चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मेरे पति का दोस्त घर में चूत को रगड़ कर चोदा और मेरी गांड मारी

मेरे पति का दोस्त घर में चूत को रगड़ कर चोदा और मेरी गांड मारी Sex Stories

हेल्लो दोस्तों, मै सोनाली तिवारी आप सभी का इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम में स्वागत करती हूँ। मै फरीदाबाद की रहने वाली हूँ, मै दिखने में बहुत हॉट और काफी सेक्सी हूँ। मेरा रंग काफी गोरा और मेरा बदन बहुत ही कोमल है। अपनी चूचियो के बारे में बात करू तो वो काफी गजब की है बिलकुल सूडोल और काफी मुलायम है। जब मै नहाती हूँ तो अपनी चूचियो को खूब मसलती हूँ क्योकि मुझे अपनी चूचियो को मसलने में बहुत मज़ा आता है। और मेरी चूत तो बहुत रसीली और कमसिन है। मेरी चूत सटी हुई और मख्खन की तरह मुलायम। पिछले साल मेरी शादी मेरे पापा के खास दोस्त के बेटे से हो गई। शादी होने से पहले भी मेरा एक बॉयफ्रेंड था। मैंने कभी सोचा नही था कि मुझे शादी से पहले ही चुदवाने का इतना जूनून चढ़ जायेगा की अपने बॉयफ्रेंड से ही चुदवाना पड़ेगा। शादी के कुछ दिन पहले की बात है, मेरा बॉयफ्रेंड मुझसे खूब गन्दी गन्दी बात कर रहा था जिससे मेरा भी मूड बनने लगा था मैंने उससे कहा – “यार मेरा मन बहुत कर रहा है किस से आगे बढ़ने का”। वो मेरी बात सुन कर बहुत खुश हो गया उसने मुझसे कहा – “तो ठीक है कल हम लोग कॉलेज नही जायेगे और मेरे दोस्त का घर खाली है वही मस्ती करते है”। दुसरे दिन मैंने सुबह कॉलेज के समय पर उसके साथ चली गई। उसने मुझे उस दिन खूब रगड़ कर चोदा और मेरी सील भी तोड़ दी। लेकिन पहली चुदाई की बात ही अलग होती है। मुझे दर्द तो हुआ लेकिन एक अलग ही नशा था पहली चुदाई में। पहली चुदाई के बाद मैंने उससे बहुत बार चुदवाया। और फिर कुछ दिन बाद मेरी शादी हो गई। शादी के बाद कुछ दिनों तक तो मेरे पति  ने मुझको खूब मजे से चोदा लेकिन कुछ दिनों के बाद जब उनका मन मेरी चूत को चोद कर भर गया तो उन्होंने मुझे चोदना बंद कर दिया। लेकिन मेरा मन तो हमेशा करता था की कोई मेरी चुदाई करे। मै धीरे धीरे चुदने के लिए तडपने लगी और मेरे पति तो मुझे चोदने का नाम ही नही ले रहे थे। मै अपने चूत में उंगली और घर के कुछ सामान डाल कर काम चला रही थी।

कुछ महीने पहले की बात है, एक दिन मेरे पति रात को घर देर में आये और उनके साथ मे उनका एक दोस्त आया। मेरे पति को दारू पीने का सौक था, वो कभी कभी दारू पीकर घर आते थे। उस दिन भी वो घर दारू पीकर आये, वो नशे में थे उनका एक दोस्त रवि उनको घर ले कर आया। मै लेटी हुई थी लेकिन नीद नही आया रही थी। कुछ देर में मेरे पति को को लेकर रवि घर आया। मैंने अपने पति को अंदर लेटा दिया और फिर रवि ने मुझसे कहा – भाभी जी थोडा सा पानी मिल सकता है?? तो मैंने कहा – आप बैठिये मै अभी पानी लती हूँ। रवि देखने में बहुत स्मार्ट और बिलकुल जवान था। उसकी उम्र लगभग 21 साल होगी, जब मैंने उसको पहली बार देखा था तो मेरे मन में ख्याल आया कि अगर मेरी शादी इससे हो जाती तो जिन्दगी में में खूब मज़ा आता। कुछ देर बाद मै पानी लेकर आई, मैंने रवि से पूछा  – और घर पर सब कैसे है?? तो उसने कहा – सब ठीक है। फिर कुछ देर बात करने के बाद वो जाने लगा तो मैंने कहा – रात बहुत हो गई है और तुम चाहो तो यही सो सकते हो, मै तुम्हारा भी बिस्तर लगा दूँ। पहले तो उसने मन किया लेकिन फिर कुछ सोच कर कहा ठीक है मै यही सो जाता हूँ। मैंने उसका बिस्तर बी बगल वाले कमरे में लगा दिया और उससके कहा – अगर रात को प्यास लगे तो मेरे कमरे में फ्रिज है आके पानी ले लेना। उसने कहा ठीक है भाभी जी

