चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

बारात में आयी लड़की को खेत में चोदा

New Sex Stories दोस्तों मेरा नाम नविन पटेल है और मैं गुजरात के नडियाद में रहता हूँ. मैं मस्त मौला छेलछबीला लड़का हूँ. मेरी उम्र 23 साल की है और मेरे छोटे भाई यानी की लंड की साइज़ करीब साडे 6 इंच की है. मैंने सब से पहली चुदाई उम्र में मेरे से 30 साल बड़ी एक पड़ोसन आंटी से की थी. और उसने भी मुझे सेक्स के बहुत सब दाव दिखाए थे लेकिन फिर वो लोग घर बेच के युएसए चले गए और मेरे हाथ से वो चूत चली गई.
आज मैं आप को अपनी एक सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ जो मैंने एक मुस्लिम लड़की को चोदा था उसकी है. दरअसल वो मेरे दोस्त के घर शादी में बारात में आई हुई थी. और शादी के माहोल में अपना भोसड़ा चुदवा के गई थी मेरे से.  आप यह चुदाई इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। 
बात दिसम्बर 2015 की है. मैं 21 साल का था और कोलेज में पढता था. मेरी दोस्त अभी की बहन गौरी की शादी थी. अभी के पापा ने आणंद वाले रोड पर एक पार्टी प्लोट बुक किया था. और उस पार्टी प्लाट के कुछ फासले पर ही हमारा खेत था. सब लोग काम में बीजी थे और जब बारात आई तो उसके सवागत के लिए हम सब गए हुए थे. मेन गेट पर ही मैंने पहली बार लूब्ना को देखा. क्या माल थी वो यार! बड़े बड़े बूब्स और लिपस्टिक में छिपे हुए गुलाबी होंठो को देख के किसी भी एवरेज मर्द के लंड में झुनझुनी हो जाये!
लूब्ना अभी के होने वाले जीजा की कलिग थी. वो नवसारी की एक मुस्लिम लड़की थी जिसका फिगर नहीं घर था पूरा. गांड मानो बड़ी सी दूकान और बोबे भी एकदम सेक्सी गोल और बहार आने को बेक़रार. शादी के फंक्शन शाम तक चलनेवाले थे. और क्यूंकि वो लोग बहुत दूर से आये थे इसलिए अभी के पापा ने नाईट हाल्ट का इंतजाम भी किया हुआ था. दुल्हन को ले के वो दुसरे दिन दोपहर को जाने वाले थे. लूब्ना से फोर्मल इंट्रो मैंने खुद ही कर लिया. वो भी मेरे को देख के समझ गई थी की मैं इंटरेस्टेड हूँ. मेरे को ये टिप आंटी ने बताई थी की जब कोई लड़की पसंद आये तो कम से कम उसको पता चल जाने दो की तुम उसे पसंद करते हो. क्यूंकि लड़कियों को जिंदादिल लड़के पसंद होते है जो डरते नहीं है.

