चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मेरे भाई ने बॉयफ्रेंड से चुदता देख मुझे बेरहमी से चोदा

loading...

xxx chudai kahani हेल्लो दोस्तों मैं ऋतु आप सभी का indiansexkahani.com में बहुत बहुत स्वागत करती हूँ। मैं पिछले कई सालो से इसकी नियमित पाठिका रहीं हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती तब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ती हूँ।
मैं बरेली में रहती हूँ । मेरी उम्र 23 साल की हूँ । मैं बहुत कामुक हूँ, कामोत्तजना मेरी बहुत ज्यादा है मेरा फिगर 34 26 36 है । मैं देखने में बहुत सेक्सी लगती हूँ मेरे बूब्स बड़े बड़े है और मेरी गांड मोटी है जो की निकली हुई है जो लड़को को अपनी तरफ आकर्षित करती है । मेरे बूब्स बहुत ही सॉफ्ट है एकदम मक्खन की तरह जिन्हें दबाने में बड़ा मजा आता है और मेरा बॉयफ्रेंड तो मुह में ले के काटने लगता बोलता है कि तुम्हारे मम्मे बिलकुल संतरे की तरह है । मैंने अभी तक कई लोंगो से चुदवाया है ,मेरी गांड की तो मेरे बॉयफ्रेंड के अलावा भी कई लोगो ने पूरा आनंद लिया है । मेरी चूत को भी कई लोगो ने चुदाई की है और मेरी चूत इतनी लाजबाब है कि कोई भी एक बार देखता है तो उसे खूब चाटता है लेकिन मुझे अपनी चूत को चतवाते हुए बहुत मजा आता है और जब कोई अपनी जीभ को मेरी चूत में डाल के चाटता है तो मेरा मन उसके जीभ साथ -साथ पूरा सिर अंदर डाल लेने को करता है ।

loading...

मेरे चूत का रस बहुत रसीला है । दोस्तो मै बहुत अच्छे फैमिली से हूँ । मेरे पापा एक डॉक्टर है और मम्मी भी एक वकील है । मेरा एक भाई है, मैं अभी ग्रेजुएशन पूरा किया है । मेरा भाई अभी इण्टर में है ,वो देखने में बहुत स्मार्ट है और उनकी आँखे इतनी नशीली है कि उसमें कोई भी डूब जाना चाहेगी।मै अब पूरा दिन घर पर ही रहती हूँ ,मुझे अब मेरे पापा मुम्बई पढ़ने के लिए भेजने वाले हैं । पापा और मम्मी दोनों लोग सुबह अपने अपने ड्यूटी पर निकल जाते है फिर हम अकेले रहते है और मेरा भाई भी कोचिंग से आ जाता है फिर हम दोनों लोग साथ ही रहते हैं । जब मैं बिलकुल अकेली होती हूँ तो ब्लू फिल्म देखती हूँ और सेक्स टॉयज रखती हूं उसी से देखती और खेलती रहती हूँ । कभी कभी मैं अपने बॉयफ्रेंड को भी बुला लेती हूँ और खूब चुदवाती हूँ जब मुझे पता होता है कि आज सब लोग देर को आएंगे । मेरे पड़ोस के भी कई लड़को ने मुझे चोदा है अब तक मैं बहुत सारे लोगो से चुदवा चुकी हूँ लेकिन मेरी चुदवाने की प्यास कभी मिटती ही नहीं और मुझे चुदवाने के लिए किसी न किसी को ढूंढना होता है मैं कई बॉयफ्रेंड रखती हूँ ।

लड़के ही क्या ग्रेजुएशन में थी तब मुझे मेरे सर ने ही ऑफिस में बुला के मेरे साथ सेक्स करने को कहा था लेकिन मैंने इंकार कर दिया था और मैंने उन्हें उल्टा ही बोलने लगी शर्म नहीं आती तो उन्होंने बोला- शर्म तो तुम्हे आनी चाहिए एक लड़के के साथ सीढ़ी पर खडी होके चुम्मा चाटी कर रही थी और अब मुझसे बड़ी शरीफ बनने की कोशिश कर रही हो ।मैंने बोला – वो मेरा बॉयफ्रेंड है मैं उसके साथ जो भी चाहू जो करूं आप होते कौन है हम लोगो के बारे में बोलने वाले । अब सर की जान निकल गयी जब मैंने बोला अभी के अभी मैं सबको बाहर जा के सब बता दूँगी ! सर ने कहा मैं तो तुम्हे समझाने के लिए बोला था लेकिन मैंने बताने की जिद की तो सर ने मुझे पकड लिया और ऑफिस का दरवाजा बंद करके बोलने लगे अभी के अभी मैं तुम्हे चोद सकता हूँ अब तुम बताओ आसानी से चुदवाना है या मैं चोदू ! इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
मैंने कहा सर आप बहुत गलत कर रहे हो मुझे जाने दो लेकिन सर ने कहा – नही आज तो मै तुम्हे चोद के ही रहूँगा फिर सर ने हमारी जम के चुदाई की लेकिन मैंने ये बात किसी से नहीं बताई आज अपनी कहानी लिख रही थी तो सोचा आज सब लिख डालती हूँ। अब मैं आपका ज्यादा समय न खराब करके अपनी कहानी पे आती हूँ। दोस्तों मम्मी पापा एक दिन घर पे सुबह ड्यूटी पे निकलने के 30 मिनट बाद ही वापस आ गए थे। मैंने पूंछा – क्या हुआ पापा ? पापा ने उनके किसी खाश दोस्त शायद मैं उन्हें बचपन में एक बार देखा था उनका तबियत बहुत खराब था उन्ही से मिलने सुलतान पुर जाने वाले थे । मैं मन ही खुश थी की आज तो घर पे कोई नहीं होगा आज तों मै खूब चुदवाऊंगी। पापा और मम्मी दोनों लोग अपने अपने रूम में कपडे बदल रहे थे मै तो अक्सर चुपके से पापा का तना हुआ लंड देखती हूँ पर रिश्तो का डोर बीच में आ जाता है।कुछ देर बाद दोनों लोग चले गए और मैंने अपने बॉयफ्रेंड को फ़ोन किया और बोला तुम अगर आज चोदना चाहते हो तो कुछ ही देर में आ जाओ नहीं तो मेरा भाई आ जायेगा। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

थोड़ी देर बाद मेरा बॉयफ्रेंड आ गया और हम लोग कुछ देर बात की और उसने सब पूंछा भी तो मैंने सब कुछ बता दिया और फिर हम एक दुसरे को किस करने लगे और करीब आधे घंटे तक किस किया फिर मैंने सारे कपडे उतारे और हम एक दुसरे को चाट और चूम रहे थे । वो मेरे मम्मे दबा रहा था मै भी उसका लंड हाथ में ले के सहला रही थी और मुठ मार रही थी मुठ मारते ही उसका लंड मोटा हो गया और गरम हो गया लगता था जैसे कोई गर्म मोटा रॉड हो अब वो मेरी चूत सहला रहा था मैंने कहा चलो रूम में चलते है कही मेरा भाई न आ जाये । इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम   इतना कहके हम दोनों रूम में चले गए और वहाँ पर मैं बिस्तर पे में लेट गयी और वो मेरे ऊपर लेट गया ,मेरी चूत में ऊँगली डाल डाल के मुझे गर्म कर दिया अब मुझे किसी के भी आने का होश नहीं था और मैं पूरी तरह से जोश में आ गयी और मैंने अब चोदने को कहा वो अपना लंड मेरे चूत पे रख के अंदर आपने लंड का अगला हिस्सा डाल दिया और धीरे धीरे पूरा लंड मेरी फुद्दी में घुसा दिया और मुझे चोदने लगा मै भी साथ देने लगी और इसी बीच पता नहीं कब मेरा भाई देख रहा था ये सब मै तो चुदवाने में मस्त थी मुझे किसी की खबर ही न थी।उसी बीच मै झड़ गई और वो भी झड़ गया।फिर मैंने कहा कि मेरा भाई आने ही वाला होगा तो तुम जल्दी निकल जाओ और फिर वो अपने घर चला गया । आज रात को हम लोगो को मै और मेरा भाई दोनों लोग को ही रहना था हमने शाम को चाय बनायीं और पी रहे थे ।
वो मुझे बड़ी गन्दी नजरो से देख रहा था ऐसा लगता था जैसे अभी मुझे चोद ही देगा ।मैंने पूंछा – क्या बात है? उसने कुछ नही बोल के वहाँ से चला गया और वो अपने रूम में बैठा था था मैं खिड़की से देख रही थी वो अपना पैण्ट का चैंन खोल के दूसरी तरफ बैठा था बस इतना ही दिख रहा था कि वो मुठ मार रहा है मैं अपने कमरे से ये चुप चाप देख रही थी । रात को मैंने खाना बनाया और हम दोनों ने खाना खाया फिर मैंने पूंछा – भाई आज कहाँ लेटोगो उसने बोला- अपने रूम में! मैंने कहा ठीक है डर लगेगा तो मेरी रूम में आ जाना फिर मैं अपने रूम में जा के ब्लू फिल्म देख रही थी की अचानक मेरा भाई आया और वो मेरा लैपटॉप मांगने लगा लाइट चली गयी थी और उसका चार्ज नहीं था तो मैंने कहा जो भी करना है यही बैठ के कर लो लाइट भी चली गयी है फिर वो मेरे बगल लेट गया सिर्फ वो अंडरवियर और बनियान पहने था उसका लंड फूला हुआ बाहर से दिख रहा था ।

मै तो बस उसके लंड को ही देख रही थी,रात थी और वो अपने पैर पे लैपटॉप रखे था तो उसकी लाइट उसके लंड पर पड़ रही थी मेरा मन वैसे ही ब्लू फिल्म देख के चुदवाने का था और ऊपर से उसका फूल हुआ लंड दिख के तो मेरी चूत में आग सी लग गई लेकिन मैं कैसे चुदवाती वो मेरा भाई था। दोस्तों मेरी चूत में खुजली होने लगी और मै वहां से चली गयी और बॉथरूम में उंगली करने लगी किसी तरह से खुद को शांत किया और मै आ के लेट गयी । मैंने भाई से बोला की तुम चाहो तो जब तक लाइट नहीं आती यही लेट सकते हो ,मुझे नींद आ रही है मैं सोने जा रही हूँ और मैंने आंख बंद करके गुड नाईट बोल दिया । दोस्तों हलकी ठंडी ठंडी हवा चल रही थी मै अपनी नेट वाली नाईंटी पहने थी जिसमे मेरी ब्रा और पैंटी दिख रही थी। मैंने आँख बंद ही किया कि मेरे भाई अमन को लगा की मैं सो गयी और वो अपनी पेन ड्राइव लगा उसमे ब्लू फिल्म देखने लगा। और लैपटॉप को साइड में रख के अपने अंडर वियर में से लंड को निकाल कर हिलाने लगा मै चुपके से थोड़ी आँख खोल के देख रही थी । नयी नयी ब्लू फिल्म थी तो मुझे भी देखने में मजा आ रहा था , मैंने धीरे से अंगड़ाई ली और अपना मुह लैप टॉप की तरफ घुमा ली अब हमें नींद ही नहीं आ रही थी । मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मेरे भाई का खड़ा होने पे इतना बड़ा होता है लगता था जैसे कोई खम्भा हो मोटा सा ! कुछ देर बाद फिल्म ख़त्म हुई और अमन इस समय बड़े जोश में था मैंने फिर से अंगड़ाई ली और गांड को उसकी तरफ करके लेट गयी ।
अमन जोश में होने के कारण उसे भी कुछ पता नहीं की वो क्या कर रहा है ,उसने अपना पैर उठा के मेरे ऊपर रख दिया और अपना हाथ मेरे चूची पे रख दिया और धीरे धीरे मसलने लगा । मै चादर ओढ़ रखी थी तो वो भी मेरी चादर में आ गया और अपना अंडर वियर निकल के साइड में रकह दिया और अब अपना लंड मेरी गांड में गड़ा रहा था । मैंने एक बार विरोध भी किया लेकिन वो कहाँ मानने वाला था ,वो मेरी मख्खन जैसे चूचियों को मसल रहा था । मैं चुपचाप ये सब करवाती रही और जब उसने हद ही कर दी तो मुझे बोलना ही पड़ा । मैंने जोर से डांटा अमन ये क्या कर रहे हो ? उसने चौक गया और चुप हो गया ,उसने अपना पैर उठा लिया और हाथ भी मेरे बूब्स से हटा लिया। मैंने कहा -“तुझे शर्म नहीं आती अपने बहन के साथ ऐसा करते हुए ‘ कुछ देर चुप होने के बाद उसने बोला – तुझे ही कौन सी शर्म आती है बॉय फ्रेंड को घर पे बुला के सेक्स करने में ! मैं तो एकदम हैरान हो गयी इसे कैसे पता चला । मैंने कहा- झूठ बोलते भी तुम्हे शर्म नहीं आती और उसने मुझे पकड़ के बोला वो आज कौन था जो बिस्तर पे लेटा के तुम्हारी चुदाई कर रहा था । मैं चौंक गयी और पता चल गया कि इसे सब पता है उसने कहा आने दो पापा को मैं सब कुछ बता दूंगा। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मैंने कहा- प्लीज़ भाई ऐसा मत करना नहीं तो पापा बहुत मारेंगे और कही जाने भी नहीं देंगे। अमन ने कहा – ठीक है नहीं बताएँगे लेकिन मेरी एक शर्त है तुम कभी किसी बाहरी लड़के से नहीं चुदोगी और मेरे साथ तुम्हे सेक्स करना होगा । मैंने तुरंत हाँ बोल दिया और सोचने लगी ये तो बड़ी अच्छी बात है मैं जब चाहूँ चुदवा सकती हूँ। इतना कहते ही वो मेरे होंठो पे जोर जोर से किस करने लगा और मै भी कुछ देर तक साथ नहीं दिया लेकिन मैं भी जोश में आ रही थी, तो मैंने साथ देना शुरू कर दिया और अब वो चादर हटा दिया और मेरी नाईटी को निकल कर मुझे सिर्फ ब्रा और पैंटी में कर दिया और देखने लगा और कहने लगा- कितने दिनों से मै इन्हें देखना चाहता था लेकिन तुम कभी दिखाई नहीं इतना मस्त बूब्स है तुम्हारा! और इतन कहकर अपने लंड को सहला कर खड़ा करने लगा । मैने भी अब उसका लंड हाथ में लेके बैठ गयी और चूसने लगी वो मेरे मुह में ही लंड अंदर डालने लगा और अपनी अँगुलियों से मेरी पैंटी खिसकाकर अंदर बाहर करने लगा । मैंने तो छूट गयी और चूत से तगोड़ा पानी बाहर निकाल दिया ।
उसने अपना लंड छुड़ा के मुझे लेटने को कहा ।मैं लेट गयी उसने मेरी ब्रा को खोल दिया और साइड में रख दिया ,मेरी बूब्स को कुछ देर चूसने के बाद मेरी पैंटी को नीचे सरका के निकाल के दिया और मेरी टांगो को फैला कर अपना मोटा लंड मेरी चूत पे जोर जोर से रगड़ने लगा । मै बहुत गरम हो चुकी थी, वो लंड को मेरी चूत पर रगड़ते ही जा रहा था और मुझे तड़पा रहा था मैंने कहा अब अंदर डाल दो सहा नहीं जाता, उसने तुरंत ही लंड को अंदर डालने लगा लेकिन उसका लंड आसानी से नहीं जा रहा था क्योंकी मैंने अभी तक उतने मोटे और लंबे लंड से नहीं चुदवाया था । उसने बहुत जोर लगा के धक्का मारा और आधा लंड अंदर कर दिया लेकिन मेरी चूत की तो जान ही निकल गई ,मै जोर से चिल्लाई लेकिन उसने ध्यान न दे के चोदने में लगा रहा । इतना तेज दर्द होने के बाद भी वो अपना पूरा लंड अंदर करके जोर जोर से चोदने लगा , मैं चिल्लाती रही और कहती रही लेकिन वो बेरहमी से मुझे चोदता रहा और मुझे गालियां देता रहा मेरे मुह से कुछ नहीं निकल पा रहा था सिर्फ चींखो के सिवा मै बस “——अई—अई—-अई——अई—-इसस्स्स्स्स्स्स्स्——-उहह्ह्ह्ह—–ओह्ह्ह्हह्ह—-”करती रही और कई बार झड़ भी चुकी थी । लेकिन मजा भी आ रहा था दर्द अब थोड़ा सा आराम हो रहा था तो मैं भी उछल उछल के चुदवाने लगी।

कुछ देर बाद उसने मेरी चूत में से अपना लंड को निकाल कर मेरे मुह में मुठ मारने लगा और सारा माल मेरे मुह में गिरा दिया । मै उसका सारा माल पी गयी उसका स्वाद बहुत ही अच्छा था और फिर ढीला होकर मेरे ऊपर लेट गया और हम दोनों काफी थक चुके थे । हम दोनो रात को नंगे ही घर में रहे और साथ बैठ कर ब्लू फिल्म देखने लगे उस रात तो मैं कई बार चुदी और कभी भी ब्लू फिल्म देखते है तो साथ ही देख के चुदाई करते है । इस तरह हम लोग हर रोज चुदाई करते हैं और हम अब साथ ही एक ही कमरे में लेटते हैं सब समझते है कितना प्यार है दोनों में हम साथ साथ ही सब कुछ करते है।जब भी मौका मिलता है तो बस चुदाई ही करते है। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...