चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

दोस्त ने दोस्ती का फायदा उठाकर बहन को चोद लिया

loading...

sexy stories दोस्त ने दोस्ती का फायदा उठाकर बहन को चोद लिया,, हेलो दोस्तों  आज मैं आपको अपनी कहानी सूना रहा है। आशा है आपको पसंद आएगी।
मेरी दोस्ती पडोस के एक लड़के से हो गयी। उसका नाम नामदेव था। मैं उसे अच्छा लड़का समझता था। पर वो ऐसा नही था। वो एक छोटी पान की दूकान चलाता था। मैं जब भी स्कूल से लौटता उसकी दूकान पर चला जाता। वहां पर मैं फ्री में सिगरेट फूकता। धीरे धीरे नामदेव मेरे घर आने जाने लगा। मेरे घर पर सिर्फ मेरी जवान बहन अदिति ही रहती थी। मैंने ही नामदेव को अपनी बहन से मिलवाया। मेरे पापा मम्मी बहुत पहले ही गुजर गये थे। मेरी बहन का नाम अदिति था। वो अभी अभी जवान हुई थी। वो सिर्फ 21 साल की थी। मोहल्ले में मेरी दोस्ती सिर्फ नामदेव से थी। बाकी लड़के अच्छे नही थे और चोरी होने का डर था।
रात को वो मेरे घर आ जाता और हम तीनो साथ में टीवी देखते। मुझे खाना पकाने का बड़ा शौक था इसलिए मैं किचेन में जाकर हम तीनो के लिए सैंडविच बनाता और कोफी बनाता। नामदेव एक जिन्दा दिल लड़का था। वो मेरी जवान सेक्सी बहन से खूब बात करता। वो दोस्त की तरह ही पेश आता। अदिति भी उससे हसंकर बात करती। मेरी बहन को पास पास खाना और सिगरेट पीना पसंद था। जब नामदेव को पता चला तो वो आये दिन डिब्बे के डिब्बे सिगरेट लाने लगा। मैं सोचता कि फ्री में मिल रही है क्या हर्ज है। मैं भी खूब फूकता। हम तीनो रात रात भर टीवी देखते। खूब मजा करते। मेरे बेस्ट फ्रेंड नामदेव को कई तरह के जोक आते थे। कई बार वो नॉनवेज जोक कह देता। अदिति दूसरी तरफ सर झुकाकर हसने लग जाती। हम बहुत मजे करते। एक दिन नामदेव बियर लेकर चला आया। उसने उसमे व्हिस्की भी मिला दी थी। ये बात ना तो मुझे पता थी और ना ही अदिति को। उसने सबको दी।  आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
“नही मैंने नही पीती हूँ” मेरी जवान बहन अदिति बोली
“अरे तुम भी कैसी बात कर रही हो। अब तो हर तरह की लड़की पीती है। देखो नाटक मत करो। कुछ नही होगा। चलो पी जाओ” नामदेव अदिति से कहना लगा और जबरदस्ती करने लगा। उसके बाद अदिति ने पी ली। धीरे धीरे सबको चढने लगी। मैं और अदिति को तुरंत नशा चढ़ गया। नामदेव पुराना खिलाडी था। इसलिए उसे नही चढ़ी। मुझे तो बड़ी तेज नींद आने लगी।

“तुम दोनों मजे करे। मैं तो सोने जा रहा हूँ” मैंने कहा और ड्राइंग रूम से उठकर मैं अपने कमरे में चला गया। अब सोफे पर सिर्फ नामदेव और अदिति अकेले थे। वो मेरी जवान सेक्सी बहन के करीब आ गया।
“अदिति!! क्या तुमने कोई बॉयफ्रेंड बनाया है??” उसने मेरी बहन से पूछा
“नही! अब तक तो नही!” अदिति बोली
“क्या तुम मुझे अपना बॉयफ्रेंड बनाओगी??” नामदेव ने पूछा
“यस!!” अदिति शराब के नशे में बोली
नामदेव आगे बढ़ गया और मेरी सेक्सी बहन के गाल पर चुम्मी लेने लगा। अदीति भी लेने लगी। धीरे धीरे वो पट गयी। नामदेव ने उसे बाहों में भर लिया। दोनों 20 साल के करीब थे, जवान थे। दोनों का खून गर्म हो गया। नामदेव जोश में आ गया और मेरी बहन को बड़ी कायदे से चुम्मा लेने लगा। अदिति भी गर्म हो गयी। नामदेव ने उसे बाहों में भर लिया और गाल, गले, आँखों, सर, हर जगह चुम्मा और किस की बौछार कर दी। अदिति उससे पूरी तरह से पट गयी। उसने आज नीली जींस और पिंक टॉप पहना हुआ था। नामदेव उसे बाहों में भरकर खूब चूम रहा था। प्यार कर रहा था। उसके टॉप के उपर उसके दूध पर हाथ लगाने लगा। मेरी बहन भी आज चुदने के मूड में थी। नामदेव आज मेरी बहन को कसके चोद लेना चाहता था। हर तरह का मजा लूट लेना चाहता था। अदिति भी पूरी तरह से उसपर लट्टू हो गयी थी।
दोनों मजे लुटने लगे। नामदेव का लंड उसकी जींस में खड़ा हो गया। वो अदिति को चोदने को मरा जा रहा था। अदिति भी चुदवाने के मूड में थी। नामदेव ने कस कसके मेरी बहन के आम दबाने शुरू कर दिए। अदिति बहुत सुंदर माल थी। 34” की सजीली गोरी गोरी दूध भरी चूचियां थी उसकी। उसका चेहरे भी काफी सुंदर था। बड़ी भोली भाली थी मेरी बहन। पर आज नामदेव मेरी जवान बहन की चूत की कली को चोद चोदकर फूल बनाने जा रहा था। मैं अपने कमरे में बेहोश होकर सो रहा था।
“जान कपड़े उतारो!!” नामदेव ने कहा
अदिति ने अपने हाथ उपर करे और टॉप उतार दिया। फिर अपनी जींस खोलकर उतार दी। अब वो लाल रंग की ब्रा पेंटी में आ गयी थी। उधर नामदेव ने अपनी टी शर्ट जींस उतार दी। अपना अंडरवियर उतार दिया। उसका लंड 7” लम्बा था। उसने खुद मेरी बहन की ब्रा और पेंटी अपने हाथो से उतारी। अदिति को सोफे पर लिटा दिया और उसके मम्मे हाथ से कस कसके दबाने लगा। मेरी सेक्सी बहन “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” की गर्म गर्म आवाजे निकालने लगी। नामदेव दूध को हाथ से कस कसके दबा रहा था और मम्मो के दर्शन कर रहा था। खूब मजा लिया उसने अदिति से। बूब्स पर अपने हाथों को गोल गोल करके सहला रहा था। अदिति को मजा आ रहा था। नामदेव उसकी बड़ी बड़ी चूचियों को मुंह में लेकर चूस रहा था। ओह्ह मेरी बहन के दूध शायद दुनिया के सबसे सुंदर दूध थे कलश जैसे। नामदेव तो पूरी तरह से पागल हो गया था। मुंह में लेकर चूस रहा था। भरपुर मजा लूट रहा था। उसने 20 मिनट तक अदिति के मस्त मस्त आम को चूसा। जन्नत का मजा लुट दिया। अदिति “ओहह्ह्ह…ओह्ह्ह्ह…अह्हह्हह…अई..अई. .अई… उ उ उ उ उ…” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। मेरा दोस्त अदिति की चूत और गांड में ऊँगली लगा कर देख रहा था। अदिति अपनी गांड उठा देती थी।   आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 

“लो अदिति फेटो इसे!!” नामदेव बोला और अपना 7” का लम्बा और 3” मोटा लंड अदिति के हाथ में दे दिया।
अदिति जल्दी जल्दी फेटने लगी। शायद उसे भी ये सब अच्छा लग रहा था। वो पूरी तरह से गर्म हो गयी थी। चुदने का बहुत मन था उसका। वो मोटे लंड को पकड़कर उपर नीचे फेटने लगी। उसे अच्छा लग रहा था।
“क्या किसी लड़के ने तुमको कभी चोदा है???” नामदेव ने मेरी बहन से पूछा
“हाँ!! 2 साल पहले मेरा एक बॉयफ्रेंड था। वो मुझे अक्सर अपनी कार में ले जाकर चोद लेता था” अदिति बोली
“मजा आता था तुमको??” नामदेव ने जिज्ञासु होकर पूछा
अदिति हँसने लगी।
“हाँ बहुत मजा आता था” वो नजरे झुकाकर बोली
“जान!! आज फिर से मैं तुझे जन्नत की सैर करवा दूंगा” नामदेव मेरी बहन की ठुड्डी पर हाथ रखकर बोला
“चल बेटा !! चूस इसे” वो बोला
मेरी बहन भी एक नम्बर की रंडी थी। मुंह में लेकर चूसने लगी। नामदेव का लंड बहुत मोटा था। अदिति के मुंह में जाने को तैयार नही था। पर फिर भी वो उसे लेकर चूस रही थी। अंत में नामदेव का लंड पूरी तरह से मेरी बहन के मुंह में समा गया। वो मजे लेकर चूसने लगे। वो जल्दी जल्दी हाथ से फेट भी रही थी और चूस भी रही थी। दोनों काम एक साथ कर रही थी। नामदेव खूब मजे लुट रहा था। मेरी बहन बिलकुल रंडी लग रही थी। खूटे जैसे लौड़े को कस कसके चूस रही थी। अब नामदेव का लंड और सुपाडा बिलकुल गुलाबी गुलाबी सुंदर दिख रहा था। अदिति तो बस बिना रुके ही चूस रही थी। काफी देर तक ऐसा करती रही। फिर नामदेव सोफे पर लेट गया। मेरी बहन उसकी लटकती हुई गोलियों को किसी टॉफी की तरह चूस रही थी। नामदेव को खूब मजा मिल गया।   आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
उसने मेरी बहन को सोफे पर लिटा दिया और उसकी सेक्सी नाभि में किस करने लगा। उसे अच्छा लग रहा था। कम से कम 10 मिनट तक नामदेव मेरी बहन के सेक्सी पेट को सहलाता रहा और किस करता रहा। अदिति उसका साथ निभा रही थी। फिर उसने खुद ही अपने दोनों पैर खोल दिए। मेरा दोस्त अब मेरी बहन की गुलाबी चूत के दर्शन करने लगा। अदिति की चूत बहुत सुंदर थी। वो जीभ लगाकर चाटने लगा। अदिति “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की गर्म गर्म आवाजे निकालने लगी।

loading...

नामदेव अपनी जीभ घुमा घुमाकर मेरी बहन का भोसडा पी रहा था। अदिति पागल हुई जा रही थी। उसे अच्छा लग रहा था, मजा आ रहा था। दोनों मजे लूट रहे थे। मेरा दोस्त आज मेरी बहन की चूत का सारा रस चूस रहा था, पी रहा था। कुछ देर बाद अदिति की चूत से सफ़ेद मक्खन निकलने लगा। पूरी चूत में बाढ़ आ गयी। अब तो नामदेव की जैसे चांदी हो गयी थी। वो मजे लेकर चूस रहा था। अंत में उसने अपना 7” का लंड अदिति के भोसड़े पर सेट कर दिया और एक धक्का जोर से मार दिया। अदिति की चूत फट गयी। लंड अंदर घुस गयी। नामदेव मेरी बहन को मजा लेकर चोदने लगा। दोनों मजे लुट रहे थे। इसी बीच नामदेव जानवर बन गया। उसने मेरी बहन के गाल पर 2 -4 चांटे मार दिए।
“खोल पैर साली….खोल अपने पैर” नामदेव बोला
अदिति ने अपने पैर खोल दिए। मेरा दोस्त आप मेरी दोस्ती का नाजायज फायदा उठा रहा था। मेरी बहन उसकी भी बहन लगती थी पर वो साला मेरी बहन को मेरे ही घर में चोद रहा था। खूब पेला उसने अदिति को। जी भरकर खाया उसकी चूत को। कुछ देर बाद अदिति की चूत से खून बहने लगा। नामदेव बहुत खुश हुआ खून देखकर। उसने काफी देर तक गरमा गर्म सम्भोग किया और अंत में अदिति की चूत में मॉल छोड़ दिया। इस महाचुदाई में अदिति भी हांफ गयी। दोनों पसीने में नहा गये। नामदेव अदिति के उपर ही लेट गया और फिर से उसकी चांदी जैसी चूची मुंह में लेकर चूसने लगा।   आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 

loading...

सुबह वो अपने घर चला गया। इस तरह रोज वो आने लगा। मुझे नही मालुम था की वो अदिति को मेरे पीठ पीछे चोद लेता है। एक दिन मैं हम तीनो के लिए पिज्जा लाने मार्केट गया था। जब मैं 30 मिनट बाद लौटा तो अदिति  के साथ कमरे में थी। दोनों किस कर रहे थे। धीरे धीरे वो मजे लुटने लगे। नामदेव ने उसे कुतिया बना गया। आज मैंने पहली बार अपनी बहन को कुतिया बने हुए देखा था। अदिति की गांड और पिछवाडा बहुत सुंदर और सेक्सी था। कितनी मस्त माल दिख रही थी वो। अदिति के दूध पके पके आम की तरह लटक रहे थे। नामदेव मेरी बहन की गांड चाट रहा था। फिर लंड घुसाकर उसने 40 मिनट तक मेरी बहन की गांड मार ली। अंत में गांड के छेद में ही झड़ गया। DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...