लूब्ना भी मेरे को मस्त लड़की लगी. उसने मेरे को नडियाद की स्पेशियल चीजो के बारे में पूछा. मैंने उसे संतराम की लस्सी वगेरह बताई. और वो बोली मेरे को ले के चलो वहां. काम सब हो ही गया था इसलिए मैं अभी की बाइक ले के उसे ले के गया स्टेशन के सामने जहाँ वो लस्सी मिलती थी. लूब्ना को लस्सी पसंद आई. और उसने जम के तारीफ़ की उसकी.
फिर मैं उसे वही एक सिन्धी अंकल के पफ खिलाने ले गया जो लाइव पफ बेचते है. फिर सर्कल से निकल के यमुना पर मैंने उसे कचोरी खिलाई. और फिर वापस हम प्लाट की तरफ जा रहे थे. वो बोली विद्यानगर कितना है यहाँ से. मैंने कहा मैं आप को 20 मिनिट में पहुंचा सकता हूँ! वो बोली मैंने कबी कहा की हमको जाना है!
मैंने कहा अगर जाना हो तो. ये सुन के वो हंस पड़ी. और बोली आप को शादी अटेंड नहीं करनी है?
मैंने कहा शादी में दूल्हा दुल्हन की अटेंडेंस जरुरी होती है, बारातियों की और दुसरो की नहीं.
वो हंस के बोली, नवसारी की एक फ्रेंड है जो यहाँ विद्यानगर में पढ़ती है, उसको मिलना था.
मैंने कहा चलो फिर!
वो मेरे पीछे बैठी और मैंने बाइक भगाई. मैं जानबुझ के बिच बिच में ब्रेक लगाता था और उसके बूब्स को अपनी पीठ के ऊपर टच करता था. वो भी जैसे कुछ हुआ ना हो वैसे बूब्स घीस देती थी. और फिर बाइक के ऊपर ही उसने अपने हाथ को मेरी जांघ पर रखा और कस के पकड़ के बैठ गई. मैं समझ गया की वो भी चालू आइटम ही थी. मैं मन ही मन उसे चोदने के ख्यालों में ही था.
आधे घंटे में तो उसकी फ्रेंड के हॉस्टल पर थे हम. वो दोनों बातें कर रही थी उतने में मैंने बहार सिगरेट पी ली. और फिर उसकी फ्रेंड ने हमें आइसक्रीम हिलाई. फिर लूब्ना मेरे को बोली चलो निकलते है. हम लोग फिर नडियाद जाने के लिए निकल पड़े.
रस्ते में वही टचिंग चालु हुई. अब की लूब्ना ने हिम्मत की और मेरी जांघो को वो सहला रही थी चालु बाइक में ही. संध्या का समय हो गया था और अँधेरा होने लगा था. और फिर इस सेक्सी लड़की ने हिम्मत कर के मेरे लंड को टच कर लिया हलके से. लेकिन वो सिर्फ एक सेकंड के लिए ही था और फिर उसने फट से अपना हाथ हटा लिया. मैंने कहा पकड़ना है तो सही से पकड़ो, खून गरम कर के हाथ हटा देती हो ये अच्छा नहीं है!
और मैंने बाइक को अब स्लो कर दिया था. वो हंस के बोली, चला पाओगे बाइक पकड लिया तो?
मैंने कहा पूरा हाथ में ले के हिलाओगी फिर भी बाइक मस्त ही चलेगी. आप यह चुदाई इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
इस सेक्सी लड़की ने अब मेरे लंड को हाथ में पकड के सहलाना चालू कर दिया. वो पेंट के ऊपर से ही लंड को पकडे हुए थी लेकिन जो मजा था वो एकदम अलग ही था.

मेरे मन में ख़याल आने लगे की इसे कहा ले जा के चोदुं! क्यूंकि वो एक रंडी थी वो उसने लंड पकड के दिखा ही दिया था. पहले मैंने सोचा की होटल पर ले जाऊं फिर मुझे याद आया की खेत पर हमारे कुत्ते के सिवा कोई नहीं होना था आज क्यूंकि एक और शादी थी पडोसी के वहां और सब वही होने थे. मैंने बाइक रोकी और अपने भाई को कॉल किया जो खेत में रहता है.
मैंने उसे बोला की मैं कुत्ते का खाना ले के जाता हूँ. वो बोला अच्छा है चला जा तू क्यूंकि हमें अभी यहाँ दो घंटे लग जायेंगे.
मैंने मेडिकल पर गाडी रोकी और कंडोम लिया. और बगल की पेट शॉप से एक पेकेट डॉग फ़ूड ले लिया.
प्लाट के साइड के रस्ते से मैं अपने खेत की तरफ मुड़ा तो वो बोली अरे इधर किधर.
मैंने कहा चलो मैं तुम्हे अपना खेत दिखाऊ!
वो बोली हल भी चला के दिखाओगे ना?
मैं समझ गया की वो लंड लेने की बात कर रही थी. मैंने कहा हां हल भी चलाऊंगा और दाने भी डालूँगा अपने!
वो हंस पड़ी. शहर आ गया था इसलिए उसने अपने हाथ को हटा लिया था. एक मिनिट में ही हम लोग मेरे फ़ार्म के गेट पर थे. वहां पर दो रूम का घर बना हुआ था भैया और भाभी के लिए. मैंने उसे बहार खड़ा रख के पहले अपने डॉग को खाना दे के उसे बाँध दिया. फिर मैं लूब्ना को ले के घर खोल के अंदर घुसा दरवाजे के ऊपर ही मैंने उसको गले लगाया और उसके बूब्स दबाते हुए उसके होंठो को चूमने लगा. वो भी एकदम गरम ही थी. और वो भी एक हाथ से मेरे लंड को पकड के मुझे किस दे रही थी. मेरा लंड एकदम कडक हो चूका था. और उसके रसीले होंठो के टच ने मेरे अंदर अलग ही ऊर्जा भर दी थी. मैंने उसके दोनों बूब्स को पकड के दबोचने लगा था.
वो बोली रुको मैं कपडे उतार दूँ, सफ़ेद है गंदे ना हो जाए.
और वो मेरे सामने ही न्यूड हो गई. बाप रे नंगी होने के बाद तो वो और भी बला लग रही थी. उसके बूब्स भले ही इतने बड़े थे लेकिन वो काफी टाईट थे, ढीले नहीं पड़े हुए थे. और उसके निपल्स एकदम गुलाबी थी. मैंने उसके बूब्स को मुहं में ले के चुसना चालू कर दिया. भाई के बेड के ऊपर गिर पड़े हम दोनों. और जल्दी ही वो और मैं 69 पोजीशन में आ गए. उसकी चूत की फांको को खोल के मैं उसकी लिकिंग कर रहा था. और उधर लूब्ना ने पुरे लंड को मुहं में ले के चुसना चालू कर दिया था. वो मेरे बॉल्स को दबा रही थी और लंड को चूस रही थी. वाऊ क्या मस्त मजा आ रहा था मेरे को उसके ऐसे सेक्सी ढंग से लंड को चूसने से. मैं तो सातवें आसमान के ऊपर था जैसे!
फिर उसने बोला चलो अब डाल दो यार, बहुत मुहं में दिया मेरे

मैंने लंड के ऊपर कंडोम पहना दिया. वो अपनी मोटी जांघो को फैला के लेट गई. मैंने देखा की उसकी चूत नहीं लेकिन भोसड़ा हुआ पड़ा था. शायद एक दो दर्जन लोगों का लंड पहले इस छेद में गया हुआ था मेरे से पहले. मुझे लगा की वो बहुत ढीली गली होगी!
लेकिन लंड को अंदर देते ही मुझे लगा की भले ही वो भोसड़ा ढीला था लेकिन लूब्ना को ये कला पता था की ढीले भोसड़े को कैसे टाईट करना है. लंड अंदर ले के उसने अपने मसल को खिंच लिया. और लंड के ऊपर प्रेशर सा बना दिया. वो ढीला भोसड़ा लंड को दबा बैठा और मैंने फच फच आवाज के साथ उसे चोदना चालू कर दिया.
चोदते हुए भी मैं उसके बूब्स को चूस रहा था और उसके गले को किस कर रहा था. वो बोली देखो अपने होंठो के निशान मत बना देना बस, वरना जो करना है कर सकते हो!
मैंने उसके गले को छोड़ के होंठो को किस किया और निचे एकदम जोर जोर से चुदाई चालू कर दी. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
लूब्ना के मुहं से अह्ह्ह अह्ह्ह यह्ह्ह्ह अह्ह्ह्होह्ह्ह अह्ह्ह्ह निकल रहा था. और मैं उसे और भी जोर जोर से चोदता गया. वो भी अपनी गांड को उचका उचका के लंड ले रही थी. और मैं उसे जोर जोर से चोदता रहा कुछ देर ऐसे ही. आप यह चुदाई इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया. कंडोम भी बदल दिया और पीछे से उसकी गांड को खोल के उसकी चूत में अपना लंड घुसा दिया. पीछे से घुसाने से लंड पूरा के पूरा टट्टे तक अंदर चला गया था. और अब की ग्रिप भी एकदम टाईट थी मिशनरी के मुकाबले में. वो अब अपनी गांड को आगे पीछे कर रही थी और मैं उसकी गांड पर चमाट लगा के उसको चोद रहा था.

करीब 10 मिनिट तक मैंने लूब्ना को डौगी स्टाइल में चोदा. और फिर मेरे लंड का पानी निकल पड़ा. मैंने धीरे से कंडोम निकाला ताकि वीर्य की एक बूंद भी उसकी चूत में ना निकले. और फिर हम दोनों ने कपडे पहन लिए. वो बोली नवसारी आते हो की नहीं? मैंने कहा नहीं कभी नहीं आया उधर, बस मुंबई जाने के वक्त ट्रेन में आता है नवसारी.
वो बोली मैं अपनी मीटिंग के लिए अक्सर अहमदाबाद आती हूँ, बुलाऊंगी तो आओगे मिलने के लिए?
मैंने कहा बुला के तो देखना आता हूँ की नहीं वो पता चल जाएगा.  आप यह चुदाई इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
फिर हम दोनों बाइक पर प्लाट पर आ गए. अभी ने मुझे देखा इसलिए उसका गुस्सा कम हो गया था. वो जान गया था की मैं इस लड़की का काम खत्म कर के ही आया होऊंगा.
मैं उसे चाबी देने के लिए गया तो उसने गुजराती में बोला, बिबडी चोदवा गयो तो ला शु? (क्या लड़की को चोदने के लिए गया था?)

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :