इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम के सभी पाठक पाठिका को दीपावली की ढेर सारी शुभ कामनाये। दीपावली की छुट्टियाँ शुरू हो गयी है, यहाँ कहानियाँ पढ़िए और चुदाई का आनंद लीजिये। ठण्ड और छुट्टियों का असली मजा चूत और लंड के खेल में है, अगर आपकी चुदाई का जुगाड़ नहीं है तो लड़के और लड़कियां अपने प्रेमी प्रेमिका को याद करते हुए लड़के मुट्ठ मारे और लड़किया चूत में ऊँगली करें।

प्रेमिका की सामूहिक चुदाई 2 लंड से कर डाली

loading...

Hindi xxx Story मेरा नाम अखिल है। पीलीभीत का रहने वाला हूँ। indiansexkahani.com मेरी प्रेमिका का नाम इंदु। वो 25 साल की एक जवान और सेक्सी लड़की थी। उसका जिस्म भरा हुआ था। इंदु अक्सर जींस और टी शर्ट पहनती थी। मेरे कॉलेज में रहती थी। मुझसे वो पटी हुई थी और अनेकों बार चुदवा चुकी थी। मेरा उससे अफेयर 3 सालों से चल रहा था। इतनी बार मैं उसकी गुलाबी चूत में लंड डाल चुका था की उसकी चुद्दी अब पूरी तरह से फट चुकी थी। फाड़ फाड़ फाड़कर मैंने उसको चोदा था। दोस्तों अब इंदु की चूत किसी शादीशुदा औरत की चूत की तरह दिखने लगी थी। इतनी ठुकाई की थी मैंने उसकी। कई बार मेरा दिल होता था की 2 मर्दों के साथ उसकी ठुकाई कर दो।
“इंदु!! मेरी जान 2 मर्दों का लंड एक साथ खाएगी?? बोल?? मजा आएगा??” मैंने पूछा
“ना बाबा ना!! तुम्हारे एक लंड में ही मेरी हालत खराब हो जाती है। 2 लंड एक साथ मैं कैसे ले पाउंगी” इंदु बोली
“अरे जान!! तू एक बार लेकर देख। रोज 2 -2 लंड मांगेगी” मैंने कहा
शुरू शुरू में वो मना करती रही। पर धीरे धीरे पट गयी। मैंने अपने खास दोस्त दानिश को इंदु की सामूहिक चुदाई करने के बारे में पूछा तो वो तुरंत राजी हो गया। मैं इंदु को पीजा हब में पीजा खिलाने ले गया। कुछ देर बाद दानिश भी वहां आ गया। मेरी सेक्सी प्रेमिका बार बार दानिश को तिरछी नजरो से देख रही थी।
“इंदु!! ये है मेरा ख़ास दोस्त दानिश। हाथ मिलाओ” मैने कहा
इंदु शुरू शुरू में बड़ा शर्म कर रही थी। पर दानिश लड़की पटाने में बहुत होशियार बन्दा था। जल्दी से उसने इंदु का हाथ पकड़ कर किस कर लिया। इंदु हैरान थी। इतना तेज लड़का है ये तो। इसका मतलब बिस्तर में मुझे जल्दी जल्दी चोदेगा भी। इंदु सोच रही थी। हम तीनो पिज़्ज़ा खाने लगी। मैं दानिश से हंस हंसकर बात कर रहा था। इंदु सहमी हुई थी। वो मेरे दोस्त दानिश को जानती नही। ऐसे कैसे चुदवा ले। इंदु सोच रही थी।

loading...

