चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

चिकन खाकर दारू के नशे में जया ने मेरा लंड पकड़ लिया

loading...

sex stories दोस्तों मेरा नाम मनीष सावान है और मैं अभी दिल्ली में रहता हूँ. मेरी उम्र एक हफ्ते पहले ही 22 साल हो गइ है. मेरी हाईट 5 फिट 8 इंच की हैं और मेरा लंड करीब 6 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा है. मैं अभी यहाँ दिल्ली में ही एक कॉल सेंटर में जॉब करता हूँ. चलिए अब सीधे अपनी कहानी के ऊपर ले के चलूँ आप लोगों को. (वैसे एक बात पहले ही कह दूँ की मैं प्रोफेशनल राइटर नहीं हूँ और पहली बार ही लिखा है कुछ, तो गलती हो गई हो तो पहले से सोरी!)  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
जिस लड़की को मैंने चोदा उसका नाम जया है और वो मेरे कमरे के बाजू में ही किराए के अपने कमरे में रहती थी. वो मेरे जितनी ही लम्बी थी. वो उतनी गोरी नहीं थी और रंग उसका थोडा सांवला सा था लेकिन उपरवाले ने उसके फिगर को बड़ा सही बनाया था. उसके बूब्स की साइज 34E की थी और उसका बदन बड़ा ही मादक लगता था. और उसके चूतड भी थोड़े खुले हुए और बहार को निकले हुए थे. और उसकी गांड को देख के मेरा तो मन करता था की घंटो तक बस उसे अपने हाथ से सहलाता ही रहूँ. हम दोनों रोज एक दुसरे को देखते थे क्यूंकि अगल बगल में ही रहते थे. और ये देखा देखी कब प्यार में बदल गई वो पता ही नहीं चला. और प्यार भी दोनों तरफ से था!

हम दोनों की एज एक जितनी ही थी इसलिए वो मेरे को मनीष कह के ही बुलाती थी. मेरा नेचर एकदम सरल और मजाकिया सा है इसलिए हम दोनों में अब खूब बातें होती थी.
एक बार की बात है, हमारे मकान मालिक को अपने गाँव जाना हुआ किसी की शादी में. और तब मैंने और जया ने बियर पिने का प्लानिंग किया था. शाम को ही मैं बियर ले आया. बियर पिने के बाद चिकन खाया हमने जो उसने बनाया था. और फिर मैं सोने की सोच रहा था तो जया ने बोला आज की रात यही सो जाओ. मैं मान गया और उसके बेड पर ही सो भी गया. मैंने सोचा की आज जो मौका है वो शायद फिर कभी ना मिले, क्यूंकि हमारा मकान मालिक थोडा टेढ़ा है.
रात को मैंने महसूस किया की मेरे लंड पर कुछ टच हो रहा है. मैं समझ गया की वो जया ही थी जो मेरे लंड को बार बार टच कर रही थी. और फिर मेरी बगल को भी और चद्दर में हाथ घुसा के वो मेरी छाती पर भी हाथ घुमा रही थी. कुछ देर सब्र की लेकिन फिर मेरे से भी रहा नहीं गया तो मैंने भी उसकी छाती पर हाथ रख दिया और उसके बूब्स मेरे हाथ में आ गए. वो कुछ भी नहीं बोली!
फिर मैंने अपने हाथ को उसके गाल पर रख के सहला दिया. वो अभी भी चुप ही थी. और फिर मैंने हिम्मत कर के पीछे हाथ ले जा के उसकी गांड पर रख दिए. वाऊ क्या सॉफ्ट गांड थी जया की. और गांड टच करने पर भी जब वो कुछ नहीं बोली तो मैं समझ गया की उसका भी मूड मेरा लंड लेने को हो गया था और शायद इसलिए ही उसने मेरे को रात को अपने पास रोका हुआ था.

अब मैंने जया के कमीज को ऊपर कर दिया. उसके बड़े बूब्स को अपने हाथ से दबाने लगा था और होंठो से चूसने लगा था. और फिर जया ने मेरे को होंठो के ऊपर किस किया और हम दोनों एक दुसरे को पांच मिनिट तक ऐसे ही लिप किस करते रहे. जया ने मुझे अपनी बाहों में एकदम कस लिया था और उसकी साँसे तेज हो चली थी. मैं उसके दोनों बूब्स को एक एक कर के चूसता गया. और बिच बिच में मैं उसके होंठो को भी किस दे रहा था.
जया ने अब मेरे हाथ को अपने हाथ में लिया और अपनी चूत पर रख दिया. मैं उसकी चूत में ऊँगली से खिलवाड़ करने लगा. जया की चूत पूरी गीली हो चुकी थी और उसने अंदर पेंटी नहीं पहनी थी इसलिए मेरे को चूत का जैसे सीधा ही स्पर्श मिल रहा था. अब गीली गरम चूत के आगे पतली सलवार की क्या विसात! मेरी ऊँगली उसकी चूत के खड्डे में भी जा रही थी. और वो अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह की आवाजें करने लगी थी. एक बार फिर से मैंने उसके होंठो को किस किया और उसने अब मेरे लंड को अपने कब्जे में ले लिया.
जया एकदम हॉट हो चुकी थी और मेरे तने हुए लंड को वो जोर जोर से हिला रही थी. वो मेरे लंड को हिला हिला के आगे पीछे करने लगी थी. और मैंने अब अपनी एक ऊँगली को उसकी चूत में डाल दिया. वो सिस्कियाते हुए मेरे लंड को हिला रही थी अब. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
अब मैंने जया की सलवार को खिंच के निकाल फेंका और उसकी भीगी हुई मजेदार चूत को देखा. वो एकदम क्लीन शेव्ड थी और शायद आज ही शेव किया था उसने. उसकी चूत बर्गर के जैसी फूली हुई थी और अंदर से पानी भी निकला हुआ था. मैंने अब जया को मेरा लंड मुहं में लेने के लिए कहा. वो पहले तो नहीं मानी लेकिन थोडा फ़ोर्स करने पर उसने लंड को मुहं में ले के चुसना चालू कर दिया. मैं अपनी जबान से उसकी चूत के दाने को चाट रहा था और चोद रहा था. वो अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह कर के चिल्लाने लगी थी अब. जया की चूत में तो जैसे की आग लगी हुई थी. वो अब लंड का धक्का लेने के लिए रेडी लग रही थी मेरे को. लेकिन मैंने अभी 69 पोजिशन ही उचित समझी और लगातार मैं उसकी चूत को अपनी जबान से ही चोदता रहा.

loading...

जया ने अब अपनी दोनों जांघो को मेरे सर के इर्द गिर्द रख दिया और कस के दबा दिया. वो शायद चरम बिंदु की तरफ बढ़ रही थी. और सच में ऐसा ही हुआ एक मिनिट के बाद. उसकी चूत से ढेर सारा पानी निकल गया जिसे मैंने पी लिया. उसके चहरे के ऊपर एक अलग ही ताजगी थी पानी निकलने के बाद. उसकी साँसे उखड़ गई थी और वो संतोष के भाव से मेरे को देख रही थी.
लेकीन मेरे को अभी एक सेकंड भी बर्बाद नहीं करना था. इसलिए मैंने जया की गांड के निचे एक पिलो लगा दिया और उसकी जांघो को चौड़ा कर दिया. चिकन तंदूरी के जैसे लेग्स थे वो! और मैंने अपने ताने हुए लंड को जया की भोसड़ी के ऊपर रख दिया. वो तपी हुई थी एकदम से. मैंने एक हल्का पुश किया तो लंड का सुपादा उसके अंदर जा घुसा और उसके मुहं से जोर जोर की चीखें निकल गई.
वो मेरे को मिन्नत करने लगी की अपने लंड को बहार निकाल दो प्लीज़! लेकिन अब भला मैं उसकी कहाँ सुननेवा था. मैंने उसी वक्त और एक जोर का धक्का लगा दिया. और इस धक्के की वजह से वो और भी जोर से चीख पड़ी. मैंने उसके होंठो को अपने होंठो में भर लिया और अपने लंड के धक्के लगाने लगा. वो मछली की तरह तड़प रही थी और अपने शरीर को इधर से उधर मारने लगी थी. लेकिन मैंने उसे कस के पकड़ा हुआ था और जोर जोर से चोद आहा था. वो अब रोने लगी थी क्यूंकि मेरा पूरा लंड मैंने उसकी चूत में एक एक सेंटीमिटर तक घुसा दिया था.
पूरा लंड अंदर डालने के बाद अब मैं रुक गया कुछ पलों के लिए. कुछ देर में जब वो शांत हुई तो मैंने अपने लंड के धक्के लगाने चालू कर दिए.

loading...

