चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मेरे बॉय फ्रेंड ने मेरी मम्मी को खेत में चोदा

loading...

sex story  हेल्लो दोस्तों….मेरा नाम आकृती है….मैं 23 साल की हूँ….घर में मम्मी-पापा और एक छोटा भाई है…मैं बचपन से ही हॉट और सेक्सी थी….हमारा परिवार गाँव में रहता है….अब सीधा कहानी पे आती हूँ…मेरी माँ 38 साल की है…बहुत सेक्सी और गठीला बदन…बाद बाद चूचियां और गोल गोल गांड….मेरी माँ का सेक्सी होने से ना जाने कितने अफयेर थे…पापा नौकरी के लिए गाँव से दूर थे जो साल भर में एक बार आते थे… ताओ जी चाचा जी…ना जाने कितने थे गाँव के मर्द जिनके साथ मम्मी का नजायज संबधन थे ..जब मुझे ये बात पता चली तो मुझे विश्वास नही हुवा…और मैं सच जानने के मौके की तलाश में थी… एक दिन मम्मी ने कहा की मैं खेत में जा रही हूँ तू घर पे ही रहना अपने भाई के साथ….और कहके खेत चली गयी…मैंने भी उसके बाद चाय बनाई और पी…और दिन के खाने की तयारी करने लग गयी…इतने देर में मेरे छोटे भाई की तबियत ख़राब हो गयी तो वो रोने कहा और कहा की मम्मी को बुला के ला….मैं खेत में चली मम्मी को बुलाने. दूर मेरी नज़र पड़ी तो मम्मी किसी के साथ झाडी में बैठी थी…मुझे उस इन्सान का चहेरा साफ़ नही दिखाई दे रहा था…तो मैं साइड से एक पेड़ के सहारे देखने लगी…अब मुझे वहाँ से वो दोनों साफ़ नज़र आ रहे थे…उस दुसरे इन्सान को देख के मैं हक्की-बक्की रह गयी…वो कोई और नही बल्कि मेरा बॉय फ्रेंड यश था…हम दोनों के दुसरे से बहुत प्यार करते थे मगर सेक्स कभी नही किया…मैं देखा मम्मी ने अपनी साडी ऊपर घुटनकों तक कर रखी थी और यश के ओंठ चूस रही थी और यश एक हाथ से मम्मी की मोटी मोटी जांगें सहला था….अब मुझे यकीन हो गया था की लोग जो कहते थे वो सच था…मुझे बहुत बुरा लगा की मेरा ही बॉय फ्रेंड और मेरी ही मम्मी….सोचा सामने जाऊं और खूब सुनाओ उन दोनों को…मगर चुप रही और सोचा की देखूं तो सही आगे क्या क्या करते हैं……इतनी देर में मम्मी ने यश की पेंट की जिप खोली और लंड बहार निकाला… आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

loading...

बाप रे मैं देख के चौंक गयी की इतना बड़ा और मोटा…सच में बहुत बड़ा था…मम्मी उसे हाथों में लेके सहलाने लगी…मम्मी ने अपने ब्लाउज के ऊपर के दो बटन खोल के रखे हुवे थे….जिससे उनकी चूचियां रह रह के बहार निकलने के लिए उतारू थी….मम्मी दोनों हाथों से यश ले लंड को सहला रही थी और मालिश भी कर रही थी….काफी देर तक मम्मी ऐसा ही करती रही…उसके बाद मम्मी निचे झुकी और यश के लंड को अपने मुह में ले लिए…ज्यादा मोटा और बड़ा होने के कारण वो मुह में बड़ी मुश्किल से घुस रहा था…अब मम्मी यश का लंड मुह में लेके चूसने लगी….इतनी देर में यश ने मम्मी के शरीर से ब्लाउज का आजाद कर दिया ..मम्मी कच्छी और ब्रा नही पहनती……सच में इस उम्र में इतने लोगों से चुदने के बाद में मम्मी की चूची कितनी कड़क थी….कुछ देर बाद यश ने मम्मी के बदन से साडी भी निकाल दी…अब मम्मी रेड पेटीकोट में थी…बहुत सेक्सी लग रही थी…पहले मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था…मगर अब धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा….मम्मी यश के लंड को अपनी चुचियों पे रगड़ने लगी…..यश अब मम्मी का पेटीकोट भी निकाल चूका था….माय गॉड क्या चूत थी…इतनी लम्बी लम्बी झांटे …शायद कभी बनाती ही नही थी…..यश मम्मी की चूत को सहालने लगा…और मम्मी हाथ से यश का लंड हिला रही थी और साथ में जोर जोर से चूमा-चाटी भी कर रही थी…. मम्मी पागलों की तरह लंड को हाथ में लेके जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी….AAhhhhhh OOhhhhhhh Yyyeeeee शायद मम्मी को बहुत दिन के बाद मिल रहा था लंड का स्वाद….मम्मी बहुत गर्म हो चुकी थी…और कहने लगी यश अब रहा नही जा रहा है चोद दे मुझे आज यहीं खेत में….पर यश कहाँ सुनने वाला था यश अब मम्मी की चूत पे अपने जीभ फेरने लगा…मम्मी और तडपने लगी…यश चूत का रस-पान करता रहा…ये सब देख के मैं भी गर्म हो चुकी थी…और अपनी चूत में वहीँ पेड़ के सहारे सहलाने लगी….