“इतना मत शरमाओ जान!! मैं और अखिल कई लड़कियों को एक ही बार में 2 लंड से चोद चुके है। मुझे पर भरोसा करो। तुम्हारी गुलाबी चूत की ऐसी सर्विसिंग करूंगा की जिन्दगी भर याद रखोगी” दानिश ने कहा और जल्दी से इंदु की पप्पी ले ली। इंदु के गाल टमाटर की तरह लाल हो गये थे। हमारी मीटिंग खत्म हो गयी। 2 दिन बाद सामूहिक चुदाई का कार्यक्रम बन गया। दिन में ही चुदाई का प्रोग्राम तय हुआ। मेरे ही घर पर इंदु को आकर चुदाना था। मेरा घर हमेशा खाली रहता था। यहाँ पर कोई नही रहता था। मेरे परिवार के सब लोग गाँव में रहते थे। ठीक 1 बजे मेरी प्रेमिका इंदु आ गयी। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
हमेशा की तरह उसने टी शर्ट और नीली जींस पहन रखी थी। उसके कसे कसे 38” के दूध उसकी टी शर्ट से बाहर की तरह झाँक रहे थे। इंदु अपनी गांड मटका मटकाकर चल रही थी।
“आओ आओ मेरी जान!! तुम्हारा स्वागत है। आज तुम 2 -2 लंड से चुदोगी” मैंने कहा और अपने हाथ खोल दिए
इंदु आकर मेरे गले लग गयी।
“ओह्ह जान!! पिछले आधे घंटे से तुम्हारा वेट कर रहा हूँ। इतनी देर कैसे लगी??” मैंने पूछा
“वो रस्ते में ट्रैफिक बहुत था” इंदु बोली
मैंने उसे किस किया। फिर घर के अंदर ले गया। 15 मिनट बाद मेरा जिगरी यार दानिश आ गया। मैंने तीनो के लिए बियर निकाली। धीरे धीरे दानिश इंदु का हाथ पकड़कर किस करने लगा। दोस्तों आज मेरी प्रेमिका बड़ी सेक्सी माल लग रही थी। उसने अपने हाथ की ऊँगली पर गुलाबी रंग की नेल पालिश लगा रखी थी। उफ्फ्फ्फ़ क्या सेक्सी माल लग रही थी। ओठो पर इंदु ने नेल पोलिश ने मैच करती लिप स्टिक ग्लोस वाली लगा रखी थी। धीरे धीरे हम तीनो ने अपनी अपनी बियर खत्म कर दी। हम तीनो सोफे पर बैठे थे। दानिश ने इंदु का हाथ पकड़ लिया और किस करने लगा। मैंने इंदु के पीछे आ गया। उसके गले को पीछे से चूमने लगा। धीरे धीरे हम तीनो गर्माने लगे। दानिश ने इंदु को अपनी गोद में बिठा लिया।
“आओ बुलबुल!! तुम मेरी गोद में आओ। जरा तुम्हारी खूबसूरती आज चख लूँ” दानिश बोला और इंदु को बाँहों में भर लिया। फिर किस करने लगा। दोस्तों इंदु ने आज पता नही कौन सा परफ्यूम लगाया था। बड़ा महक रहा था। उसकी सुगंध से मैं और दानिश भी महकने लगे। दानिश सोफे पर पीछे की तरफ टेक लगाकर झुक गया। इंदु को अपने उपर झुका लिया। फिर क्या था दोस्तों। दानिश ने जल्दी जल्दी मेरी प्रेमिका के लिप स्टिक लगे होठ चुसना शुरू कर दिए। मैंने अपने कपड़े उतारने लगा। अब मैं नंगा हो गया था।

दोस्तों मेरी और दानिश दोनों की बॉडी बड़ी फिट थी। हम दोनों रोज जिम जाते थे। हम दोनों की बॉडी में 8 पैक्स थे। किसी बॉडी बिल्डर की तरह हम लोगो के बदन में कई कट थे। अब मैं पूरी तरह से नंगा हो गया और खड़ा हो गया। मैं इंदु के पीछे आ गया। दानिश तो अभी भी इंदु को गोद में बिठाकर उसके लब चूस रहा था। दोनों गरमा गर्म चुम्बन कर रहे थे। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। मैंने इंदु के हाथ पकड़कर उपर किये और उसकी टी शर्ट उतार दी। फिर उसकी ब्रा के हुक खोल दिए। दानिश ने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। धीरे धीरे उसने सब उतार दिए। धीरे धीरे मैंने इंदु की कसी कसी जींस को खींचकर उतार दिया। उसकी गुलाबी सिल्क पेंटी उतार दी। अब इंदु हम दोनों के सामने नंगी थी। मैं और दानिश पूरी तरह से नंगे होकर सोफे पर बैठ गये।
“आओ बेबी!! हमारे लंडों को खुस करो” दानिश ने कहा
इंदु गांड मटकाकर नीचे जमीन पर बैठ गयी। उसने दानिश के लौड़े को पकड़ लिया और जल्दी जल्दी फेंटने लगी। इंदु खोलकर पेश आ रही थी। दोस्तों आपको बता दूँ की दानिश का लंड 8” लम्बा और 2” मोटा था। किसी नीग्रो के लंड जैसा दिख रहा था। जबकि मेरा लंड 6” लम्बा और 2” मोटा था। धीरे धीरे मेरी प्रेमिका ने हम दोनों के लंड हाथ में लेकर फेटना शुरू कर दिया। धीरे धीरे हम दोनों के लंड लोहे की रोड जैसे हो गये। इंदु अब जल्दी जल्दी चूसने लगी। धीरे धीरे उसे मजा आ रहा था। कुछ देर बाद मेरी प्रेमिका किसी रंडी की तरह चूसने लगी। वो जल्दी जल्दी सिर हिला हिलाकर दानिश का लंड चूस रही थी।
वो 2 मिनट मेरा चूसती फिर 2 मिनट दानिस का चूसती। इसी तरह खूब चूस रही थी। कुछ देर बाद इंदु चुदने को तडप रही थी।
“तुम दोनों कब मेरी चूत में लंड दोगे?? आओ जल्दी चोदो मुझे” इंदु बोली
मैंने उसे सोफे पर ही लिटा दिया। दानिश उसकी बायीं चूची हाथ से दबा दबाकर पीने लगा। मैं इंदु की बायीं चूची हाथ से दबा दबाकर पी रहा था। हम दोनों चूस रहे थे। इंदु “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” बोलकर सिसकारी भर रही थी। उसे बड़ा नशीला अहसास हो रहा था।

