चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मौसी एकदम नंगी बाथरुम से आ रही थी

loading...

दोस्तों एक बार फिर मैं आ गया हूं एकदम नई कहानी के साथ हमारे दूर की रिश्तेदार हमारे घर आई थी जिनका नाम विना था. वह मेरी मम्मी की बहन लगती थी. वह अकेली ही आई थी. दिखने में कुछ खास सुंदर नहीं थी और रंग भी सांवला था.

उसकी उमर तकरीबन २५-२६ साल की यानी हम से २ साल ही बड़ी है. जब वह हमारे यहां आई तो मैंने उनके बारे में कुछ गलत नहीं सोचा था. वह मेरे और मेरी बहन के साथ रूम शेयर करती थी. करीब दो तीन दिन के बाद जब हम रात को सब सो रहे थे, तो मैं पानी पीने के लिए उठा तो जो देखा वह देखकर मैं दंग रह गया.

वीना ने मिक्सी पहनी हुई थी जो सोते सोते हुए ऊपर तक चढ़ गई थी और उसने पैंटी नहीं पहन रखी थी. यह सब देख के हमारा लंड खड़ा होके सलाम करने लगा और उसकी चूत में घुसने के लिए मचलने लगा, पर हिम्मत नहीं हुई क्योंकि रिश्तेदार थी क्या करते और मुठ मारकर सो गए. दिन रात उसकी वह चूत ही आंखों के सामने घूमती रहती थी.

loading...

वह जैसी भी हो लेकिन मुझे नंगी ही दिखती थी, उसकी ओर मेरा बिहेवियर एकदम चेंज हो गया था और मैं उसे छूने के बहाने ढूंढता रहता था. एक दिन दोपहर को मम्मी मेरी छोटी बहन के साथ कीर्तन में गई थी. तो हम दोनों ही घर पर अकेले थे. हम दोनों बैठकर टीवी  देख रहे थे और वह एकदम मेरे नजदीक बैठ गई और मुझे घुरने लगी.

loading...

उसने मुझे अजीब तरीके से देख कर कहा कि मैं दो तीन दिन से नोटिस कर रही हूं के तुम्हारा बिहेवियर मेरी ओर चेंज हो गया है और तुम बहुत फिजिकल भी होते जा रहे हो मुझे बार बार छूने की कोशिश करते हो, वह भी गलत गलत जगह.

मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि यह क्या हो रहा है. फिर वह बोली कि मम्मी पापा से तुम्हारी कंप्लेंट कर दूं क्या इस बात पर? मैं जरा सा डर गया और फिर मैं सोचा कि अगर उसे शिकायत करनी होती तो कर चुकी होती, आज जब हम दोनों अकेले हैं तो यह सब कुछ क्यों डिस्कस करती? में भी थोड़े गुस्से में उसे कहा कि यह सब तो मुझे चूत दिखाने से पहले सोचना चाहिए था क्या मैं भी मम्मी पापा को बता दू की तुम हमारे साथ नंगी सोती हो और अपनी चूत दिखाती फिरती हो. यह सुनकर वह बहुत जोर जोर से हंसने लगी और कहां कि मैं यही देखना चाहती थी कि तेरी गांड में कितना दम है. आजा आज मैं तुझे प्यार का असली मतलब समझाती हूं. राजा तैयार हो जा.

उस की यह लैंग्वेज सुनकर मैं कुछ हैरान था पर क्या फर्क पड़ता है, मैंने कहा कि आप क्या चाहती हैं मम्मी पापा के पास चलना है की बेडरूम में? वह मुस्कुराई और मेरे पास आकर अपने होंठ मेरे होंठ पर रख दिए. वह काफी देर तक किस करती रही और फिर मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया.

फिर उसने मेरा हाथ अपनी पेंट में डाल दिया और अपनी चूत तक ली गई, साली की चूत एकदम गरम और गीली थी. कुछ देर तक उसकी चूत रगड़ने के बाद वह घुटनो पर बैठ गई और मेरी पैंट की ज़िप खोल कर मेरे लंड महाराज को बाहर निकाल दिया और उसे हिलाने लगी. कुछ देर के बाद उसने लंड को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी, जो मजा में पहली बार ले रहा था.

लड़कियां तो मैंने बहुत चोदी थी पर लंड कोई भी ठीक तरीके से नहीं चूसती थी पर कुछ देर चूसने के बाद लंड ने अपनी क्रीम उस के मुह में छोड़ दी, वह उसे अटक गई. मैंने उससे पूछा कि काम सूत्र की ट्रेनिंग ली है क्या? वह मुस्कुराते हुए बाथरुम की ओर चली गई कुछ देर के बाद आई तो मेरी आंखें खुली की खुली रह गई. वह एकदम नंगी बाथरुम से आ रही थी.

