चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

दोनों भाई ने सगी बहन को चोदकर रंडी बनाया

loading...

indiansexkahani.com मेरा नाम राकेश है। घर बनारस में है। मैं अपनी फेमिली के साथ रहता हूँ। मेरा एक जुडवा भाई और जवान बहन है। जुडवा भाई का नाम महेश है। मेरी बहन लीशा अब 20 साल की जवान माल हो गयी है। हम दोनों भाई से अलीशा फंसी हुई है। कई बार हम उसे चोद चुके है और उसके मधुर यौवन का रस पी चुके है। अलीशा इतनी खूबसूरत और जवान है की उसे देखकर मेरे मोहल्ले के सारे लडको का लंड खड़ा हो जाता है। जिस्म उसका बिलकुल भरा हुआ है। चेहरा गोल और आँखे बड़ी बड़ी कजरारी है। मेरी गली के सब लड़के अलीशा के पीछे पड़े हुए थे। सब उसे एक बार चोदना चाहते थे। जब मैंने और भाई महेश ने ये देखा तो हमे बहुत बुरा लगा।
“भाई बहन हमारी तो कोई दूसरा लड़का उसे क्यों चोदे??? मैंने महेश से बोला
“राकेश तू सही कहता है। अलीशा को सबसे पहले चोदने का हक हमारा है” मैंने कहा
फिर धीरे धीरे हम दोनों उसे पटाने लगे। उसके बेड पर तकिया के नीचे दोनों भाई playboy मैगजीन रख देते थे। उसने नंगी नंगी लड़कियों की फोटो होती थी। धीरे धीरे अलीशा वो देखने लगी। और मागने लगे। फिर मैंने उसे चुदाई कहानी वाली किताब लाकर दे दी। धीरे धीरे उसे सेक्सी स्टोरी पढने का चस्का लग गया। एक दिन रात में पापा मम्मी किसी शादी में चले गये। अलीशा अपने कमरे में हमारी playboy वाली मैगजीन देख रही थी। मैं और महेश वहां चले गये और अलीशा को किस करने लगे। उसे भी मजा आने लगा।
“आप दोनों भाई क्या कर रहे हो??” वो पूछने लगी
“बहन!! आज हम दोनों भाई तुमसे चुदाई की रासलीला करेंगे। तुमको मजा आएगा” मैंने कहा
“और अगर तुमको मजा न आये तो हम फिर दोबारा तुमको नही चोदेंगे” महेश बोला
उसके बाद दोनों बारी बारी से बहन अलीशा को किस करने लगे। उसने हल्के हरे रंग का सलवार सूट पहना था। उसे हम दोनों से बिस्तर पर लिटा दिया और दूध उपर से छूने लगे। उसका जिस्म बिलकुल भरा हुआ था। दोनों भाई उपर से दबाने लगे। अलीशा “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” करनी लगी। मैंने उसके मुंह पर मुंह रख दिया और होठ चूसने लगा। वो भी चूसने लगी। फिर महेश उसके होठ चूसने लगा। मैंने उसके दुप्पटे को गले से निकाल दिया। किनारे रख दिया। महेश उसके होठ जल्दी जल्दी काट काटकर चबा चबाकर चूस रहा था। दोनों भाई उसके कबूतर उपर से ही दबाने लगी। मैंने उसकी सलवार के उपर चूत पर सहलाने लगा। उपर से उसकी चूत को सहलाने लगा। अलीशा “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….”करने लगी indiansexkahani.com
“राकेश भाई!! मजा आ रहा है। करो और करो” वो बोली
अब मैं भी खुलकर उसकी चूत सहलाने लगा।

“बहन!! जल्दी से नंगी हो जाओ। ये पर्दा क्यों। अपने भरे हुए जिस्म का दीदार कराओ!!” मैंने कहा
अलीशा ने अपना सलवार सूट उतार दिया। अब वो काली ब्रा में हम दोनों भाई से सामने आ गयी। मैंने उसे बाहों में भर लिया और किस करने लगा।
“ओह्ह बहन!! तेरा जिस्म तो गुलाब की तरह खिल गया है। माँ कसम!! कड़क माल है तू!!” मैंने कहा और काली ब्रा के उपर से उसके आम दबाने लगा। मेरी बहन अब चुदने लायक हो गयी थी। 20 साल की हो गयी थी। मैंने उसके गाल, गले और चेहरे पर खूब किस किया। कुछ देर तब ब्रा के उपर से अलीशा के दूध दबाता रहा। फिर हट गया। अब मेरा भाई महेश आ गया और उसे चूसने लगा। धीरे धीरे उसके अलीशा की ब्रा उतार दी। अलीशा को बिस्तर पर लिटा दिया और पप्पी लेने लगा। मेरी बहन अब जवान हो चुकी थी। चोदने लायक सामान बन गयी थी। उसका जिस्म अंदर से सोने जैसा था। अलीशा की जवानी देखकर महेश पागल हो गया और मम्मे पर चुम्मा देने लगा।
“राकेश!! अपनी बहन तो सोना है सोना!!” वो बोला
“हाँ भाई!! सही कह रहा है” मैंने कहा
फिर महेश अलीशा के आमो को हाथ से सहलाने लगा। फिर जोर जोर से दबाने और मसलने लगा। ““अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…भाई आराम से मेरे मम्मे दबाओ!! लग रही है” अलीशा बोली
महेश तो माना ही नही। उसने अलीशा को बाहों में भर लिया और जल्दी जल्दी दूध मुंह में लेकर चूसने लगा। अलीशा का बदन बहुत सेक्सी था। दूध जैसा गोरा और चिकना। 38, 30, 32 का सेक्सी फीगर था। 38” की बड़ी बड़ी सफ़ेद चूचियां थी। महेश मुंह में लेकर चूसने लगा। जल्दी जल्दी किसी प्यासे आदमी की तरह चूस रहा था। 10 मिनट तक मेरा भाई महेश मेरी बहन के मम्मे चुसता रहा। ये सब देखकर मैं गर्म हो गया और कपड़े उतारकर नंगा हो गया। महेश हट गया। अब मैंने अलीशा के उपर लेट गया। उसे बाहों में कस लिया
“राकेश भैया!! मेरे दूध बड़े नर्म है। आराम से चूसना। प्लीस दांत मत गड़ाना” अलीशा बोली
“ठीक है बहन!!” मैंने कहा
फिर उसके दूध चूसने लगा। अलीशा की छाती बड़ी रसीली रसीली और बड़ी बड़ी थी। निपल्स बहुत सेक्सी थी। मैंने जल्दी जल्दी पीने लगा। बायीं चूची मुंह में भरके चूस रहा था।

जल्दी जल्दी किसी प्यासे की तरह। वो “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” करने लगी। मैं सेक्स के नशे में भूल गया और उसकी मुलायम छातियों पर दांत गड़ाने लगा। बहन सिसकने लगी। कराहने लगी। खूब चूसा मैंने। फिर उसकी दाई छाती को मुंह में लेकर अपनी औरत की तरह चूसने लगा। अलीशा भी मस्त और चुदासी हो गयी। हाथ से मैंने उसके दोनों बूब्स को खूब दबाया। खूब मसला। फिर महेश भी नंगा होकर आ गया।
“चल बहन!! अपनी चूत पिला” मेरा भाई महेश बोला
मैं हट गया। महेश ने अलीशा को किस किया फिर उसके पैर खोल दिए। काली उसकी काली चड्डी चूत के रस से गीली होकर चिपक गयी थी। महेश अलीशा की गोरी चिकनी जांघ को सहला सहलाकर चूत चाटने लगा। चड्डी के उपर से जल्दी जल्दी किसी कुते की तरह चाट रहा था। अलीशा “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..”करने लगी। उसके पुरे जिस्म में थरथाराहट होने लगी। महेश तो चुदासा हो गया था। जल्दी जल्दी अलीशा की बुर चाट रहा था। फिर चड्डी उतार दी। अब कुवारी बहन का भोसड़ा पीने लगा। अलीशा के जिस्म में हलचल होने लगी। उसकी साँसे तेज हो गयी थी। जल्दी जल्दी साँसे भर रही थी। महेश तो किसी चोदू की तरह चाट रहा था। अलीशा बहन की चुद्दी बड़ी खूबसूरत थी। कुवारी चूत थी गुलाबी गुलाबी। हल्की झांटे भी थी। महेश से 15 मिनट अलिशा का भोसड़ा पीया।
“चल हट गांडू!! अब मुझे पीने दे” मैंने कहा
महेश हट गया। मैंने अपने अलीशा की भोसड़ी पर आ गया। जल्दी जल्दी उसकी बुर चाटने लगा। बड़ा मीठा स्वाद का उसकी चूत का। मैं जल्दी जल्दी चाट रहा था। बार बार सफ़ेद मक्खन चूत से निकल आता था। मैं जल्दी जल्दी चाट लेता हूँ। बहन के चूत के होठ खूब बड़े बड़े और उपर को उठे हुए थे। मैं उसकी दांत से पकड़कर जल्दी जल्दी चूसने लगा। अलीशा “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….”करने लगी। मैंने उसके चूत के दाने पर जीभ की नोंक से बार बार ठोकर मारने लगा।

loading...

अलीशा तो काँप गयी। अब उसकी चूत किसी भट्टी की तरह तप रही थी। मैं रुका नही और उसके भोसड़े के छेद में अपनी जीभ घुसाने लगा। अलीशा के जिस्म में थरथरी दौड़ने लगी। उसे भी अच्छा लग रहा था। मैं चूत का सब रस चूस लिया। फिर हम दोनों भाई बिस्तर पर लेट गये अपने अपने पैर खोलकर।
“आओ बहन!! हम दोनों की लंड चुसाई कर दो!!” मैंने कहा
अलीशा दोनों भाइयों के लंड दोनों हाथ में लेकर चूसने लगा। अब वो बैठ गयी थी।
“भाई आप दोनों का लौड़ा तो बहुत लम्बा और मोटा है” वो आँखें फाड़कर बोली
“चूसो!! अलीशा जल्दी से मुंह में लेकर चूसो!!” मैंने कहा
वो किसी रंडी की तरह दोनों के लौड़े हाथ से फेंट रही थी। मैं और महेश —ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….”करने लगी। क्यूंकि हम दोनों को बहुत मजा मिल रहा था। कुछ देर में हम दोनों के लौड़े आसमान की दिशा में खड़े हो गये। महेश भाई का लौड़ा 5” का था और मेरा 6” का था। अलीशा जल्दी जल्दी फेट रही थी। हम दोनों के लौड़े और सेक्स के नशे से फूल कर और मोटे तगड़े होते जा रहे थे। फिर वो जल्दी जल्दी चूसने लगी। मुझे तो आज जन्नत मिल गयी। इस समय बहन मेरा लौड़ा मुंह में डालकर चूस रही थी। किसी रंडी जैसी सेक्सी और चिकनी दिख रही थी। जल्दी जल्दी किसी रांड की तरह अपने सिर को मेरे लंड पर दौड़ा रही थी।

loading...

मेरा लंड किसी हाथी की लंड की तरह दिख रहा था। मैं अलीशा के मुंह को लंड की तरह दबा रहा था जिससे लंड उसके गले तक चला जाए। 20 मिनट उसने मेरा लंड चूसा। अब वो महेश का लौड़ा चूसने लगी। उसके गुलाबी सेक्सी होठो महेश के लौड़े पर उपर नीचे होने लगे। खूब चूसा उसने। अब मैंने उसके पैर खोल दिए और भोसड़े में लौड़ा डाल दिया और धक्का देने लगा। थोड़ी मेहनत के बाद मेरा  लंड अंदर घुस गया। अलीशा “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….”करने लगी। मैं कमर हिला हिलाकर उसे पेलने लगा। सिर से पाँव तक मेरी बहन सोना था। 20 साल की अभी कच्ची कली थी। मैं उसकी चूत को चोद चोदकर कली से फूल बनाने लगा।
“चोदो!! चोदो और कसके चोदो राकेश भाई!! मजा आ रहा है!!” अलीशा बोली
ये सुनकर मेरी ख़ुशी बढ़ गयी। मैं पकर पकर उसकी चूत में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा। indiansexkahani.com
“साली रांड!! आज हम दोनों भाई चोद चोदकर मेरा भोसड़ा फाड़ देंगे!! आज तुझे असली रंडी बना देंगे” मैंने कहा और 2 -4 तमाचा उसके गाल पर जड़ दिया।
फिर से मैं अपनी कमर उठा उठाकर उसे पेलने लगा। अलीशा “…….उई. .उई..उई…….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ……अहह्ह्ह्हह…”की सेक्सी आवाजे निकालने लगी। कुछ देर बाद माल उसकी चूत के अंदर ही छोड़ दिया। मैं हट गया। अब मेरा भाई महेश आ गया। उसने अपना  लंड अलीशा के भोसड़े में डाल दिया और पेलने लगा। उसकी 38” की गोल गोल रसीली छातियाँ गोल गोल हिल रही थी। जैसे डांस कर रही थी।

“ओह्ह बहन!! तेरी फुद्दी तो मलाई जैसे नर्म है” महेश बोला
फिर उसने अलीशा को बाहों में भर लिया और सब जगह चुम्मा लेने लगा।
“भाई!! फाड़ तो आज मेरी कुवारी बुर को!! इसका सत्यानाश कर दो!!” अलीशा की छिनाल की तरह बोली
महेश से उसके गले को सीधे हाथ से पकड़ लिया और उसका गला दबाने लगा। नीचे से जल्दी जल्दी अपनी कमर उठा उठाकर उसे पेल रहा था।
“रंडी!! आज के बाद तू सिर्फ हम दो भाईयों से चुदवाएगी। तू हमारी बहन है इसलिये मेरी चुद्दी चोदने का हक मेरा है। indiansexkahani.com
अलीशा को सांन न ले पाने की वजह से खांसी आने लगी। महेश ने उसके दोनों दूध पर हाथ से कई चांटे चट चट मार दिए। फिर जल्दी जल्दी कमर को दोनों तरह से हाथ से कसके पकड़ लिया। और जल्दी जल्दी अलीशा को चोदने लगा। वो “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” करने लगी। महेश ने उसे 30 मिनट बिना रुके पेला। फिर चूत में ही झड़ गया। अब हमारी बहन अलीशा हम दोनों भाई की रंडी बन गयी है। उसकी चूत और गांड हम दोनों रोज रात में चोद लेते है। अब वो हम दोनों की पर्सनल वेश्या बन गयी है। रोज रात में हम दोनों भाई उससे चुदाई वाली रासलीला करते है।

DMCA.com Protection Status

loading...