मैं और दानिश अपनी अपनी चूची को चूस रहे थे। दोस्तों जिन्दगी स्वर्ग सी लग रही थी। इंदु की गांड फटी जा रही थी। आजतक 2 लोगो ने एक साथ उसकी चूची नही चुसी थी। उसकी चूत अब तर होकर बहने लगी थी। दानिश तो किसी हब्शी की तरह इंदु की निपल्स को दांत से काट काटकर चबा रहा था।
फिर उसने इंदु के पैर खोल दिए और लंड इंदु की चूत में डाल दिया। दानिश ने जल्दी जल्दी चुदाई शुरू कर दी। मैंने बगल में बैठ गया। अपनी बारी का वेट कर रहा था। इंदु सोफे पर लेट कर चुदा रही थी। “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” बार बार बोल रही थी। दानिश जल्दी जल्दी मेरी प्रेमिका की चूत चोदन कर रहा था। दानिश का मोटा जल्दी जल्दी इंदु की गुलाबी चूत में गहराई तक सरक रहा था। इंदु मजा ले रही थी। उसने अपनी दोनों टांग को उठा रखा था। जल्दी जल्दी चुदा रही थी। दानिश का लंड तो धमाल मचा रहा था। वो सोफे पर लेटकर उसकी चूत चोद रहा था। उसके दूध को मुंह में लेकर चूस चूसकर इंदु की चूत में लंड की सप्लाई कर रहा था।

loading...
लड़कियों का whatsapp नंबर यहाँ डाउनलोड करें Free

इंदु की जान निकल रही थी। दानिश ने 20 मिनट मेरे सामने इंदु को चोदा फिर हट गया।
“आओ अखिल अब तुम्हारी बारी!” मेरा यार दानिश बोला
अब मैंने इंदु के भोसड़े पर आ गया। चूत में लंड मैंने हाथ से पकड़कर अंदर डाल दिया। जल्दी जल्दी अपनी प्रेमिका को लेने लगा। इंदु अब फिर से मस्त होने लगी। मेरा दोस्त दानिश मेरे बगल बैठ गया और जल्दी जल्दी अपने लंड को फेटने लगा। मैं इस वक़्त इंदु की चूत बजा रहा था। मुझे बड़ा मीठा मीठा लग रहा था। इंदु की चूत चुदकर और जादा लाल हो गयी थी। मेरा 6” का लंड उसकी चूत का धुंआ निकाल रहा था। कुछ देर बाद इंदु अपना मुंह में अंगूठा डालकर खुद ही चूसने लगी। वो बिलकुल छिनाल जैसी दिख रही थी। “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की तेज तेज आवाजे निकाल रही थी।
मैं शान से उसे बजा रहा था। इंदु ने फिर से अपने दोनों पैर हवा में उठा दिए थे। अब उसकी बुर अपना ताजा सफ़ेद रंग का मक्खन छोड़ रही थी। मुझे अब जादा चिकनाहट मिल रही थी। मैंने 18 मिनट अपनी प्रेमिका के साथ सम्भोग किया। उसके बाद मैं हट दिया। दानिश अब सोफे पर आकर बैठ गया। इंदु के होठो को किस करने लगा।
“आओ जान मेरे लंड की सवारी करो” दानिश ने इंदु से कहा
इंदु धीरे धीरे उसके लंड को चूत में लेकर बैठ गयी और दानिश के सीने पर लेट गयी। मैंने पीछे से इंदु की मस्त मस्त खुर्बुजे जैसी गांड में अपना लंड लगा दिया और एक प्यार भरा धक्का मारा। मेरा 6” का हथियार पूरा उसकी कुवारी गांड में उतर गया। “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा—मर गयी…मर गयी मैं” इंदु चिल्लाई। दोस्तों इस वक़्त उसकी चूत और गांड में एक एक लंड घुसा हुआ था। इंदु की गांड फट गयी थी। वो दर्द से तडप रही थी।
धीरे धीरे दानिश और मैंने अपने अपने लंड अंदर बाहर करना शुरू कर दिया। हम दोनों एक साथ इंदु की चूत और गांड मार रहे थे। इंदु का बुरा हाल था। वो सिसक रही थी। कराह रही थी। उसकी जान निकल रही थी। वो दानिश के सीने पर लेटी थी। धीरे धीरे इंदु को हम दोनों ताल से ताल मिलाकर चोदने लगे। हम दोनों के लंड आपस में टकरा रहे थे। इंदु का बुरा हाल था। धीरे धीरे इंदु की चूत और गांड का छेद खुल गया। “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” बार बार वो बार बार चीख रही थी। 1 घंटे तक हम दोनों ने इंदु के साथ सामूहिक चुदाई की पर अपने अपने छेद में झड गये। DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :
loading...