मै अपने कमरे में चली आई और अपने कपडे को निकल कर नाईटी पहन कर लेट गई। लेटने के कुछ देर बाद ही रवि मेरे कमरे में आया मैं हलकी सी नीद में थी लेकिन मै जग गई थी, वो कमरे में आया और लाईट जलाई। पहले तो उसने फ्रिज से पानी निकाला और पिया। फिर उसकी नजर मुझ पर पड़ी, मेरे नाईटी में मेरा ब्रा साफ साफ दिखता था। उसकी नज़र मेरे ब्रा पर पड़ी और वो मेरे चूचियो को ताड़ने लगा। पहले तो कुछ देर उसने मुझे देखा और फिर जाने लगा। लेकिन फिर न जाने क्या सोच कर वापस चला आया और मेरे बगल में बैठ गया और अपने हाथो को मेरे जांघ से सहलाते हुए मेरे चूत को छूते हुए मेरे कमर पर हाथ फेरते हुए मेरी चूचियो तक आ गया। मै जग रही थी लेकिन अपने आँखों को बंद किये हुए तड़प रही थी। मेरा मन भी चुदने को कर रहा था क्योकि मेरे पति ने बहुत दिनों से मेरी चुदाई नही की थी। कुछ ही देर में उसने मेरे चुचिओ को दबाना शुरु कर दिया और फिर अपने हाथ को मेरे नाईटी के अंदर डाल कर मेरे मम्मो को दबाने लगा। मै कम्मोतेजित होने लगी और अपने आप को रोक नही पाई और मैंने उसके हाथ को पकड़ लिया और उससे धीरे से कहा – क्या तुम मुझे चोदना चाहोगे मै आज बहुत मूड में हूँ??  मेरी बात सुन कर वो खुश हो गया और उसने भी हाँ कर दिया। मै चुपके से उठ कर उसके साथ बगल वाले कमरे में चली आई और दरवाज़ा बंद कर दिया। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मै बिस्तार पर बैठी थी रवि ने पहले तो मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और फिर मेरे हाथो को अपने हाथो में फसा कर मेरे गले को चुमते हुए मेरे होठ को चूमने लगा और कुछ ही देर में उसने मेरे होठो को अपने मुह में भर लिया और मेरे होठो को पीने लगा। कुछ ही देर में मैंने भी रवि के होठो को पीने लगा। रवि बार बार मेरे निचले होठो को अपने नुकीले दांतों से काट काट कर मुझे और भी कम्मोतेजित कर रहा था। बहुत देर तक हम एक दूसरे के होठो को पीते रहे।

मेरे होठो को पीने के बाद रवि ने मेरे नाईटी को निकाल दिया और साथ में अपने कपडे को भी निकाल दिया। अब मै केवल ब्रा और पैंटी में थी और वो अंडरवियर में था। रवि ने मेरे काली ब्रा में गोर गोर मम्मो को देख कर और भी जोश में आ गया और उसका लंड खड़ा हो गया। देखते ही देखते वो मेरे चूचियो को दबाने लगा और फिर मेरे काले ब्रा को निकाल दिया और मेरे मम्मो को बहुत ही उत्तेजना से दबाने लगा, कुछ देर तक मेरे मम्मो को दबाने के बाद उन्होने मेरे मम्मो को पीना शुरू किया। वो मेरे मम्मो को किसी बच्चे की तरह पी रहा था, ऐसा लग रहा था की मै उसकी माँ हूँ और वो मेरे चुचियो से दूध पी रहा हो। धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा था। जब रवि मेरे मम्मो को दबा दबा कर पी रहा था और मै सिसकते हुए ..आह अहह अहह ओह्ह्ह ओह  करके धीरे धीरे मचल रही थी। वो मेरे मम्मो के निप्पल को अपने धारदार दांतों से कटे और मेरे मम्मो को पीने लगता। कभी कभी तो वो मेरे पूरे मम्मो को अपने मुह में भर लेता जिससे उसका दांत मेरी चुचियो में लगने लगते और जोर जोर से अह्हह्ह….अहह … ओह्ह्ह, ओह ओह … करके चीखने लगती।