मम्मी और यश दोनों नंगे थे…मेरा भी बहुत मन कर रहा था की मैं भी नंगी हो जाऊं…पर डर लग रहा कहीं कोई देख ना ले…वो दोनों तो झाड़ियों के सहारे थे…खेत में एक कोने में झाड़ियाँ और उस झाडी में मम्मी अपनी चूत चुदवा रही थी….अब यश ने कहा की तू मेरे ऊपर से आ जा….मम्मी यश के ऊपर आके हाथ में लंड पकड के अपनी चूत में घुसाने लगी…और एक झटके में नीचे लंड पर बैठ गयी और एक दम चिलाने लगी…शायद कई दिनों के बाद चुदवा रही थी ऊपर से यश का लंड इतना मोटा और बड़ा….कुछ देर ऐसे ही रही सूरत रोने जैसी.. जैसे की अभी रो देगी…थोड़ी देर के बाद धीरे धीरे मम्मी उपर निचे करने लगी…अब तो मम्मी सातवें आसमान पर थी…खूब जोर जोर से ऊपर से झटके मार रही थी….मेरे मुह से गाली निकल आई साली कुत्ती रंडी…पता नही कितनो के लंड के मजा लेती है..मेरे यश को भी नही छोड़ा….वो दोनों तो चुदाई में मस्त थे…खूब जमकर चुदाई चल रही थी….अब यश ने मम्मी को निचे उतारा और सामने दीवार के सहारे खड़ा करके एक टांग उठा के चोदने लगा….मम्मी AAhhhhhh OOhhhhhhh Yyyeeeee की आवाजें निकाले के कहने लगी हाँ यश चोद ऐसे ही आज तक मुझे इस पोजीशन में किसी ने नही चोदा….यश एक टांग खडी करके मम्मी को चोदे जा रहा था झटके पर झटके लगे जा रहा रहे थे…मुझसे नही रहा जा रहा मगर क्या करती मैं भी बस ऊँगली के अलावा कुछ नही कर सकती थी….अब यश ने मम्मी को कुतिया बनने को कहा…मम्मी कुतिया बन गयी…अब यश उस कुतिया को कुत्ता बनके चोद रहा था….पता नही कितनी बार मम्मी ऐसे चुदी होगी….मम्मी ने पहले भी यश से ऐसे ही खेत के कोने में चुदवाया होगा…मम्मी काम करते करते अपनी साडी ऊपर की होगी और यश का मन ललचाया.होगा…मम्मी ने ऊपर ऊपर से अपनी चूचियां दिखाई होगी…..और यश ने ना जाने इस खेत में कितने झटके मारे होंगे मम्मी की चूत में…..आज भी यश जोर जोर से झटके पे झटके मारे जा रहा था…मम्मी जोर जोर से चिला रही थी….AAhhhhhhHHH उईई माँ ….AAhhhhhhHHH OOHHhhhh YYeeee पूरा खेत उनकी सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूजने लगा… आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मेरा भी इतना मन कर रहा था की बस अभी जाऊं और यश को बोलों इस रंडी को बाद में चोद ..पहले मुझे आज रंडी बनादे….पर कुछ न कर पाई…उधर उन दोनों का चुदाई का सीन देख मुझे बहुत मजा आ रहा था….अगर उस समय में उधर से कोई भी मर्द जा रहा होता तो मैं उससे चुदवा देती चाहे भाई या मेरे पापा ही क्यूँ ना होते…मगर कोई ना था….मन कर रहा था की भाग के घर जाऊं और अपने भाई से कहूँ की भाई अपनी दीदी की चूत में लंड डाल के अपनी दीदी की चूत फाड़ दे ….उधर यश मम्मी को छोड़ने का नाम ही नही ले रहा था…अब यश ने मम्मी को गोदी में उठा दिया और ऐसे ही धक्के मारने लगा…मम्मी को खूब मजा आ रहा था…खूब मजे ले लेके अपनी गांड उचका रही थी…मम्मी की चूचियां खूब हिल रही थी….यश धक्के पर धक्के मारता रहा…और मम्मी यश के ओंठ चूसती थी….AAhhhhhhHHH क्या सीन था …..पूरा एक घंटा हो गया था उन्हें चुदाई करते करते…..इस बीच में तीन बार झट चुकी थी…यश ने अब मम्मी को वहीँ नीचे खेत में लिटा दिया और दोनों टाँगे खडी करके चोदने लगा…अब थी असली की स्पीड.. क्या स्पीड से चोद रहा था मेरा यश मेरी मम्मी को…मम्मी भी निचे से गांड उठा उठा के यश के लंड से मजा ले रही थी….एक साथ साथ में यश मम्मी चूचियां भी दबा रहा और किस भी कर रहा था….मम्मी चुदाई और बड़े बड़े झटकों के खूब मजे ले रही थी…..   आप यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।….. कैसी चुक्कड़ रांड थी….यहाँ मुझे एक भी लंड नही मिल रहा था और ये रंडी ना जाने कितने लंडों से चुदवा रही थी……यश के झटके और स्पीड तेज हो गये…..मम्मी चिलाने लगी AAhhhhhhHHH यश फाड़ दे आज मेरी चूत को…..AAhhhhhhHHH मेरे राजा…..और चोद ..निचोड़ दे मुझे….. यश कहने लगा की मैं झड़ने वाला हूँ….बता लंड का माल कहाँ गेरों ..मम्मी न कहा..की मेरी चूत में ही घेर दे और मुझे फिर से माँ बना दे…मैं तेरे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ….तुझसे जैसे चोदने वाला आजतक नही मिला….आज रात को भी मेरे रूम में आना और जमके चोदना मुझे….मुझे रात भर चुदना है तुझसे….यश ने कहा ठीक है…रात को तुझे माँ बनाऊंगा इस समय लंड का माल मुह में ले ले..यश ने लंड मम्मी की चूत से बहार निकाला और सारा माल मम्मी के मुह में छोड़के कहा I LOVE U मेरी रानी…I

