चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

शादी से पहले होने वाले पति से चुदवाई

loading...

Hindi Sex हेलो दोस्तों मैं आप सभी का इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करती हूँ।  stories मैं पिछले कई सालो से इसकी नियमित पाठिका रही हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी सेक्सी स्टोरीज नही पढ़ती हूँ आज मैं आपको अपनी कहानी सूना रही थी। आशा है की ये आपको बहुत पसंद आएगी।
मेरा नाम कल्पना है। मेरी उम्र 25 साल है। मै बहुत ही हॉट और सेक्सी लगती हूँ। मेरा फिगर 36,30, 34 का फिगर बहुत लाजबाब लगता है। जब भी मुझे कोई देखता है। उसका लंड बहुत ही तेजी से खड़ा हो जाता है। मै चुदवाने में बहुत ही रुचि रखती हूँ। मुझे बड़ा मोटा लंड बहुत पसंद है। हैंडसम लड़को को देखते ही मेरी चूत में खुजली होने लगती है। पहले मैं कॉलेज जाने के बहाने चुदवा लेती थी। लेकिन अब तो कॉलेज भी छूट गया था। मुझे लंड चूसने को अब नसीब ही नहीं हो रहा था। चुदाई किये बर्षो हो गए थे। हाथ से काम चला रही थी। घर की सब्जियां ही मेरी चूत से क्रीम निकलती थी। लंबा लंबा बैगन ही मेरी चूत की खुजली को शान्त करता था। दोस्तों मै अब अपनी कहानी पर आती हूँ। आप यह चुदाई स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
मै अमीर घर की लड़की हूँ। शादी के लिए कई जगह रिश्ता लेकर पापा गये। लेकिन कोई भी लड़का मुझे पसंद ही नहीं आता था। आखिरकार एक लड़का मुझे पसंद आ ही गया। मै उस पर फ़िदा हो गई। क्या दिखता था वो। लंबे कद का वो लड़का था। बॉडी से एकदम जॉन लगता था। उसका नाम जतिन था। उसकी पेर्सनालिटी देख के लगता था। उसका लंड भी बड़ा होगा। वो मेरे घर से 8 किलोमीटर दूर रहता था। मै उससे जल्दी से शादी करके चुदवाने को तड़पने लगी। इसे देखकर मीठी चूत में हलचल हो रही थी। अब मुझसे नहीं रहा जा रहा था। शादी फिक्स होते ही। हमने एक दूसरे से अकेले में बात किया। घरवालों के सामने ज्यादा देर तक बात नहीं की। हम दोनों ने चलते चलते एक दूसरे का नम्बर ले लिया। आज के दौर के लड़कों लड़कियों की बात चीत तो आप लोग जानते ही है। हम लोग व्हाट्सएप्प से खूब बात करते। खूब देर तक फ़ोन से भी बात करते। धीरे धीरे एक दूसरे से हर बात कहने लगें।

फ़ोन सेक्स करके हम दोनों गर्म हो जाते थे। वो अपने लंड को हिला हिला कर काम चला रहा था। मैं भी चूत में ऊँगली डालकर खूब मुठ मारती थी। व्हाट्सएप्प पर मैं अपनी चूत की फोटो भेजती थी। वो भी मुठ मार कर वीडियो बनाकर भेज देता था। बाप रे बाप इतना बड़ा मोटा लंड तो मेरी कॉलेज में भी किसी लड़के का नहीं था। बेकरारी बढ़ते बढ़ते हमने मिलने का फैसला किया। सारा प्लान चुदने का बन चुका था। उसके मेरे घर से और उसके घर के बीच में ही लगभग बहुत बड़ा बाजार पड़ता था।
वहाँ पर उसकी दुकान थी। वो मुझे वही मिलने के लिए कहा। उस दिन दुकान पर रहने वाले लोगो को छुट्टी दे दिया। आज उसका भी चोदने का मौसम बन चुका था। मैं शॉपिंग के बहाने घर से निकल कर वहां गई। वो मेरा बेचैनी से इन्तजार कर रहा था। अकेला ही बैठा हुआ था। वो मुझे दुकान में पीछे के रास्ते से ले गया। चुपके से मै अंदर आ गई। पड़ोसियों को पता नहीं चल पाया। वो दुकान छोड़कर अंदर आ गया। मुझे देख कर वो बहुत ही खुश हो रहा था। मुझे उसके लंड के खाने की बड़ी जल्दी पड़ी थी। वो भी चोदने को बेकरार हो रहा था।

मुझे डर लग रहा था। कही उसे बुरा न लगे क्योंकि मेरी सील तो पहले से ही टूटी थी। मैने उसका बहाना भी ढूंढ लिया था। मेरी खूबसूरती के आगे अच्छे अच्छे सलाम करते थे। वो भी हॉट सेक्सी बॉडी पर फ़िदा था। उसने मेरे पास आकर मुझे चिपका कर कहने लगा- “हम दोनों से रहा नहीं गया। कुछ हो दिन तो बचे है हमारी शादी को”
मै- “तुम्ही ने तो बुलाया नहीं तो मैं अभी ऐसा कुछ नहीं करती”
मैंने ये बहाना बनाकर कहा। मै सोचने लगी कही ऐसा न हो की ये अपना लंड आज मेरी चूत में डालने से मना कर दे।
जतिन- “अब आ ही गई हो मेरी जान तो सुहागरात से पहले ही सुहागदिन मना लेते है”
इतना कहकर मुझसे चिपकने लगा। मै भी उसे कस के दबा ली।
मै- “मेरे राजा तुम कुछ दिन और इन्तजार नहीं कर सकते थे। मुझे आने को मजबूर कर दिए”
जतिन- “डॉलिंग मै तुम्हे देखते ही मन ही मन चोदने को बेकरार था। आज मौका भी मिल गया है”
मै- “तो ठीक है। ले लो मेरे राजा जितना मजा लेना हो। मैंने अभी तक सब कुछ तुम्हारे लिए ही बचाकर रखी थी”
वो मेरी टांगो में टांगे फसाकर कर। मुझे सहला कर बाते कर रहा था। आज इतने दिनों बाद किसी की बाहों में आकर उसका लंड महसूस कर रही थी। उसका खड़ा लंड मेरी चूत में लग रहा था। मेरी चूत में तो करंट लग रहा था। मैं उसके लंड पर अपना हाथ रख कर दबाने लगी। मेरी टी शर्ट में चूंचियां निकली हुई थी। वो मेरे होंठों को देख कर उसका रस पान करने लगा। मेरे नाजुक मुलायम गुलाब जैसे होंठो को चूस चूस कर मजा ले रहा था।

loading...

अपना जीभ अंदर मुह में डाल कर मेरी जीभ तक को चूस कर मुझे गर्म करने लगा। मै भी कुछ कम नहीं थी। मैंने भी उसका साथ दे रही थी। दोस्तों आपको तो पता ही होगा की लड़कियों में जोश लड़को से कही ज्यादा होता है। मेरे गालो को किस करते करते गले को किस करने लगा। मेरे गले को जब भी कोई छूता है। मेरे पूरे बदन में बिजली दौड़ने लगती हैं। मेरे कानो को काट रहा था। मै गर्म होकर मरी जा रही थी। उसका लंड कस कस कर दबा रही थी। उसका लंड खड़ा हो चुका था। मैं भी चुदने को तैयार थीं। मैंने उस दिन खूब टाइट जीन्स पहना हुआ था। मेरी गांड बाहर की तरफ निकली हुई थी। वो मेरी गांड को दबा रहा था। मेरी चूंचियो को ऊपर से ही मसल रहा था। उसने मेरी टी शर्ट निकाल कर मेरे बड़े बड़े 36″ के मम्मो को ब्रा में कर दिया। सॉफ्ट सॉफ्ट बूब्स को देखकर उसके मुह में पनी आने लगा। उसने मेरे चूंचियो को ब्रा के ऊपर से ही दबाकर काटना शुरू किया।
मै जोर जोर से “……अई …अई. …अई. …..अई. …इसस्स्स्स्स्. ……उहह्ह्ह् ह….. ओह्ह्ह्हह्ह….” की आवाज की सिसकारी भर रही थी। वो मेरी चूंचियो को ब्रा को निकाल कर आजाद कर दिया। मेरे दोनों खरबूजे लटके हुए थे। अपने हाथों में पकड़कर खूब खेल खेल कर मजा लिया। उसने अपना मुह लगाकर मेरी चूंचियो के निप्पल को काटने लगा। मेरी मुलायम बूब्स को डक़बा दबा कर टाइट कर दिया। दोनो निप्पल बहुत ही कड़े होकर खड़े हो गए। उसने मेरी जीन्स का हुक खोलकर निकाल दिया। मै पैंटी में हो गई। मुझे शरम आने लगी।

loading...

