चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मेरी एक्स गर्लफ्रेंड की Pyasi Chut

मैं राज हु. मैं ३० साल का हु और एक प्राइवेट जॉब में हु. ये स्टोरी मेरी एक्स गर्लफ्रेंड की है. उसका नाम श्वेता है. श्वेता पहले मेरे साथ ही काम करती थी और बाद में उसकी शादी हो गयी और वो मुंबई चली गयी. लेकिन हम लोगो की बातचीत होती रहती थी कभी – कभी. हम दोनों के बीच में, उसकी शादी से पहले सेक्स संभंध थे. तो वो मुझसे अपने बेडरूम की बाते भी शेयर कर लेती थी. उसने मुझे बताया था, कि उसके पति का लंड बहुत छोटा है और चूत में डालते ही झड़ जाता है. उसका पति उसको गरम तो कर देता था, पर उसकी प्यास को बुझा नहीं पाता था. वो रात भर तड़पती रहती थी. मैंने उसे टिप्स दिए, कि तुम्हारे पति ओवर-एक्साइट हो जाते होंगे. जिसकी वजह से वो जल्दी झड जाते होंगे. उसने बोला – तुम्हारे बताये, सारे उपाय करने के बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ और इसी कारण से, उन दोनों के अक्सर झगड़े और मारपिट होने लगी थी.

बात उनके तलाक तक आ चुकी थी. एक लम्बी कोर्ट हियरिंग के बाद, उन दोनों का तलाक हो गया. वो मेरे ही शहर में फिर से आ गयी थी और दूसरी कंपनी में जॉब ज्वाइन कर ली थी. हम दोनों की मुलाकाते अक्सर होने लगी थी. जब भी टाइम मिलता, तो हम डिनर या लंच पर जाते या मूवी चले जाते थे. एक दिन वो बोली – मुझे ऑफिस के काम से तीन – चार दिन के लिए दुसरे शहर जाना है. क्या तुम चलोगे? सारा खर्चा ऑफिस का है. प्लीज चलो ना, बड़ा मज़ा आएगा.

हमलोग, शनिवार की रात को ट्रेन से चले गये और नेक्स्ट मोर्निंग में होटल में चेक- इन किया. सन्डे होने की वजह से कोई काम नहीं था. तो हम लोग फ्रेश होकर ब्रेकफास्ट करके टीवी देखने लगे. हम दोनों बात कर रहे थे. वो बोली – इतनी दूर आकर भी, हम लोग टीवी देख रहे है. राज, क्या हम इतनी दूर सिर्फ टीवी देखने आये है? बोलो राज… बोलो ना… मैंने कहा, तो फिर तुम ही बोलो; क्या करना है? उसने कहा, पहले जाकर तुम कंडोम लेकर आओ. हम लोगो के पास तीन दिन है और जब भी टाइम मिलेगा, हम सेक्स करेंगे. इसलिए तो तुम्हारे साथ आई हु, राज. मैं बहुत प्यासी हु राज. मुझे सेक्स करना है. मुझे प्लीज बहुत तेज चोदो.. बहुत जोर से… मेरी प्यास बुझा दो… बुझाओगे ना .. राज. वो बहुत मासूम लग रही थी. फिर उसने मुझे थोड़ा डांटते हुए बोला – जल्दी जाओ ना… लेकर आओ कंडोम. नहीं तो मैं ऐसे ही कर लुंगी सेक्स… तुम समझो ना.. अगर कुछ गड़बड़ हो गयी, तो प्रॉब्लम हो जाएगी.. फिर जब मैं कंडोम लेकर आया रूम में.

मैं तो देखता ही रह गया. वो रेड साड़ी में बिलकुल दुल्हन की तरह सजी हुई पलंग पर बैठी थी. उसमे मेरी और अपनी बांहे फैला दी और मुझे बुलाने का इशारा करने लगी. मैं भी कूद पड़ा बेड पर. पहले तो मैंने उसे एक लम्बी से हग की और वो मुझसे बिलकुल चिपक गयी. काफी देर ऐसे ही रहने के बाद, हम लोग एक दुसरे को किस करने लगे.. हम दोनों की आईज क्लोज थी और धीरे से बेड पर लेट गये. जब वो लेट गयी.

तो कसम से बहुत ही मस्त लग रही थी रेड साड़ी में लिपटी हुई और साइड से खुला पेट उसके ऊपर एक साइड की चूची बंद आँखे, कांपते लिप्स आहाहहः अहहहः ह्म्म्मम्म गहरी नाभि देख कर, मैं भी पागल हो गया. वो छटपटाने लगी. फिर मैंने उसके लिप्स पर अपने लिप्स लॉक कर दिए और हमारे जीभ आपस में खेल रहे थे. हम एक दुसरे के रस को पी रहे थे. फिर मैंने उसका पल्लू हटा दिया और बूब्स का उपरी भाग जो बाहर रहता है, उसे किस करने लगा, चूमने लगा. मैंने उसे उल्टा किया और डीप कट थी पीछे से ब्लाउज. पूरी पीठ नंगी, बिलकुल साफ़, गोरी – गोरी चिकनी सेक्सी पीठ थी. दोस्तों, खुली पीठ देखते ही, मुझे सेक्स आ जाता है.

मैं बड़े ही प्यार से पीठ को चूमता, किस करता और सहलाता जा रहा था. फिर नैक पर और फिर से पलट कर फ्रंट से नैक पर, कान पर और कान के आसपास चूम रहा था और चाट रहा था. मैंने उसके पुरे कान को अपने मुह में ले लिया था और फिर हलके – हलके दांतों से काट रहा था. फिर, मैंने उसकी ब्लाउज को उतार दिया. उसने रेड सिल्क की ब्रा पहनी हुई थी और उसके ३६ साइज़ के मस्त बूब्स उस ब्रा में कैद थे और बाहर आने को मचल रहे थे.

मैंने बिना ब्रा खोले ही, उसके चूचो को दबाना शुरू कर दिया. मैं उनको चूम रहा था और मस्ती में चूस रहा था. बड़ा मज़ा आ रहा था और वो भी आहाह्ह्ह्ह अगगागागाग… ह्ह्हह्म्म राज करो ना प्लीज और जोर से करो… आज से मैं तुम्हारी हु.. सिर्फ तुम्हारी… अहहः उम्म्मम्म.. उसकी ब्रा पूरी भीग गयी थी मेरे चूसने से. मैं पूरी तरह से उसके जिस्म की खुशबु के नशे में डूब चूका था और फिर मैंने खीच कर उसकी साड़ी निकाल दी. उसने रेड कलर की पेटीकोट पहनी थी. उसके पेटीकोट के कट से उसकी रेड पेंटी झलक रही थी.

मैंने अब एक हाथ से उसके पेटीकोट को ऊपर किया और उसके बूब्स को चूम रहा था. वो दोनों पेरो को आपस में जोड़ रही थी. मैंने उसके पेरो को एकदुसरे से हटाते हुए, अपने हाथ को उसकी पेंटी तक ले गया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा और तभी उसने अपनी ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा से अपने बूब्स को आजाद कर दिया. वो बोली पी ले इसे और लव बाईट कर दो मुझे बहुत सारा. मैं फिर उसके बूब्स पर टूट पड़ा. क्या मस्त गोल – गोल बूब्स थे. मैंने अपना फेस दोनों उसके दोनों बूब्स के बीच में रखा और दोनों बूब्स को अपने फेस से दबाने लगा.