बहुत देर तक मेरी चूचियो को पीने के बाद रवि मेरे कमर को सहलाते हुए मेरे चूत की तरफ बढ़ने लगा। वो मेरे कमर को चुमते हुए मेरे चूत के पास पहुंचा और मेरी पैंटी को चूमने लगा। और कुछ देर बाद उसने मेरी पैंटी भी निकाल दी आयर मेरी कमसिन और रसीली चूत को सहलाते हुए अपने उंगली को धीरे से मेरी चूत में डालने लगा। और कुछ देर में रवि ने मेरी चूत में जोर से उंगली करने लगा और मै मचल कर सिसकने लगी। कुछ ही देर में उसने अपने दो तीन उंगली को मेरी चूत में डालने लगा और मै जोर जोर से आह आआआआअह्हह्हह….ईईईईईईई…ओह्ह्ह्हह्ह…अई..अई..अई….अई..मम्मी… करने लगी और कुछ ही देर में मेरी चूत से पानी निकलने लगा। जब मेरी चूत से पानी निकलने लगा तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मेरी चूत से पानी निकालने के बाद उसने अपने 6 इंच के लम्बे और काफी मोटे से लैंड को निकाला। और मेरी चूत की गुलाबी दाने को अपनी लंड से धकेलने लगे जिससे मै बहुत अजीब सा महसूस कर रही थी। थोड़ी देर बाद रवि ने मेरी चूत को थोडा सा फैलाया और अपने लंड को मेरी चूत में उतार दिया जिससे मै सहल उठी जैसे ही रवि का लंड मेरी चूत में गया। रवि अपने लंड को मेरी चूत में डालने लगा और मै …. ‘सी सी ..सी……… उह ….उह ….उह ….आहा हा ह हा हा अहह अहह  .अह्ह्ह…..”. करके आंहें भरने लगी।

फिर रवि अपनी पूरी जोर लगा के मेरी चूत को मारने में लगे। मै तो पागल हुई जा रही थी धीरे धीरे मेरी चीख की आवाज़ और रवि के चोदने की रफ़्तार तेज होती गयी प्लीसससससस……..प्लीसससससस,  माँ माँ… प्लीसससससस……..प्लीसससससस,  उ उ उ उ ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ…”  माँ माँ….ओह माँ करके सिख रही थी।

कुछ देर बाद मै अपने कमर को उठा के रवि से चुदवाने लगी, हम दोनों को बहुत मजा आ रहा था। लगातार 50 मिनट तक रवि ने मुझे जानवरों की तरह से मेरी चूत की चुदाई की और फिर उन्होंने अपने लंड को मेरी चूत से बाहर निकाला । अब वो मेरी गांड मारना चाहता था लेकिन मैंने गांड मरवाने से मना कर दिया, लेकिन रवि ने कह दिया की अगर गांड नही मरवाओ गी तो चुदाई का पूरा मज़ा नही आयेगा। जादा मज़े के लिए मैंने रवि से अपनी गांड मरवाने के लिए तैयार हो गई। मै कुत्तिया के पोस में होगी और रवि ने अपने लंड को मेरी गांड को फैला के मेरे अंदर डाल दिया । मै दर्द से तडप रही थी और सर लगातार मेरी गांड को मारने में लगे हुए थे बहुत देर तक रवि ने मेरी गांड को मारी और फिर अपने लंड को मेरी गांड से निकाल कर मेरे हाथो में मुठ मारने के लिए रख दिया। इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

रवि का लंड मेरे हाथो में आ नही रहा था क्योकि वो बहुत मोटा था। मैंने रवि के लंड को अपने हाथो में लेकर मुठ मारने लगी। कुछ देर तक मैंने रवि के लंड को पकड कर मुठ मारा फिर जब सर का माल निकलने वाला था, तो उसने लंड को अपने हाथो में लेकर खुद ही मुठ मारने लगे। रवि बहुत तेजी से मुठ मार रहा था थोड़ी ही देर मे उनका माल निकने लगा और सर का लंड धीरे धीरे सुखी हुई तरोई की तरह मुरझा गई।

चुदाई के बाद भी उसने मेरे साथ बहुत देर तक खेलता रहा। कुछ देर बाद उसने मुझसे कहा – क्या मुझे फिर मौका मिल सकता है आप की चुदाई करने का?? तो मैंने कहा – हाँ क्यों नही जब तुम्हारा मन करे तो मेरे पति को खूब दारू पिला कर ले आना और फिर तुम मेरी खूब चुदाई करना। इस तरह से उसने मेरी चुदाई की और जब भी मन करता वो मेरे घर आ जाता और मेरी चूत को रगड़ कर चोदता।

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :