चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

चुदाई की मारी चाची बेचारी

loading...
मैं अजय फिर से हाज़िर हूँ मेरी एक और कहानी लेकर अगर आपने मेरी पिछली कहानी पढ़ी है तो आप लोग जानते होगे मैं ज़्यादा इधर उधर की बाते नही करता तो मैं सीधे अपनी नयी कहानी पर आता हूँ मेरी बीवी मुझसे कुछ नही छुपाती ऐसे ही अक्सर वो मुझे बताती रहती है की वो अपने मायके में अपनी चाची से सब कुछ शेयर करती है यहाँ तक की वो दोनो सेक्स के बारे में भी बाते करती रहती है और अपने सेक्स एक्सपीरियेन्स भी एक दूसरे से शेयर करती रहती है मेरी बीवी बताती रहती है की उसकी चाची और चाचा लगभग रोज़ सेक्स करते है.
 
चाची की उम्र करीब 35 साल है और 2 छोटे बच्चे भी है फिर भी चाचा चाची आये दिन सेक्स के मज़े लेते रहते है बीवी से यह सब बातें सुनते सुनते मेरे अंदर चाची को चोदने की जबरदस्त इच्छा पैदा हो गयी इतना तो मुझे समझ में आ गया था की उसकी चाची भी सेक्स की बड़ी दीवानी है और मौका लगने पर उसको चोदा जा सकता है मुझे गांड को चोदने का बड़ा शौक है मैं अक्सर अपनी बीवी की गांड चोदता था और मेरी बीवी यह बात अपनी चाची से शेयर कर चुकी थी ऐसे ही एक बार मैं अपने ससुराल घूमने एक हफ्ते के लिये गया वहाँ रुकने के 2  दिन बाद की बात है घर के सारे मेंबर मेरी बीवी को घुमाने बाहर ले गये थे.
 
मेरी तबियत कुछ ठीक नही लग रही थी इसलिये मैं साथ में नही गया घर में मैं और चाची अकेले थे चाची के बच्चे बाहर खेलने चले गये थोड़ी देर बाद चाची ने मुझे अपने कमरे में बुलाया चाय पीने के लिये मेरे कमरे में पहुंचते ही उन्होने कमरे का दरवाज़ा बंद कर कुण्डी लगा दी और अपने कमरे में रखे स्टोव पर चाय बनाने लगी मैं सोफे पर बैठा था चाची चाय और बिस्कीट ले के आई और एक चाय मुझे पकड़ा कर दूसरी चाय लेकर सोफे पर मेरे बाजू में बैठ गयी हालाकी अब तक कुछ भी ऐसा वैसा नही हुआ था पर मेरी बीवी की बताई हुई बातें मेरे दिमाग़ में घूम रही थी और उस पर मैं और चाची बंद कमरे में एक ही सोफे पर बैठे हुये थे चाय पीते पीते हम इधर उधर की बाते करने लगे.
 
चाय पीते पीते में नज़रे चुरा कर चाची के बदन को सर से पैर तक देख रहा था चाची यू तो दिखने में कुछ खास नही थी और ना ही उसका बदन बहुत सेक्सी था पर एक चीज़ उनमें बहुत  अच्छी थी वो थी उनकी गोल गोल गड्राई हुई गांड बातें करते करते चाची मुझसे बोली अच्छा मैने सुना है तू अपनी बीवी को बहुत परेशान करता है मैं बोला चाची ऐसा क्यो लगा आपको  मैं तो उसको बिल्कुल भी परेशान नही करता चाची बोली दीपा (मेरी बीवी का नाम) बता रही थी की सेक्स करते वक़्त तू बड़ा ही परेशान करता है उसको  ये बात चाची के मुँह से सुन के मैं हैरान हो गया और शर्मा भी गया मैं कुछ नही बोला चाची फिर बोली तूने मेरी बात का जवाब नही दिया  तेरा चाचा भी मुझे रोज़ चोदते है पर परेशान नही करते तू क्यो दीपा को चोदते समय परेशान करता है  चाची के मुँह से चोदनाशब्द सुन कर मैं हक्का-बक्का रह गया मैं शरमाते हुये बोला चाची आप ये कैसी कैसी बातें कर रही है.
 