फिर भी चुदाई की तड़प मुझे बार बार उसका लंड खाने को मजबूर कर रही थी। मैंने अपनी पैंटी भी निकाल दी। मै सोच रही थी की कितनी जल्दी ये मेरी चुदाई करके मेरी चूत को फाड़ डाले। उसने अपना मुह लगाकर चूत को चाटने लगा। मेरी चूत में आग लग गई। मै चूत पर अपनी ऊँगली लगाकर मसल रही थी। वो मेरी रसीली चूत पीने में मस्त था। वो चूत के नालो के बीच अपनी जीभ लगाकर मुझे बहुत ही गर्म कर दिया। चूत के दाने को भी अपनी दांतो से काट रहा था। मेरी गर्म बुर से उबला पानी निकलने लगा। मलाई वाला गाढ़ा सफ़ेद माल जतिन बहुत ही मजे ले लेकर चाट रहा था।
एक एक बूँद का मजा ले लेकर चूत चटाई की। मैंने उसके पैंट से बेल्ट खोलकर निकाल दिया । वो भी कच्छे में हो गया। उसका तना हुआ लंड बहुत ही लंबा लग रहा था। मैंने झट से उसका कच्छा सरका कर निकाल दिया। उसका लंड बहुत ही भारी लग रहा था। आम लंड से काफी बड़ा था। लगभग 7 इंच का लंड मै हाथो में लेकर खेलते हुए चूस रही थी। कुछ देर तक मैंने उसका लंड अपनी मुह में रख कर खूब लॉलीपॉप की तरह चूसा। उसने अपना लंड मेरी मुह से छुड़ाकर मुझे लिटा दिया। मेरी दोनों टांगो को फैलाकर उसके बीच में गया। अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगा। चूत पर रगड़ कर उसे और भी ज्यादा लाल कर दिया। आप यह चुदाई स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
मैंने अपने हाथों से उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर लगा दिया। उसने धक्का मारा और अपने लंड का सुपारा मेरी चूत में घुसा दिया। मै जोर से “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” की आवाज की चीख निकालने लगी। वो सुपारा ही डाल डाल कर कुछ देर तक मेरी चूत चुदाई करता रहा। धीरे धीरे करके अपना पूरा लंड मेरी चूत में डालकर पूरे लंड से चुदाई करने लगा। अपना मोटा डंडा मेरी चूत में जड़ तक पेल रहा था। उचक उचक कर खूब जोर जोर से मेरी चुदाई कर रहा था। मुझे बहुत डर लगने लगा। वो पूरे जोश के साथ जब भी अपना लंड घुसता था। मेरी जान निकल जाती थी। मैं भी गर्म थी चूत का दर्द भी आराम होने लगा। तो मैंने भी अपनी चूत उठा दी। उसे चोदने में और भीं ज्यादा आसानी होने लगी। मुझे आज कई दिनों बाद ये सुख मिल रहा था। वो मेरी एक टांग उठाकर मेरी चूत में लंड डालकर चुदाई करने लगा।

अपनी कमर को आगे पीछे करके वो मेरी चूत को फाड़ रहा था। उसने कुछ देर तक मुझ ऐसे ही चोदा। उसके बाद उसने मुझे बिस्तर के किनारे करके नीचे खड़ा होकर मेरी दोनो टांगो को उठाकर चोदने लगा। हाथो में मेरी टाँगे लिए हुए वो अपना लंड लपा लप डाल कर निकाल रहा था। आप यह चुदाई स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
मै जोर जोर से “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की चीख निकाल रही थी। उसकी तेज चुदाई ने मेरी चूत से माल निकलवा दिया। मेरी चूत झड़ गई। मेरी चूत के नाले में पानी आ गया। उसका पूरा लंड गीला हो गया। लेकिन फिर भी उसकी रेलगाड़ी चलती ही रही। मेरी चुदने की आवाज बदल रही थी। मेरी मुह से “आऊ….. आऊ ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज निकल रही थी। मेरी चूत से भी घच्च पच्छ घच्च पच्च की आवाज से पूरा कमरा भरा हुआ था। अब मेरी चूत बार बार जल्दी जल्दी ही पानी छोड़ने लगी। वो भी अपनी स्पीड बढ़ाने लगा। उसका लंड भी बहुत टाइट होता जा रहा था। इतना गर्म हो गया कि मेरी चूत को भी जलाने लगा। उसने भी अपनी तेज स्पीड में चुदाई करती गाडी को ब्रेक मार दी। वो भी झडने की स्थिति में आ गया। उसने अपना लंड मेरी चूत से निकाल लिया। सारा माल।
मेरी मुह में स्खलित कर दिया। मै उसका मीठा माल पी गई। उसके बाद कुछ देर तक नंगे ही लेते रहे। अपना अपना कपड़ा पहनकर चलने लगे। तो चलते चलते एक बार फिर से चुदाई कर ली। दो महीने बाद शादी हो गई। सुहागरात के दिन तो गांड चुदाई कर बहुत ही दर्द दिया। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

DMCA.com Protection Status

loading...