पांच मिनिट की चुदाई में उसकी चूत लाल लाल हो गई थी और मेरा लंड भी पानी पानी होने लगा था. मैंने अपने सब के सब माल को जया की नाजुक चूत में ही छोड़ दिया. और फिर मैंने अपने लोडे को बहार निकाला. वो मेरे लंड को देख के बोली, बाप रे इट्स ह्यूज अब मेरे को नहीं चुदाई करवानी.
लेकिन मेरे को तो उसे और चोदना था. इसलिए मैंने उसके बूब्स को मुहं में ले लिए और चूसने लगा. और अपने हाथ से उसके कान के निचे के हिस्से को सहलाया और फिर गालों पर भी प्यार किया. और एक हाथ से उसकी प्योर गीली चूत को हिलाया. वो फिर से हॉट हो चुकी थी और अब वो लंड लेने के लिए भी एकदम रेडी थी. मैंने मौके की नजाकत को देख के अपने लंड को फिर से उसकी कामुक चूत पर लगा दिया. और एक ही मिनिट में पुरे लंड को अंदर घुसा के मैंने धक्के लगाने चालू भी कर दिए.
अब की बार तो जया ने भी चुदाई का मजा लेना चालू कर दिया था. उसकी सेक्सी गांड आगे पीछे हो रही थी और वो अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह या अह्ह्ह कर के प्लीजर लेने लगी थी. मैंने उसे एक किस कर के पूछा, कैसा लगा मेरी रानी!
वो बोली, चोदो और जोर जोर से मनीष, आज मेरी चूत को अपने लंड की रानी बना डालो.
उसके मुहं से ये सब सुन के मैंने अपनी चुदाई की स्पीड को दो गुना कर दिया. कमर को हिला हिला के मैं उसे पेलने लगा था. और वो भी दोनों जांघो को पूरा फैला के अंडकोष के टच को महसूस करने लगी थी.
हम दोनों ही चुदाई की पूरी मस्ती में आ गए थे और दोनों के मुहं से अब शब्दों की जगह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ही निकल रहा था. मेरी स्पीड हरेक सकेंड बढ़ने लगी थी और चुदाई की आवाजों से छोटे से कमरे में गूंजे बनने लगी थी अब.
कुछ ही देर में मेरे लंड के अंदर जैसे पुरे बदन का खून बहने लगा था. मैं जान गया की मेरा वीर्य छूटने को है. मैंने जया को बोला तो उसने कहा की मेरा भी पानी निकलने को है. और मैंने उसके बूब्स के ऊपर हलके से किस किया तो वो सिहर उठी. मैंने उसे पूछा की क्या वीर्य अंदर लेना है तुम्हें?

उसने कहाँ अंदर ही छोड़ दो माल को मैं कल आई पिल खा लुंगी. और मैंने ये सुन के उसकी चूत को दबा के चोदा. हम दोनों ऑलमोस्ट एक साथ ही झड़ गए.
लगातार 20 25 मिनिट की चुदाई के बाद मेरी इतनी झाड निकली थी की जया की चूत पूरी की पूरी भर गई थी उस से. और उसकी चूत का पानी भी उसमे मिल गया था. मैंने धीरे से अपने लंड को बहार निकाला. उसने अपने एक दुपट्टे से मेरे लंड को साफ़ कर दिया. कुछ देर हम दोनों एक दुसरे के पास ऐसे नंगे ही लेटे रहे. जया आज अच्छी तृप्त हो गई थी और उसकी चूत में हल्का सा दर्द भी होने लगा था. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
इसलिए मैंने उठ के अब हम दोनों के लिए कोफ़ी बनाई. जया ने मेरे को बोला की उसे आज बहुत मजा आया मेरा लंड ले के.
दोस्तों मैं और जया ने उस दिन के बाद एक अलग कमरा ले लिया जहा के मकान मालिक को हमने हसबंड वाइफ होने का बोला था. शाम को जॉब पर से आने के बाद डेली चुदाई होती थी फिर. लेकिन अभी 4 महीने पहले उसके घरवालों ने उसकी शादी तय कर दी और वो अपने गाँव चली गई. लेकिन उसने वादा किया है की जब भी दिल्ली आई तो मिलूंगी जरुर!

loading...