चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

जिन्न ने मेरी कुंवारी चूत पर कब्जा किया Part – 2

New Sex Stories मैं अपने बिस्तर पर नंगी किसी अनदेखे से चुदवाने के लिए तड़प रही थी, मेरी चूत का पानी निकल कर मेरे बेड की चादर भीगा रहा था। मेरे लिए यह एक सपना था और मैं इसका मजा ले रही थी, वो हवा का झोखा मेरे ऊपर चढ़ गया मेरी दोनों टंगे हवा में ऊपर उठ गयी, मेरी चिकनी कुवांरी चूत किसी बर्गर की तरफ फूली हुई दिख रही थी। मेरा कामुक बदन मुझे आईने में देख रहा था। मुझे एक जोर का झटका लगा और मेरी चूत का छेद खुल गया कोई मोटी सी कोई चीज़ मेरी चूत के अंदर चली गयी थी। मेरी चूत से खून निकलने लगा मेरी सील टूट गयी। दर्द से मेरा बुरा हाल था लेकिन मैं बोल और हिल नहीं रही थी। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

अब मुझे मससूस हुआ ये सपना नहीं है, कुछ गड़बड़ जरूर है। लेकिन चुदाई की खुजली मुझे कुछ सोचने समझने नहीं दे रही थी। मेरी चूत के ऊपर जोर जोर से धक्के लग रहे थे मेरी चूत के छेद तेजी से खुल और बंद हो रहा था। बूब्स तेजी से लहराते हुई मेरी छाती हिल रही थी। मैं जन्नत के मजे लूट रही थी। 10 मिनट बाद मैं झड़ गयी। और हवा का झोखा अचानक रुक गया ऐसा लगा वो मेरी चूत के अंदर समा गया है, मेरा पूरा सरीर लाल पड़ गया था, चादर पर खून लगा हुआ था। मेरे हाथ पैर पूरा सरीर ढीला पड़ गया मैं जल्दी से उठ कर कमरे के चारो ओर देखने लगी कोई नहीं था, बिस्तर के नीचे देखी कोई नहीं था। मैं जल्दी से कपडे पहन कर चादर बदली और बाथरूम जा कर चूत की सफाई करने लगी। चूत में पानी डाल कर धो रही थी, अचानक चूत से हवा निकली और मेरी गांड में घुस गई। मैं डरते कांपते हुए अपने कमरे में गई।

मैं घर में किसी को बता नहीं सकती थी क्युकी ये समझना और समझाना दोनों मुश्किल था की हुआ क्या है। रात हुई मैं वापस सोने अपने कमरे में आ गयी। मुझे डर लग रहा था, मैं सो गयी मुझे फिर से वही सब कुछ महसूस होने लगा। मैं एक बार फिर पत्थर सी अकड़ गयी थी, मैं अपने मन में बोली कौन हो तुम मुझे क्यों परेशान कर रहे हो? मुझे आवाज आयी – मैं हूँ आप के चूत का दीवाना। मैंने पूछा – कौन हो सामने आओ। उसने कहा – मैं हवा हूँ, जिन्न हूँ दिखाई नहीं दूंगा। मैं पूछी – तुम मेरे साथ ऐसा क्यों कर रहे हो ?
उसने जवाब दिया – तुमने मुझे जगाया है, मैं तो सोया हुआ था। उस रात तुमने मेरे पेड़ पर जहाँ मैं रुका हुआ था। उसके नीचे तुमने अपनी कुवारी चूत मुझे दिखाई, मैं खुद को रोक नहीं पाया और तेरी चूत को अपना नया घर बना लिया। अब तू और तेरी चूत मेरी है, तू चाहे तो हम दोनो मिल कर मजे करेंगे ?
मैं बोली – ठीक है मजे तो पहले ही तुमने खूब दिए है। मुझे फ्री करो ताकि मैं खुल कर तुम्हारा साथ दूँ। उसने मेरा सरीर खोल दिया मैं अपने कपडे उतार कर नंगी हो गयी और उसको मेरी रगड़ कर चुदाई करने के लिए बोली। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

वो मुझे अपनी गोद में उठा लिया, मैं हवा में तैर रही थी। उसने अपना हथियार मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदना सुरु किया। मैं उसको पकड़ कर लिपट गयी और चुदाई के मजे लेने लगी। मैं ऐसे जिन्न से चुदवा रही थी जो मुझे दिखाई नहीं दे रहा था लेकिन मुझे जन्नत के मजे दे रहा था। मैं मस्ती से चुदवा रही थी। वो जिन्न मुझे हवा में उड़ा कर कमरे के हर कोने में ले जाता और उलटी सीधी इधर उधर घुमा घुमा कर चोद रहा था। मुझे एक साथ मेरे सरीर पर चारो तरफ से चुदाई की मस्ती का मजा मिल रहा था ऐसा लग रहा था एक साथ बहोत से मर्द मुझे चोद रहे है।  मेरी चूत 5 बार झाड़ गयी वो मुझे चोदता रहा और बिस्तर पर फेंक कर मेरी चूत में अंदर चला गया। अब मेरी हर रात चुदाई फिक्स थी और एक जीन मेरा बॉयफ्रेंड था। वो कभी मेरी चूत कभी गांड में घुस कर रहता और डेली 2 – 3 बार चुदाई करता। अब मुझे सुसु और पोट्टी करने टॉयलेट नहीं जाना पड़ता था। मैं अपने कमरे में नंगी हो कर खड़ी खड़ी पोट्टी और सुसु करती और वो सुसु पोट्टी गायब हो जाती।

मेरे लिए एक सपना जैसा था लेकिन मजेदार था। जिन्न मेरा हर काम करता है मेरी बात मानता मुझे प्यार करता। हर रात मैं किसी दूसरी दुनिया में होती हूँ। जिन्न का मेरी चूत पर कब्ज़ा है लेकिन मैं खुस हूँ और पूरी जिंदगी मेरी चूत जिन्न की गुलाम रहेगी। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :