चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

बनारस वाली नीतू भाभी की प्यासी चूत मारी

loading...

indiansexkahani.com चोदने की कहानियाँ पढने वाले सभी दोस्तों को मेरा प्यार. मेरा नाम रोकी है. और मैं बहुत दिनों के बाद अपनी कहानी लिख रहा हूँ. मुझे पूरी उम्मीद है की आप सब को मेरी ये स्टोरी पसंद आएगी. अब मैं सीधे ही कहानी पर आता हूँ!
दोस्तों ये बात आज से कुछ 3 महीने पहले की है. तब मैं मुंबई गया हुआ था अपने मामा के बेटे की शादी के लिए. हर कोई लड़का शादी में जाता है और सोचता है की किसी को लड़की को पटा कर कुछ करने का मौका मिल जाये तो अच्छा है. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम 
मैं भी यही सब कुछ सोच कर गया हुआ था. वहां मेरे बहुत सारे रिलेटिव और जान पहचान के लोग आये हुए थे. कुछ देर के बाद मेरी नजर मेरे एक दूर के रिलेटिव के ऊपर पड़ी. वो अपनी वाइफ के साथ वहां पर आया हुआ था. और उसकी वाइफ को देख के मेरा मुहं खुला के खुला ही रह गया. कजिन की वाइफ का नाम नीतू था और वो देखने में बड़ी ही फेशनेबल और हॉट थी. वो उंचाई में लम्बी थी और उसका फिगर 34 30 36 का था. सब की ही नजरें उसके ऊपर गडी हुई थी. सारे अंकल और सब लड़के भी उसको ही देख (भांप) रहे थे.
मेरा और नीतू भाभी का भी इंट्रो हुआ. पहले कुछ नोर्मल सी इधर उधर की बाते हुई. लेकिन कुछ ख़ास नहीं. वो एक बेंक में जॉब करती है. पुरे फंक्शन में मैं भाभी के साथ बात करने के मौके की तलाश में ही रहता था. और जब भी उसके पास होने का चांस मिलता मैं उसके पास खडा हो जाता था. लेकिन कुछ ख़ास तो नहीं हुआ.. फिर मैंने हिम्मत जुटा कर भाभी से बोला: मेरे को आप से कुछ बात करनी है.
नीतू भाभी: हां बोलो ना क्या हुआ?
मैं: आप मेरे को बहुत ही सुंदर लग रही हो, और इस ब्लेक साडी में तो आप एकदम ही सेक्सी लग रही हो!
नीतू भाभी: अरे खामखा क्यूँ मेरी जूठी तारीफ़ कर रहे हो, और किसी ने तो ऐसा कुछ भी नहीं कहा मुझे.
मैं: बाकी सब लोग अंधे होंगे फिर.
फिर वो जोर जोर से हंसने लगी. फिर हमारी यहाँ वहां की थोड़ी बात हुई. फिर मैंने फेसबुक के ऊपर उन्हें रिक्वेस्ट भेज दी जिसे उन्होंने अक्स्पेट कर ली. फिर शादी के बाद मैं वापस दिल्ली आ गया और वो अपने घर बनारस चली गई. बहुत दिन तक हमारी बात नहीं हुई और फिर एक दिन अचानक उनका ऍफ़बी पर मेसेज आया.
नीतू: हल्लो कैसी हो?
मैं: भाभी मैं ठीक हूँ.
नीतू भाभी: इतने दिन हो गए और ना हाई हेलो की फुर्सत, मेरे को भूल गए क्या देवर जी?
मैं: अरे भला आप को कोई कैसे भूल सकता है, आप भूलने की चीज थोड़ी है भाभी.

नीतू भाभी: अच्छा, भला ऐसा क्या है मेरे अंदर?
मैं: ख़ास तो कुछ है, सब कुछ बता नहीं सकता हूँ मैं.
नीतू भाभी: तुम बहोत बोलते हो कसम से.
मैं: क्या करू आदत ही है सच बोलने की.
फिर ऐसे ही हमारी रोज थोड़ी बात होती थी. रोज ही हाई हल्लो तो होता रहता था. फिर एक दिन उनका मेसेज आया की तुम बनारस कब आओगे?
मैंने कहा आप जब मेरे को बुलाएंगी मैं आ जाऊँगा. तो नीतू भाभी ने कहा अरे आ जाओ कभी भी, गंगा घाट घुम लो. मैंने कहा ठीक है जब कोलेज की छुट्टी होगी तब आ जाऊँगा.
फिर कुछ दिन के बाद मेरी छुट्टी थी और मैंने उन्हें मेसेज किया और बताया और कहा की अब मैं फ्री हूँ. तो उनोने अपने हसबंड का और अपना नम्बर दे दिया और कहा की अपने भैया को कॉल कर के बता देना जब भी तुम बनारस आओ तो. मैंने भी फिर उनके हसबंड यानी की अपने कजिन को कॉल कर के कहा की भाई मैं बनारस घुमने के लिए आ रहा हु. कुछ दिन मेरे को आप के घर ही रुकना है. फिर वो बोले की हां आ जा भाई तेरा ही तो घर है. फिर वो टाइम आ गया जब मैं उनसे मिलने के लिए चला गया.
मैं जैसे ही उनके घर पहुंचा तो उनके हसबंड ने दरवाजा खोला और जब मैं अंदर गया तो उन्हें देख के देखता ही रह गया. उन्होंने पिंक नाइटी पहनी हुई थी. और बाल खुले छोड़े हुए थे. वो सुपर हॉट लग रही थी उनको देख के ही मेरा लंड खड़ा हो गया. नाइटी में उनके बूब्स और गांड का शेप एकदम मस्त लग रहा था. बहुत मन कर रहा था की जाकर सट जाऊं उनसे. पर बहुत कंट्रोल किया खुद के ऊपर. फिर भैया से थोड़ी बातें हुई और उसके बाद वो अपनी जॉब के लिए निकल गए. और फिर मैं और भाभी ही बस घर पर अकेले थे. फिर मैंने सोचा की इस बार खाली हाथ नहीं जाऊँगा! आया हूँ तो चूत में लंड डाल के ही जाऊँगा! भाभी फिर किचन में चली गई अपने काम करने के लिए. तो मैं भी उनके पीछे चला गया. और भाभी के साथ फ़्लर्ट करने लगा.
मैं: आप रोज ही इतनी सुंदर लगती हो या फिर आज कुछ ख़ास बात है?
नीतू भाभी: सिर्फ तुम्हे ही लगती हूँ मैं और तो कोई कहता नहीं है कभी भी. तुम्हारे भैया ने तो आजतक नहीं कहा की मैं सुंदर हूँ!
मैं: अरे भैया अब बूढ़े हो गए है यार, आप कोई कोई नया बॉयफ्रेंड बना लेना चाहिए!
नीतू भाभी हंसने लगी और बोली भला मेरे को कौन मिलेगा.
मैं: अरे आप के सामने हीरो जैसा लड़का खड़ा है उसे देखो तो सही!
नीतू भाभी: अच्छा तो ये बात है, तुम्हे लग रहा है की कुछ और ही चाहिए!
मैं: हां चाहिए तो पर देखते है की मिल पाता है की नहीं?
नीतू भाभी: क्या चाहिए?
मैं: बताऊंगा, अभी तो आया हूँ आप का बनारस में! इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम 
फिर भाभी अपने काम में लग गई और मैं बहार आकर टीवी देखने लगा. फिर शाम को भैया आ गए और हम सब गंगा घाट घुमने के लिए चले गए. मैं हर वक्त भाभी को ही घुर रहा था. और भाभी ने देख लिया था की मैं उन्हें ही घुर रहा था. फिर भी मैं उन्हें घूरते ही जा रहा था. जब उन्होंने कुछ कहा नहीं तो मेरी हिम्मत बढती ही चली गई. और मैंने सोचा की अब इनको किसी न किसी बहाने से टच कर लेता हूँ. फिर रात को जब हम घर आये तो मैं किचन में उनकी मदद कर रहा था. और कभी कभी उन्हें टच भी कर रहा था किसी न किसी बहाने से. वो ये सब नोटिस कर रही थी. पर कुछ भी बोल नहीं रही थी. फिर रात को सब सोने के लिए चले गए. मुझे अलग रूम मिला था सोने के लिए. रात को करीब 12 बजे मेरे को मेसेज आया.मैंने देखा तो भाभी का ही मेसेज था.

नीतू भाभी: जाग रहे हो क्या?
मैं: हाँ भाभी नींद नहीं आ रही थी.
नीतू भाभी: क्या सोच रहे हो?
मैं: बस आप के बारे में ही सोच रहा था!
नीतू भाभी: तुम बहुत बिगड़ गए हो. लगता है भैया को बताना ही पड़ेगा तुम्हारे बारे में!
ये सुन के तो मेरी गांड ही फट गई. मैं काफी डर गया था की कहीं ये सच में भैया को ना बता दे!
मैं: अरे भाभी मैं तो बस मजाक कर रहा था, आप भी ना!
नीतू भाभी: कुछ जयादा ही मजाक कर रहे हो आजकल तुम.
मैं: अरे ऐसा कुछ भी नहीं है भाभी.
नीतू भाभी: कल तुमसे बात करनी है, शाम को बताउंगी.
मैं: ओके भाभी.
फिर हम दोनों ही सो गए. कल का दिन भी नार्मल ही था. बस यहाँ वहां की बातें हुई पर अब मैं थोड़ा सा डरने लगा था की कही वो सच में भाई को ना बोल दे. फिर शाम को भैया बहार जा रहे थे. मैंने पूछा की कहाँ जा रहे हो तो कहने लगे की आज मेरी नाईट ड्यूटी भी है इसलिए कल मोर्निंग में आऊंगा अब. फिर तो मैं बहुत ही खुश हो गया और मैं जा के चुपचाप बालकनी में खड़ा हो गया. तभी भाभी ने मेरे को आवाज दे के किचन में बुला लिया.
नीतू भाभी: डोर को लोक कर दो खुला है.
मैं: ठीक है करता हूँ.
जैसे ही मैं डोर लोक कर के वापस आया उन्होंने मुझे अचानक से पकड कर मुझे अपने रूम में खिंच लिया और धक्का मार के मेरे को बेड पर फेंक दिया और मुझे लगा की अब वो मुझे डांटने वाली है. फिर वो बोली बहुत घुर रहे थे क्या देखना चाहते हो?
मैं: कुछ नहीं!
नीतू भाभी: क्या हुआ अब क्यूँ डर रहा है! जो देखन है बता दे.
मैं: मेरे को तो सब कुछ ही देखना है दिखाओगी?
नीतू भाभी: हां, जो बोलेगा वो भी और जो नहीं बोलेगा वो भी दिखाउंगी.
फिर मैं उठ गया और उसे धक्का दे के दिवार से सटा दिया और जोर से स्मूच करने लगा. और उनके होंठो को चूसने लगा. वो भी मेरे होंठो को जोर जोर से चूस रही थी. कभी मैं उनके नेक पर किस करता और कभी काट लेता था उनके लिप्स को. वो भी पागलों की तरह मेरे लिप्स को चूस रही थी और मेरी गांड को जोर जोर से दबा रही थी अपने हाथ से.
मैं: बहुत दिनों से तेरे होंठो को चुसना था भाभी आज मेरे को मौका मिला. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम 
नीतू भाभी: सिर्फ होंठ नहीं आज तो तेरे को सब कुछ चुसना पड़ेगा.
मैं: आप बस देखती जाओ मेरी जान आज मैं तेरा हसबंड हूँ और तुझे रंडी बनाकर चोदुंगा.

loading...
loading...

नीतू भाभी: बना ले अपनी रंडी मेरे को. बहुत दिनों से लेना चाह रही थी तेरा आज आया है तू हाथ में.
फिर मैंने अपने कपडे निकाल दिए और उसे बेड पर डौगी स्टाइल में लाकर जोर जोर से गांड के ऊपर थप्पड़ माते. एक हाथ से बाल पकड रखे थे और दुसरे हाथ से मैं उसकी गांड को मार रहा था. वो भी मजे ले रही थी और अह्ह्ह्ह अह्ह्ह आह्ह्ह साले हरामी, लग रहा है जोर से अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह लग रही है, मत मार!
मैं: आज मैं सब आग और दर्द दूर कर दूंगा तेरे!
फिर मैंने उसे घुटनों पर बिठा दिया और अपना 7 इंच का लंड उसके मुहं में डाल दिया. वो जोर जोर से लंड को चूस रही थी. और एकदम डीप तक उसने लंड को ले लिया था. मैं उसके बूब्स को दबा रहा था और उसके निपल्स को पिंच कर रहा था. फिर हम दोनों 69 पोजीशन में आ गए. और एक दुसरे का चूस रहे थे. मैं तो उसके मुहं को अब जोर जोर से चोदने लगा था.
फिर उसने कहा की अब डाल दो लंड अंदर बहुत दिन से प्यासी हूँ मैं, आज इस से मेरी प्यास को बुझा दो. फिर मैंने नीतू भाभी को डौगी स्टाइल में लिया और पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और वो एकदम जोर से चीख पड़ी. पर वहां कोई और सुनने वाला नहीं था. मैं धीरे धीरे अपनी स्पीड को बढाता गया और उसके बाल को पकड कर जोर जोर से उसे पेलना चालु कर दिया. और वो कह रही थी आजाओ आ जाओ अंदर आज मेरी सब प्यास मिटा दो मेरे राजा, बहुत दिनों से लंड लेने का मन कर रहा था. और वो आगे बोली आज तो पूरी रात तेरे लंड को मेरी चूत में लेती रहूंगी.
और फिर मैंने नीतू भाभी को पूरी रात 4 बार चोदा अलग अलग पोजीशन में. कसम से भाभी की चूत में वो गर्मी थी की मैं खुद परेशान था की वो जितनी हॉट लगती है उतनी चुदासी भी है. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम 
भैया की नाईट शिफ्ट 3 दिन तक चली और 3 नाईट में मैंने भाभी को करीब 12-13 बार चोदा और हर बार अपना पानी उसकी चूत में ही छोड़ा!
बनारस से जब वापस घर आया तो 15 दिन के बाद भाभी ने ऍफ़बी पर मेसेज किया की जल्दी ही तू बाप बनेगा!!!

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...