फिर निप्पल को चूसने लगा और फिर उसने मुझे अपनी दोनों चुचियो को दोनों साइड से दबाकर चूसने को कहा. मैंने वैसे ही किया. मैंने उसे लव बाईट भी दिए. अब हम दोनों ही वाइल्ड हो चुके थे और वो बोलने लगी.. प्लीज अब अपने कपडे भी उतार दो. अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. प्लीज अब अपने लंड को मेरी चूत में डाल दो. मुझे इतना सुख कभी नहीं मिला है. प्लीज जल्दी करो.. मैं पहले ही दो बार झड़ चुकी हु, जानू अहहहः अहहहः.. ह्ह्हह्ह्म्मम्म करो ना प्लीज … जल्दी… फिर मैंने भी सारे कपडे उतारे और वो मेरा लंड देख कर खुश हो गयी. वो बोली तुम्हारा लंड पहले से काफी लम्बा और मोटा हो गया है. मैंने कहा – जानू, ये मैंने तुम्हारे लिए ही किया है. वो बोलने लगी – डालो ना फिर.. प्लीज.

मैंने उसकी पेंटी उतार दी. क्या क्लीन शेव चूत थी. मैं उसके दोनों लेग्स के बीच लेट गया और चूत को पहले सूंघने लगा. अहहहः अहहहः क्या मस्त खुशबु थी. फिर अपनी फिंगर से चूत के लिप को ओपन किया और जीभ से सहलाने लगा. चूत का दाना बिलकुल बाहर आ गया था. जिससे मेरी जीभ उससे टच हो रही थी. वो अहहहह्हा अहहहः म्म्म्मम्ह्ह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह करने लगी और सिर को धक्का मारने लगी. थोड़ी देर चूत चाटने के बाद, मैंने अपने लंड को उसकी चूत में लगाया.

मैं अपने लंड को उसकी चूत में घुसाने की कोशिश करने लगा आआआआआ ऊऊओह्हह्हह की आवाज़े निकाल रही थी वो. फिर मैंने चूत में धीरे से पुश किया, चूत पहले से ही गीली थी; फिर भी लंड चूत में जा नहीं पा रहा था. मैंने एक और जोर से झटका मारा, थोड़ा सा लंड अन्दर चले गया और वो चिल्लाने लगी. मैंने कहा – क्या हुआ? निकालू क्या? वो बोली – नहीं राज.. आज चूत फाड़ दो मेरी.. मेरी कुछ भी नहीं सुनना और तुम बस जोर से मुझे चोदो.. मैं बहुत तड़प रही हु सेक्स के लिए.

फिर मैंने एक और झटका मारा और मेरा लंड करीब आधा अन्दर चले गया और मैं आगे – पीछे करने लगा. उसकी चूत काफी टाइट थी. मैं अब धीरे – धीरे कर रहा था और बीच – बीच में थोड़ा तेज झटका मार देता था. फिर एक लास्ट जोरदार धक्के से मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चले गया. उसकी चूत की चुदाई काफी दिनों बाद हो रही थी. मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर मैंने उसे डौगी स्टाइल में चोदा और उसकी गांड पर चांटे मारने लगा. उसकी गांड लाल हो गयी थी. उसने मुझे कहा – राज, मेरा निकलने वाला है, तुम कंडोम लगा लो. मैंने कंडोम पहन लिया और उसकी चूत में ही झड़ गया. मेरे झड़ते ही, उसने मेरे लंड को चूत में से निकाला और वो मेरे सामने बैठ गयी और मेरे लंड पर से कंडोम उतार दिया और मेरे लंड को मुह में ले लिया.

वो मेरे लंड को चूसने लगी. जो भी मेरे लंड पर मेरा माल लगा था, उसने वो चूस कर साफ़ कर दिया. वो बोली – राज थैंक यू. तुम तो कामदेव हो. जब तक हम वहां रुके, दिनरात चुदाई की, जब भी टाइम मिला. तो दोस्तों, ये मेरी स्टोरी है… प्लीज बताना मुझे.. कि आपको कैसी लगी.

कहानी शेयर करें :