चाची ने कहा देख मुझे सब पता है  दीपा मुझसे सारी बातें शेयर करती है और मैं दीपा से मुझे ये भी पता है की वो मेरी सेक्स की बातें भी तुझे बताती है की कैसे कैसे तेरे चाचा मुझे चोदते है  चाची की बातें सुन कर मुझे हैरानी और शर्म दोनो महसूस हो रही थी पर अब जब चाची ने ये कहा की मैं उनकी सेक्स लाइफ के बारे मैं सब जानता हूँ तो मेरी शर्म कुछ कुछ कम होने लगी पर एक अंदाज़ा भी हो गया की चाची की नियत कुछ ठीक नही और शायद वो मेरी उनको चोदने की ख्वाहिश पूरी करने वाली है.
 
फिर भी मैने कुछ ना समझने का दिखावा करते हुये कहा चाची आप ये सब क्या बोल रही है अब चाची मुझसे चिपक कर बैठ गयी मेरे बदन में एक करंट सा दौड़ गया चाची आगे से बोली चल अब ज़्यादा बन मत अगर तुझे मेरी सेक्स लाइफ के बारे में सब पता है तो मुझे भी तेरे और दीपा की सेक्स लाइफ के बारें में सब पता है मुझे तो ये भी पता है की तेरा कितना लंबा और कितना मोटा है तू कहे तो मैं बताऊँ क्या  चाची की इस बात ने तो मेरे होश ही उड़ा दिये  पर अब भोला बनने से कुछ फायदा नही था मैं बोला चाची अब जब आपको सब पता है तो मैं क्या बोलू पर आप को ऐसा क्यो लगा की मैं उसको परेशान करता हूँ  चाची के चेहरे पर एक शैतानी मुस्कान दौड़ गयी वो फिर से बोली दीपा बता रही थी तू उसकी गांड भी चोदता है और बड़ा मज़ा आता है.
 
तुम दोनो को इसमे मैने शर्म से सिर झुका लिया चाची फिर बोली तेरे चाचा तो मुझे आये दिन चोदते है पर गांड कभी नही मारी अब तू शर्मा मत और दीपा की तरह तू भी मुझसे खुल के बात कर सकता है अच्छा बता तो गांड चोदने में ऐसा क्या मज़ा आता है मुझे कुछ समझ में नही आ रहा था की चाची की बातो का जवाब किस तरह दूँ फिर भी मैने कहा अब चाची मैं आपको कह के कैसे बताऊँ क्या मज़ा आता है गांड चोदने में चाची ने भी झट से कहा की कह के नही बता सकता तो करके बता दे  मैं फटे मुँह से चाची को देखने लगा चाची मुझे खुला ऑफर कर रही थी मैने कहा चाची मैं कुछ समझा नही.
 
चाची ने पेंट के उपर से ही मेरे लंड पर हाथ रख कर कहा मैने कहा अगर बोल नही सकता तो करके बताना की गांड चोदने में कितना मज़ा आता है और ये कहते कहते वो मेरे लंड को पेंट के उपर से ही मसलने लगी मेरा लंड जो अब तक हुई बातों से आधा खड़ा था चाची की इस हरकत से कड़क और लंबा होने लगा जिसे चाची ने भी महसूस कर लिया मैं थोड़ा घबरा भी गया मैने उनका हाथ अलग कर उठते हुये कहा चाची ये सब आप क्या कर रही है  मैं जा रहा हूँ  और मैं उठ कर कमरे से बाहर जाने लगा.
 
चाची दरवाजे के यहाँ आई और मुझे पकड़ के पास रखे पलंग की ओर ज़ोर से धक्का दिया मैं पीठ के बल पलंग पर जा गिरा चाची झट से मेरे उपर चड के लेट गयी और फिर एक हाथ से मेरे लंड को मसलते हुये बोली देख तेरा पप्पू सब समझ गया और तू ना समझने का नाटक कर रहा है चल अब अपनी चाची को भी एक बार गांड चोदने का मजा दे  मैं एकदम कन्फ्यूज़्ड था मैं जो चाहता था वो मौका मेरे हाथ में था पर क्या करूँ और क्या नही कुछ समझ नही आ रहा था इतने में चाची ने मेरी पेंट की चेन खोल कर अंदर हाथ डाल कर मेरे लंड को ज़ोर से पकड़ लिया.
 
अब मुझे ऐसा लग रहा था की मैं भी पकड़ के साली को आज मसल डालु पर मैं बोला चाची ये सब ग़लत है  आप मुझसे बड़ी है और रिश्ते में चाची लगती है  मैं कैसे आपके साथ  चाची बोली तू ज़्यादा होशियार मत बन मैं जानती हूँ तू भी मुझे चोदना चाहता है वरना तेरा ये पप्पू लोहे की राड़ की तरह यू खड़ा नही होता चल अब शर्मा मत और मुझे अपनी बीवी समझ के मजा  दे .  मैने भी अब मौका और टाइम गवाना अच्छा नही समझा और चाची को ज़ोर से जकड़ के अपने से चिपका लिया अभी तक चाची मेरे उपर थी मैने झट से पलटी मारी और अब मैं चाची के उपर था अब मैं पागलो की तरह चाची के पूरे बदन को चूमने लगा चाची बोली अब देर मत करो राजा चूमा चाटी बाद में करना जल्दी से मुझे चोदो दीपा से तुम्हारे लंड की इतनी तारीफ़ सुनकर अब मुझसे रहा नही जाता जल्दी से पेल दो अपने पप्पू को मेरे अंदर सच तो ये है की अब मुझसे भी रहा नही जा रहा था.
 
मैने झट से चाची के और अपने कपड़े उरताना चालू किये 1 मिनिट के बाद हम दोनो चाची के बिस्तर पर नंगे लेटे हुये थे मैने झट से चाची की टांगे चौड़ी की चाची की चूत पूरी तरह से गीली थी शायद इतनी देर से सेक्स की बातें करते करते उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया था मैने झट से अपने लंड का टोपा उनकी चूत पर रखा और एक हल्का सा झटका दिया मेरा लंड मोटा होने की वजह से जल्दी उनकी चूत में जाता नही था  पर चूत के गीलेपन ने लूब्रिकेंट का काम किया और लंड आधा उनकी चूत मैं घुस गया चाची के मुँह से ज़ोर की सिसकारी निकल गयी टांगे उठा कर मेरे पीछे ले जा कर मुझे ज़ोर से जकड़ लिया और पुश करने लगी अपनी तरफ खीचने लगी और साथ ही साथ अपने चुत्तड उपर की ओर उचकाने लगी मेरा भी हाल बुरा हो रहा था चाची की चूत गीली थी पर बहुत गर्म थी.
 
मेरे दूसरे झटके के साथ ही मेरा पूरा लंड अंदर तक उनकी चूत में था अब क्योंकि हम दोनो से रहा नही जा रहा था मैने ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने शुरू किये हम दोनो ही बहुत उतावले हो चुके थे और दोनो ही एक दूसरे को ज़ोर के धक्के देकर साथ देने लगे 3 मिनिट की चुदाई मैं ही वो झड़ गयी और 2 मिनिट के बाद मैं भी झड़ने वाला था.
 
मैने धक्के चालू रखते हुये कहा हफफ्फ़ चाआचिईिइमेरा पानी निकलने वाला है अंदर डालू  या बाहरररर..चाची भी हाफते हुये बोली राआजा…. मैं तो तेरा पानी पीना चाआहहति हूँ पर  अभी अंदर ही छोड़ दे पर निकालना नहहि…. और 5-6 जोरदार झटको के साथ ही पानी की  पिचकारी चाची की चूत मैं छोड़ दी और चाची के उपर निढाल हो गया अगले 10-12 मिनिट  हम एक दूसरे से चिपके हुये चुपचाप पड़े रहे थोड़ी देर बाद जब हम नॉर्मल हुये तो मैं बोला चाची तुम सचमुच बड़ी मजेदार हो अब समझ में आया क्यो चाचा तुम्हे रोज़ रोज़ चोदते है.
 
चाची बोली मेरे राजा तुम्हारा भी जवाब नही बहुत सॉलिड चुदाई करते हो तभी दीपा तुम्हारे लंड की तारीफ करते हुये थकती नही सचमुच तुम्हारे लंड का जवाब नही अच्छा अब जल्दी से मेरी मुराद पूरी करो दीपा के मुँह से गांड चुदाई की बातें सुन सुन कर मेरी हालत खराब हो गयी है जल्दी से मेरी गांड को भी एक बार वो मजा दो  क्योंकि अभी अभी हमारी चुदाई ख़त्म हुई थी तो मेरा लंड सिकुड के छोटा हो गया था मैने कहा बस चाची एक बार पप्पू को फिर से तैयार हो जाने दो आपकी ये इच्छा भी पूरी कर दूँगा आज चाची झटके से उठी और मेरे लंड को अपने हाथो में ले कर बोली तुम इसकी चिंता मत करो  मैं अभी इसे तैयार कर देती हूँ हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये चाची अपने पूरे सेक्स एक्सपीरियन्स का फायदा उठा कर मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी अपनी थूक लगा कर उपर-नीचे करके मसलने भी लगी चाची की गांड मेरे मुँह के सामने थी.
उसकी गोल गोल गांड जिसे मारने के मैं सपने देखता था  आज वो गांड एकदम नंगी मेरे सामने थी उसकी गोल गोल करारी गांड और उसमे छोटा सा छेद देख कर ही मेरा लंड तेज़ी से खड़ा होने लगा उस पर चाची का उसे मुँह मे लेना और मसलना  मेरा लंड अगले 1 मिनिट में पूरी तरह कड़क और लंबा हो कर तन गया था इधर मैं भी चाची की गांड को पागलो की तरह चाटने लगा 5 मिनिट चूमा चाटी के बाद मैने चाची को डॉगी स्टाइल में होने को कहा चाची ने फ़ौरन पोज़िशन ले ली लंड चाची की थूक से नाहया हुआ था.
 
फिर भी मेने पास पड़ी हेयर ऑयल की शीशी से थोड़ा तेल निकाल कर लंड पर लगाया गांड   में लंड इतनी आसानी से नही जाता इसके लिये उसका पूरी तरह कड़क होने के साथ अच्छे से लूब्रिकेंट होना भी ज़रूरी है अब मैने चाची की गांड में एक उंगली डाली और उसे धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा चाची दर्द के मारे उचकने लगी मैने कहा चाची ये आपका पहली बार है  इसलिये थोड़ा दर्द ज़रूर होगा पर आपको मज़ा लेना है तो थोड़ा सहन करना पड़ेगा  चाची ने कहा मैं तैयार हूँ मेरा लंड वापस ठंडा ना पड़ जाये  इसलिये इस बीच में डॉगी स्टाइल में ही लंड को उनकी चूत में डाल दिया और एकदम धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा साथ ही अपनी दूसरी उंगली भी उनकी गांड मैं डाल कर दोनो उंगलियो से उनकी गांड को चोदने लगा और थोड़ी ही देर में मेरी 3 उंगलियां उनकी गांड में थी.
 
अब उनकी गांड पूरी तरह तैयार थी चूदने के लिये में लंड को उनकी चूत से निकाल कर मैने अपने लंड का टोपा उनकी गांड के छेद पर रख कर हल्का सा झटका दिया पर लंड फिसल कर साइड में सरक गया 6-7 बार ऐसा ही हुआ और इस बार लंड का टोपा पूरी तरह उनकी गांड में घुस गया चाची दर्द से फिर उछल पड़ी मैं जानता था चाची को दर्द होगा और वो हिलती रहेंगी इसलिये पहले तो मेने उनकी कमर से उनको इतना कस के पकड़ा की वो एक इंच भी ना हिल नहीं  पाये और फिर एक ज़ोर के झटके के साथ लंड को उनकी गांड में अंदर तक पेल दिया वो दर्द के मारे चीखना चाह रही थी पर डर के मारे अपनी आवाज़ दबा दी मैं कुछ सेकेंड की लिये  रुक गया फिर धीरे धीरे झटके मारने शुरू किये चाची की गांड तो मेरी बीवी की गांड से भी  मस्त और गर्म थी.
 
मैने कहा चाची क्या गांड है तुम्हारी ऐसी गांड तो दीपा की भी नही है हाय कितना मज़ा आ रहा है इसे चोदने में थोड़ी ही देर में मेरी स्पीड बड़ गयी क्योंकि कुछ देर पहले ही मेरी पिचकारी चली थी  मैं जानता था इस बार थोड़ा समय लगेगा मैं पूरे मज़े से उनकी गांड चोदने लगा अब चाची को भी मज़ा आ रहा था वो भी बोली अजय  सचमुच गांड चुदवाने में भी बहुत मज़ा है  आआआअहह….क़ास्स्स्स्स्स्स्स्सस्स के चोदो….चाची की गांड इतनी मजेदार थी की मैं सब कुछ भूल कर ज़ोर ज़ोर से उनकी गांड मारने लगा करीब 20 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा पानी निकलने वाला था जैसे ही मेरा पानी निकलने वाला था तो तुरन्त मैने अपना लंड उनकी गांड से निकाल कर उनके मुँह में डाल दिया और उनका मुँह चोदने लगा
 
चाची बंद आँखों से मेरे लंड को गले तक अंदर लेते हुये चूसने लगी और 8-10 झटको में मैने गर्म गर्म फव्वारा उनके मुँह में गले तक उडेल दिया और जब तक लंड से आखरी बूँद तक ना झड़ी  मैने लंड बाहर नही निकाला अभी 2 मिनिट ही हुये थे हमे आराम किये हुये की हमें बाकी घरवालो के आने की आहट सुनाई दी हम ने जल्दी जल्दी अपने कपड़े पहने और मैं चाची के कमरे से बाहर निकल कर बाहर बने एक कमरे के बाथरूम में चला गया 5 मिनिट के बाद बाहर आया तो चाची बाकी घरवालो के साथ थी और हंस बोल कर ऐसे बात कर रही थी जैसे कुछ हुआ ही ना हो पर बीच बीच में नज़रे चुरा कर मुझे ऐसे देख रही थी जैसे मुझे शुक्रिया अदा कर रही हो थोड़ी देर बाद 1 मिनिट के लिये जब चाची किचन में अकेली थी तो मेने जाकर पीछे से उनकी गांड पर किस दिया और उनके कान के पास जा कर कहा चाची मैं तुम्हारी ऐसी मेहमान नवाज़ी का और इंतज़ार करूँगा”.
 
ये कह कर मैं तुरंत किचन से बाहर आ गया इस बीच वहा रहने तक मैने चाची को 2 बार और मौका पाकर चूत और गांड मारी ससुराल से वापस निकलते वक़्त मौका देखकर चाची ने एक छोटी सी चिठ्ठी मेरे हाथ में थमायी जिस पर लिखा था तैयार रहना अब मैं किसी बहाने से जल्द ही तुम्हारे घर घूमने आउंगी और इस बार तुम्हारे घर पर तुम्हारे बिस्तर पर तुमसे मेहमान नवाज़ी चाहूँगी।
कहानी शेयर करें :
loading...