क्या बोडी थी साली की? एकदम मस्त उसके मम्मे इतने बड़े थे जाने कितना रस भरा हे उनमें? मेरे पास आके बोली के देखता क्या हे राजा? सब तेरे ही लिए है. उसकी लैंग्वेज मुझे बहुत ही अजीब और गजब की लग रही थी. मैं उसके दोनों मम्में पकड़कर दबाना शुरु कर दिए.

उसके बूब्स को दबाना चूसना और काटने में बड़ा मजा आ रहा था. वाकई उस ने सही कहा था कि प्यार का असली मजा वह देगी. उसके मम्में चूस रहा था और वो मेरे लंड को रगड़ रही थी. अब वह मुझे कहने लगी कि अब मैं उसकी चूत टेस्ट करूं. मुझे बड़ा अजीब सा लग रहा था क्योंकि मैंने कभी भी चूत नहीं चाटी थी.

मैंने उसे मना कर दिया तो उसने मुझे कहा कि प्यार का पूरा मजा लेना है तो चूत तो चाटने पड़ेगी. फिर में तैयार हो गया और वह अपनी दोनों टांगे चोडी कर के लेट गई. मैंने जैसे ही अपनी जिभ चूत की तरफ बढ़ाई, तब उसका टेस्ट बडा ही अजीब सा लगा और मैंने छोड़ दी.

उसने कहा कि चूत को चाट कर रफ करनी ही पड़ेगी, मैंने फिर चूत चाटनी शुरू की कुछ देर बाद मजा आने लगा और मैं चूत चाटता रहा, दो तीन मिनट चाटने के बाद उसने कहा कि अब मैं चुदने के लिए तैयार हूं. अब तक करीब एक घंटा हो चुका था और हम सिर्फ सेक्स कर रहे थे. मैं अलमारी की और गया और कंडोम ढूंढने लगा पर पैकेट खाली था.

मैने कहा मैं अब तुम्हें कैसे चोदू? कंडोम नहीं है. और बिना कंडोम के में रिस्क नहीं ले सकता. वह अपने बेग के पास गयी और कंडोम का पूरा पैकेट लेकर आई. उस में दो तीन तरह के कंडोम थे, उसमें से उसने एक एक्स्ट्रा टाइम वाला कंडोम मुझे दिया जिसे मैंने अपने लंड पर पहन लिया. वह लेटी हुई थी और मैं उस को चोदने के लिए बेकरार था.

मैंने लंड धीरे से उसकी चूत में डाला और धीरे से धक्का लगाने लगा, उसने मेरा लंड  पकड़ कर जोर से दबाया और कहने लगी की लंड में जान नहीं है क्या? इतनी धीरे से क्यों पेल रहा है कुछ स्पीड बढ़ा. मैं अब जोर जोर से धक्के मारने लगा.

१५ मिनिट तक धक्का मरता रहा पर लंड साला जड़ा ही नहीं. मैंने कहा कि मैं थक गया हूं. अब जोर जोर से नहीं कर सकता. उसने मुझे धक्का देकर लेटा दिया और मेरे ऊपर बैठ गई मेरा लंड पकड़ कर चूत में डाला और उछलने लगी. अभी मुझे ऐसा लग रहा था कि वह एक प्रोफेशनल की तरह सेक्स कर रही है. कुछ देर के बाद में झड़ गया.

वह मेरे पास आकर लेट गई. मैंने उसकी तरफ देखते हुए कहा कि एक सवाल पूछूं?  तो उसने कहा कि मुझे पता है कि तुम क्या पूछना चाहते हो? उसने मुझे बताया कि वह एक कोलगर्ल हे जो एक रात का १५ से २० हजार चार्ज करती है और मुझे फ्री में इसलिए सिड्यूस कर रही है क्योंकि मैं उसे अच्छा लगा.

वह महीने में छह सात बार सेक्स करती है और ७० से ८० हज़ार तक कमा लेती है. उसने मुझे यह प्रॉमिस किया कि मैं किसी को नहीं बताऊंगा. मैंने कहा कि एक शर्त पर अगर मैं उसकी गांड ले सकूं.

वह हंसी और बोली के कुछ दिन रुक जा मैं तुझे ऐसी ऐसी जन्नत दिखाऊंगी कि तू सोच भी नहीं सकता. आज तेरा लंड थक चुका है और गांड लेने के लिए बहुत स्टेमिना चाहिए, चूत मारनी है तो मार ले एक बार और, इससे पहले कि दीदी आ जाए. मैंने दूसरा कंडोम लिया जो नॉर्मल था.

और फिर से उसे चोदा. पर इस बार वक्त पे लंड जड गया. बहुत मजा आया उस दिन और उसके बाद हम पता नहीं कितनी बार मिले उसने कुछ दिन तक मुझे ट्रेन किया और मुझे भी एक कॉल बॉय की तरह एक औरत के पास भेजा.

कहानी शेयर करें :
loading...