LOVE U SO MUCH मेरी डार्लिंग ..तो मम्मी ने भी बदले में I LOVE U मेरे यश मेरा राजा कहा…….क्या नज़ारा था..काश में भी यश के लंड का माल मुह में ले सकती….सारा माल निकालने के बाद यश ने लंड मम्मी के मुह में डाल दिया..और मम्मी ने लंड मुह में लेके सारा साफ़ कर दिया….उसके बाद दोनों एक दुसरे के गले लगे और ओंठ चूसने लगे…दुबारा I LOVE U कहा और घर को निकल पड़े…अँधेरा हो चूका था…आस-पास ना कोई था और ना कुछ था…तो मम्मी ने कहा की यश ऊपर तक मेरे साथ ऐसे ही नंगा होके चल ना…तो यश ने कहा ठीक है…दोनों कुछ दूरी तक ऐसे ही नंगे होके गये…एक दुसरे को चूमते और दबाते हुवे….यश पूछे से मम्मी की गांड खूब दबा रहा था….मम्मी ने कहा क्या ख्याल है…तो यश ने कहा की आज रात मैं तेरी गांड मारना चाहता हूँ….तो मम्मी ने कहा ठीक है…मैं तेल लेके रखूंगी….वो लोग बातों में इतने मगन थे की मुझे भी नही देख पाए……आगे मैंने कैसे अपनी प्यास बुझाई इसका इंतजार करना…मैं अपनी कहानी लेके जरुर आउंगी…..

धन्यवाद …

आपकी प्यारी आकृती DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...