चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

चाची की लड़की से इजाज़त के बाद उसकी कुंवारी बुर चोद डाला

loading...

Hindi xxx Story हेलो दोस्तों मैं अर्पित आप सभी का इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ।
मैं कानपुर में रहता हूँ। मेरी उम्र 22 साल की है। मेरा कद 6 फ़ीट है। मैं देखने में बहुत गोरा और स्मार्ट लड़का हूँ। जवान और खूबसूरत मर्द हूँ। मेरा शरीर चुस्त और पूरी तरह से फिट है। जवान लडकियाँ मुझे देखकर लाइन मारती है। वो मुझसे चुदाना चाहती है। मुझे केवल गोरी और दूध जैसी चिकनी लडकियाँ पसंद है। मुझे लड़कियों के दूध चूसना बहुत अच्छा लगता है। उनकी बुर पीना और चाटना भी मुझे पसंद है। मुझे रोज सेक्स करना पसंद है। चुदाई में मुझे बड़ा मजा मिलता है। मेरा लंड 6” लम्बा और डेढ़ इंच मोटा है। मुझे नई नई चूत को चोदना में बहुत ही आनन्द प्राप्त होता है। मुझे लड़कियों के गुलाबी होंठ बहुत अच्छा लगता हैं। आज आपको अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ।
मेरे चाचा का घर मेरे घर से कुछ दूरी पर था और दिन में एक चक्कर उनके घर का लग जाता था। मेरा चाचा और चाची मुझे बहुत प्यार करते थे। वो मुझे बेटा बेटा कहकर बुलाते थे। चाची की एक ही लड़की किरन। रिश्ते में वो मेरी चचेरी बहन लगती थी पर उसकी जवानी देखकर मेरा लंड फुफकार मारने लग जाता था। क्या मस्त आयटम थी किरन। उसका जिस्म भरा हुआ था। दूध तो गेंद की तरह बड़े बड़े हो गये थे और सलवार सूट में उसके दूध दुप्पटे के अंदर से चमकते थे। कई बार किरन मुझसे मिलने बिना दुप्पटे के आ जाती थी। उसके कसे कसे ठोस आकार के दूध देखकर मेरा दिमाग खराब हो जाता था।
“हे !! एक बार किरन की चूत दिलवा दे…..बस एक बार” मैंने बार बार मिन्नते करता था। दोस्तों पिछले कुछ सालों ने मैं अपने चाचा की लड़की किरन की लाइन मार रहा था। अब धीरे धीरे वो मुझे पट गयी थी पर जब भी मैं सेक्स की तरह बात करने लग जाती था वो चुप हो जाती थी। मैं उसे कई बार ओंठों पर किस कर चूका था। बस चुदाई का नाम सुनते ही किरन डर जाती थी। कुछ दिन बाद मेरी चाची के पापा गुजर गये और वो चाचा को लेकर अपने घर चली गयी।
“बेटा अर्पित!! देखा आज तुम घर पर ही रुक जाओ। किरन अकेली है। जवान है। कुछ उंच नीच हो गयी तो मैं किसी को मुंह नही दिखा पाउंगी” चाची बोली
“ठीक है चाची। मैं किरन की देखभाल करूंगा। आप बेफिक्र होकर जाइए” मैंने कहा चाचा चाची बस पकड़कर चले गये। घर में वापिस आते ही मैंने दरवाजा अच्छे से बंद कर दिया और किरन को बाहों में भर लिया। हम प्यार करने लगे। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

“बहन!! आज तो तुमको मैं कसके चोदूंगा। कोई मुझे रोक नही सकता” मैंने कहा
“सुना नही तुम्हारी चाची ने अभी क्या कहा। तुमको मेरी देखभाल करनी है” किरन हसंकर बोली। उसका भी चुदने का मन था।
“माँ चुदाये चाची!! आज मैं चाची को भी चोद डालूँगा और उनकी लड़की को भी” मैंने कहा
किरन हंसने लगी। फिर मैंने अपनी चचेरी बहन को सीने से चिपका लिया। 15 मिनट तक उसको मैंने छोड़ा ही नही। खड़े खड़े ही मैं उसके रसीले स्तनों से खेलने लगा। मेरा लंड मेरी जींस में ही टनटना गया। हम दोनों फिर से चुम्मा लेने लगे। मैं मुंह चला चलाकर किरन के लब पी रहा था। वो गर्म हो रही थी। हम दोनों चुप थे। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
“चूत देगी???” मैंने धीरे से उसके कान में कहा
“कहीं मैं पेट से हो गयी तो???? किरन डरकर बोली। वो सहमी थी।
“नही होगी। मेरे पास जुगाड़ है। चल कमरे में” मैंने कहा
उसका हाथ पकड़कर मैं उसे सीधा चाची के बेडरूम में ले आया। हम दोनों अपने अपने कपड़े उतारने लगे। कुछ देर में हम दोनों नंगे थे। मैं अपनी चचेरी बहन किरन को घूर घूर देख रहा था। वो बिस्तर पर लेट गयी। मैं उसके उपर आ गया। वो किसी कयामत की तरह दिख रही थी। खुले बालों में वो मधुबाला लग रही थी। उसका जिस्म सोने सा चमक रहा था। कितनी गोरी थी किरन। जिस्म की खाल कितनी मुलायम थी केक की तरह। मैं मचल गया था। दोस्तों फिर मैंने उसे सहलाना शुरू कर दिया। वो भी मुझे हर जगह सहला रही थी। मेरी नंगी पीठ पर वो बार बार हाथ घुमा रही थी। हम दोनों दो जिस्म एक जान होकर चिपके हुए थे। चाची की लौंडिया आज चुदने वाली थी। चाची मुझे उसकी देखभाल करने के लिए बोल गयी थी। पर आज मैं ही काण्ड करने जा रहा था। कुछ देर तक किरन के होठ चूसने के बाद बाद हम गर्म हो गये।

“किरन जीभ निकाल” मैंने कहा
उसने जीभ निकाल दी। मैं जल्दी जल्दी चूसने लगा। फिर वो मेरी जीभ चूसने लगी। वो मेरे मुंह में जीभ डालने लगी। मैं उसके मुंह में। इस तरह हम दोनों एक दूसरे की जीभ चूसने लगे। मेरा लंड टनटना गया और लोहे जैसा सख्त हो गया।
“भाई लंड चुसाओ” मेरी चचेरी बहन किरन बोली
“ले चूस ले” मैंने कहा
मैंने सीधा पसर गया। किरन मेरी कमर पर लेट गयी। वो जल्दी जल्दी मेरा लंड फेंटने लगी। दोस्तों आज किस्मत ने मुझे ये मौक़ा दिया था। अगर चाची के पापा खत्म नही होते तो मैं किरन को कभी चोद नही पाता। किरन जल्दी जल्दी मेरा 6” का लंड फेटने लगी। मेरे लंड से छेद से माल रिसने लगा। खूबसूरत और जवान लड़की किरन ने अपनी जीभ मेरे लंड के छेद पर लगा दी और चाटने लगी। उसे नमकीन स्वाद मिला। उसके बाद किसी चुदासी कुतिया की तरह वो जल्दी से मेरा मोटा लंड मुंह में खा गयी और किसी लोलीपोप की तरह चूसने लगी। मैं उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ करने लगा। मुझे मजा आ रहा था। दोस्तों किरन जल्दी जल्दी लंड चूस रही थी। उसके हाथ की उँगलियाँ बहुत गोरी गोरी और पतली पतली थी जो बहुत सुंदर लग रही थी। मेरा मोटे खीरे जैसे लंड पर जल्दी जल्दी किरन के हाथ नीचे उपर दौड़ रहे थे। मुझे बहुत उतेज्जना लंड में मिल रही थी। किरन किसी रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी। अपना सिर जल्दी जल्दी नीचे उपर कर रही थी।
““….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ करो बहन और करो। करती रहो। मजा आ रहा है” मैंने चिल्ला रही था
किरन और भी जोश में आ गयी। वो जल्दी जल्दी चूस रही थी। लग रहा था की आज वो मेरे खीरे को खा ही जाएगी। वो मेरी गोलियां को भी सहला रही थी। अपने गले की गहराई तक वो मेरे लौड़े को चूस रही थी। मुझे सनसनी हो रही थी। डर लग रहा था की कहीं झड न जाऊं। दोस्तों मेरी चचेरी बहन ने तो मेरी शाम को रंगीन बना दिया था। आधे घंटे तक उसने मेरे लंड को चूस चूसकर लाल कर दिया। अब मेरा लंड पत्थर की तरह सख्त हो चूका था। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
“चलो किरन लेट जाओ। अपने पैर खोलो” मैंने कहा
किरन लेट गयी। उसके पैरों की उँगलियाँ बेहद खूबसूरत थी। वो कामुक लड़की थी। चोदने के लिए बिलकुल परफेक्ट माल। कुछ देर तक मैंने उसके पैर की उँगलियाँ मुंह में डालकर चूसी। धीरे धीरे मैंने उसके पैर सहलाना शुरू कर दिया। गोरे और भरे हुए गोल गोल पैर। फिर मैं उसकी संगमर्मर की तरह दिखने वाली जांघो को छूने लगा। सहलाने और चूमने लगा। उफफ्फ्फ्फ़ क्या माल थी मेरी चचेरी बहन। मैं खूब मजे लिए। खूब सहलाया उनकी दोनों जांघो को। अंत में मैं किरन की रसीली बुर पर पहुच गया। ऊँगली से बुर खोलकर मैंने देखी। बिलकुल सीलबंद माल। कुवारी और अनछुई। एक बार भी चुदा नही।

loading...
loading...

“भगवान!! तेरा लाख लाख शुक्र है” मैंने कहा और उपरवाले को थैंक्स कहा
किरन की चूत बिलकुल साफ थी। बिलकुल चिकनी भरी हुई बुर। एक भी बाल नही। मैं अपनी जीभ बाहर निकाल ली और चाटना शुरू कर दिया। नमकीन स्वाद। मैं चाटने लगा। किरन “ हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” करने लगी। मैं जल्दी जल्दी उसकी चुद्दी चाटने लगा। वो कमर इधर उधर करने लगी क्यूंकि उसे सनसनी हो रही थी। मैं उसके चूत के दाने को जीभ के कोने से छेड़ने लगा।
“करो भाई अच्छा लग रहा है। करो और करो। आज पी लो मेरी रसीली बुर” किरन बोली
दोस्तों इस तरह से बहुत देर तक मैंने किरन की चूत चाटी और जी भरकर पी। मेरे मुंह में उसकी बुर से निकला ताजा मक्खन लगा था। अपना लंड मैंने उसकी चूत की सील पर रख दिया और जोर का धक्का मारा। सील टूट गयी। मेरा 6” का लंड अंदर घुस चुका था। किरन “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” कसमसा रही थी। साफ़ था की दर्द हो रहा था। एक धक्का मैंने और मारा और लंड पूरा 6” अंदर चला गया। उसकी चुद्दी से खून बहने लगा। किरन की गोरी जांघ पर लाल खून की लाइन बन गयी थी। कुछ देर वेट करने के बाद मैंने उसे चोदना शुरू कर दिया। उसे दर्द हो रहा था।

अब पहली ठुकाई में दर्द तो होता ही है। धीरे धीरे मैं काम पर लग गया। धीरे धीरे मैं किरन का गेम बजाने लगा। किरन कसक रही थी। अपनी छाती उपर को उठा रही थी। उसके जिस्म में भूचाल आ रहा था। 10 मिनट बाद उसकी बुर रवां हो गयी और अब मेरा लंड आराम से चूत की गुफा में फिसलने लगा। किरन में मजा आ रहा था। उसकी आँखें बंद थी। वो अपने होठो को दांत से काट रही थी। धीरे धीरे उसका दर्द कम हो गया। अब जल्दी जल्दी मैं उसका गेम बजाने लगा। वो बिस्तर पर उछलने लगी। बार बार वो “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” चिल्लाती और किसी छिनाल की तरह अपनी कमर और चूतड़ हवा में उछाल देती। साफ़ था की उसे भरपूर यौन सुख मिल रहा था। मैंने धक्को को रफ्तार तेज कर दी। अब जादा रगड हम दोनों को चूत के भीतर मिल रही थी। किरन को भी अब जादा मजा आ रहा था। मुझे भी अब जादा आनन्द मिल रहा था। इस तरह से 30 मिनट के सम्भोग के बाद मैंने जल्दी से लंड बाहर निकाल दिया। किरन ने अपना मुंह खोल दिया और मैं अपनी पिचकरी उसके मुंह में छोड़ दी। वो सब माल पी गयी। अब मैं जब भी उसे पेलता हूँ माल चूत से बाहर ही गिराता हूँ। किरन पेट से नही होती है। कहानी आपको कैसे लगी

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...