी। मैं चूत का सब रस पी लेता था। जल्दी जल्दी चूस रहा था। उनकी चूत का स्वाद कसैला था। बड़ा अच्छा था। मैं मुंह लगा लगाकर चूत चाट रहा था। मुझे भरपूर मजा आ रहा था। indiansexkahani.com
“भतीजे !! क्या सिर्फ उपर उपर से मजा लोगे या अंदर का मजा भी लोगे??” अनुष्का चाची बोली
मैं उनके दिल की बात समझ गया था। मैंने अपना 7” का लंड उनकी चूत पर रख दिया और जल्दी जल्दी उपर नीचे करके घिसने लगा। अब चाची से इतंजार बर्दास्त नही हो रहा था। वो अब बस चुदना चाहती थी। मैंने लंड पर हाथ रखकर चूत की दोनों फांक के बीच में रख दिया और जल्दी जल्दी उपर नीचे रगड़ने लगा। इससे चाची की चूत गर्म होने लगी। 2 मिनट मैंने ऐसा किया। वो “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” करने लगी। अब मैंने लंड को चूत में डाल दिया और जल्दी जल्दी चुदाई करने लगा। चाचा मुंह खोलकर आवाज निकालने लगी। सी सी करने लगी। मैं कमर हिला हिलाकर उनको पेलने लगा। वो मजे से चुदवा रही थी।
“ओह्ह गॉड!… ओह्ह गॉड!….फक मी हार्डर!….कमाँन फक मी हार्डर!…फक माई पुसी मुकुल !!” अनुष्का चाची बोली तो मुझे और जोश आ गया। अब तो मैं और तेज तेज उनकी चूत बजाने लगा। उनको खूब मजा मिल रहा था। बार बार अपना पेट उपर उठा रही थी। मैं रुका नही। बस जल्दी जल्दी उनका गेम बजाता रहा। उनकी चूत काफी टाईट थी। अभी शादी को सिर्फ 1 साल हुआ था इसलिए टाईट चूत थी अनुष्का चाची की। मैं जल्दी जल्दी चूत चोदने लगा। उसी तरह देख रहा था। उनका मक्खन मेरे लंड पर लग जाता था। ग्रीस का काम कर रहा था। अब मुझे फिसलन मिल रही थी। 18 मिनट गरमा गर्म सम्भोग किया मैंने। अंत में चूत में ही स्वाहा हो गया।

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...