चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

दोस्त की माँ को तालाब में पानी के अंदर चोदा

loading...

Hindi Sex Kahani मेरा नाम बबलू है सभी लंड वालों और चूत वालियों को बबलू चोदरा की चुदाई कहानी में स्वागत है। मैंने अपने नाम के बाद चोदरा लगाया है क्योकि मै चुदाई करने में एक्सपर्ट हूँ। मेरा चोदने का फुल टाइम रिकॉर्ड है। मेरी उम्र 21 साल है। इस कहानी में मेरे दोस्त बिरजू की माँ बिमला है जिसकी उम्र 45 साल से कुछ ज्यादा होगी। मस्त गोरी गदरायी हुई माल है मेरे दोस्त की अम्मा। मैं उसको चोदने की फिराक में था। दोस्तों मैं दिखने में हैंडसम हूँ इसलिए कोई भी औरत लड़की मेरे से पट जाती है। मैं देहात का रहने वाला हूँ यहाँ बिजली से लेकर सब कुछ की समस्या है। मोबाइल का टावर भी मुश्किल से आता है। यहाँ सभी के घरो में कुआ नहीं होता लेकिन खेतों के आसपास तालाब जरूर होता है। ये कहानी उसी तालाब की है जहा मेरे दोस्त की माँ नहाने जाती है।

loading...

गर्मी का दिन था तेज धूप और बिजली का नहीं होना सब को परेशान करता है। मैं अपने घर के बाहर बैठा हुआ था। यहाँ सभी का घर दूर दूर होता है। मेरे दोस्त की माँ बिमला हाथ में बाल्टी लिए हुए जा रही थी। मैं उसे हर दिन छुप कर नहाते और कपडे बदलते देखता था आज बिमला दोबारा नहाने जा रही थी। मैं झाड़ियों से छुपता हुआ उसके पीछे पीछे गया। बिमला पहले तालाब से एक लोटा पानी लेकर तालाब किनारे बेसरम की घनी झाड़ी में चली गयी मैं जानता था बिमला टट्टी करने गयी है। देहाती लोगो को खाना खाने के बाद टट्टी जाने की बड़ी ख़राब बीमारी होती है ये बात मेरे सभी देहाती भाई और माल लोग को पता होगा जो अभी ये कहानी पढ़ रहे है।

मैं जल्दी से भाग कर तालाब के किनारे गया वहाँ बिमला के कपडे रखे हुए थे मैंने उन्हें छूकर अपना लंड पेन्ट से बाहर निकाल कर रगड़ने लगा। मैंने 2 दिन से अपना लंड साफ़ नहीं किया था मेरे लंड की टोपी के अंदर सफ़ेद मैल जमा हुआ था। मैंने सारा मैल उसके कपड़ों पर रगड़ दिया।
बिमला को आता देख कर मैं तालाब की मेढ़ पर पीछे से छुप गया। बिमला आयी तालाब किनारे बैठ कर नहाने लगी। थोड़ी देर बाद बिमला पानी के अंदर उतर गयी। मैं आराम से तालाब की तरफ बढ़ा और उसी किनारे जाकर अपने कपडे उतार तालाब में नहाने लगा मैंने सिर्फ चड्डी पहनी हुई थी। बिमला मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी। मेरी बॉडी किसी भी औरत को मेरे वस में करवा सकती थी। मैं तालाब में तैरता हुआ अंदर चला गया। तैरते तैरते मैं बिमला के पास गया और कहा काकी आज इतने देर नाहा रही हो ? काकी जवाब देते हुए बोली बबलू गर्मी ज्यादा हे ना रे। तू भी नहाये आया है ना। मैं मुस्कुराने लगा दोस्त की माँ मुझे फुल लाइन दे रही थी। मैं जानता था ये चुदाई की प्यासी है। मेरे दोस्त का बाप एक नंबर का जुवारी और शराबी है मुझे तो कभी कभी सक होता है मेरा दोस्त बिरजू कही किसी और की औलाद तो नहीं है। आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे/रही है।

मैं मजे से तालब के ठन्डे पानी का लुफ्त उठा कर नाहा रहा था। बिमला मुझ से थोड़ी दुरी पर थी उसने एक पतला सा नहाने का कपडा बंधा हुआ था जिससे उसकी चूचिया और निप्पल दिख रहे थे। मेरा लंड भनभना कर खड़ा हो गया। मैं चड्डी उतार कर अपने एक टांग में लपेट लिया और नंगे तैरने लगा। मैं बिमला के बिल्कुल पास गया और उसको बोला आओ काकी पानी के अंदर चलो मैं तुमको गहरे पानी में तैरना बताता हूँ। बिमला मान गयी मैं उसको हाथ पकड़ कर गहरे पानी में ले गया बिमला घबरा गयी और डूबने लगी मैं उसको खिंच कर पकड़ लिया। मैंने उसको पीठ की तरफ से पकड़ा हुआ था मेरा 7 इंच का लंड उसकी गांड छू रहा था। बिमला मुझे देख कर बार बार मुस्कुराये जा रही थी। मुझे ग्रीन सिग्नल मिल गया था। मैं तालाब के चारो तरफ देखा कोई नहीं था। बिमला को पीछे से पकड़ कर उसके कद्दू जैसे बड़े बड़े चूचियां मसलने लगा बिमला अपनी के अंदर हाथ पर मारने लगी। उसके कपडे ऊपर उठा कर पीछे से उसकी चूत की छेद मिला कर लंड अंदर डाल दिया मेरा लंड पुरररर की आवाज से उसकी फटी हुई चूत में समां गया उसका भोसड़ा हुआ पड़ा था। मै उसको पानी के अंदर उछाल उछाल कर चोदने लगा। पानी के अंदर छप छप छप की आवाज आने लगी। उसके भोसड़े से लंड निकाल कर उसकी गांड की छेद पर दबा कर जोर से धक्का दिया बिमला काँप गयी मैंने उसकी गांड फाड़ दी थी। 5 मिनट तक पानी के अंदर मैंने बिमला को चोदा और उसकी गांड के अंदर ढेर हो गया। मै बिमला को पकड़ कर जंगल के अंदर ले गया वहाँ पेड़ के नीचे उसकी टांगे उठा कर उसको 20 मिनट तक चोदा। दोस्तों उसकी चूत का था भोसड़ा था लेकिन गांड थी दमदार। जिसे चोद कर मजा आ गया था। आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे/रही है।

आधे घंटे बिमला मेरे साथ वही पेड़ के नीचे बैठी हुई थी उसके बाद मैं उठ कर उसके मुँह में लंड डाल दिया बिमला मेरा लंड चूसना नहीं चाहती थी मैं उसके मुँह में लंड पेल दिया और उसके मुँह को पेलने लगा। 10 मिनट मुँह चोदने के बाद मैं उसके मुँह में मूत दिया। बिमला ओख ओख करते हुए पूरा मूत थुकी और मुझे माँ बहन की गाली देने लगी। मै कमीना आदमी मजे से गाली सुन कर लंड दोनों हाथों से फेट रहा था। मैं बिमला के ऊपर चढ़ गया उसको लेटा कर उसके बड़े बड़े चूचियों के बीच अपना लौड़ा डाल कर चोदने लगा बिल्कुल सेक्स फिल्म की चुदाई के जैसे चोदते चोदते मैंने पूरा पानी उसकी दूध के ऊपर छोड़ दिया। उस दिन से हर दोपहर की गर्मी बिमला मेरा लंड खाती है और मेरे लिए खाना लेकर आती है।  DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...