चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

सगे बेटे ने चूत के बाद मेरी गांड भी चोदी

loading...

Hindi Sex सगे बेटे ने चूत के बाद मेरी गांड भी चोदी stories

मेरा नाम राबिया खातून है। मैं एक हॉट और सेक्सी औरत हूँ। मैं गोरी और सुंदर औरत हूँ। मेरी शादी हो चुकी है। मेरे 2 बच्चे है 1 लड़का और 1 लड़की। मेरे शौहर दुबई में इंजीनियर है। वो साल में सिर्फ एक बार कुछ हफ्तों के लिए घर आते है तब मेरी कसकर चूत बजाते है। घर के खर्च के लिए शौहर पैसे भेजते रहते है। मेरा बड़ा लड़का आसिफ अब 25 साल का हो गया है। मेरी लड़की अभी 10 साल की है।
आपको बताना चाहूंगी की मेरा अफेयर मेरे सगे बेटे से चल रहा है। घर में जब साल – साल भर शौहर का लंड खाने को नही मिलता था तो धीरे – धीरे मैं अपने बेटे आसिफ से ही प्यार करने लगी। धीरे – धीरे मेरे बेटा मुझे चोदने लगा। दोस्तों आपको अपनी जवानी के बारे में पहले बता देती हूँ। मेरी रिश्तेदारी में कई मर्द मुझे चोद चुके है। मेरे जेठ, देवर मुझे चोद चुके है। **** में मेरे मामू मेरी चूत मार लिया करते थे। अब मैं सिर्फ अपने बेटे से ही चुदाती हूँ। मेरी उम्र 40 साल की है। देखने में सेक्सी औरत हूँ मैं। मेरे दूध 36” के गोल गोल बड़े बड़े है। कितने मर्द मेरे दूध पीकर मुझे चोद चुके है। मुजको सेक्स के समय मोटे लंड खाना बेहद पसंद है। मैं मर्दों के लंड चूस चूसकर चुदाती हूँ।
मुझे सेक्स करना बड़ा पसंद है। मैं चूत के साथ साथ गांड मरवाना भी खूब पसंद करती हूँ। अब तक 16 मर्द मुझे चोद चुके है। अब मैं सिर्फ अपने बेटे से चुदाती हूँ। मुझे मर्दों के लंड से खेलने का बड़ा शौक है। मैं मुंह में लेकर लंड को चूसती हूँ। अब कहानी पर आती हूँ। कैसे मैंने अपने बेटे आसिफ से चुदा लिया आपको पूरी स्टोरी सूना रही हूँ। उस दिन बड़ी गर्मी हो रही थी। अचानक गर्मी मेरे जिस्म में चढ़ गयी। रात के 11 बजे हुए थे। मैं पेटीकोट ब्लाउस में अपने कमरे में लेटी हुई थी। गर्मी बहुत थी और पंखा धीरे धीरे चल रहा था। धीरे धीरे मेरा चुदने का दिल करने लगा। मैंने अपने पेटीकोट को उठा दिया और चड्ढी उतार दी। जल्दी जल्दी अपनी चूत में ऊँगली करने लगी।
धीरे धीरे मैंने 3 ऊँगली बुर में डाल दी। जल्दी जल्दी चूत को मथ रही थी। धीरे धीरे मेरी चूत अपना मक्खन छोड़ने लगी। मैं जल्दी जल्दी चूत में ऊँगली करती गयी। कुछ देर बाद मैं झड गयी। मेरी चूत से पानी की पिचकारी कई बार निकली। बहुत मजा मिला मुझे। अब तो मेरा चुदाने का दिल कर रहा था। मेरा 25 साल का बेटा अपने कमरे में था। जग रहा था और विडियो गेम खेल रहा था। मैं पेटीकोट ब्लाउस में आसिफ के कमरे में चली गयी। वो सिर्फ कच्छा बनियान में था।
“बेटा!! आसिफ आओ मेरे पैर दबा दो। दर्द हो रहा है” मैंने कहा
आसिफ मेरे कमरे में आ गया। मैं लेट गयी। अपने पेटीकोट को मैंने उपर उठा दिया। आसिफ कई बार मुठ बाथरूम में बार चुका था। मैं जानती थी। आज मेरा उसका मोटा लंड खाने का मन था। मैंने खुद ही अपने पेटीकोट को उपर उठा दिया। मेरी चिकनी जांघ दिख रही थी।

“दबाओ बेटा!!” मैंने कहा
मेरा सीधा साधा स्वाभाव वाला बेटा दबाने लगा। वो अच्छी तरह से मेरे पैर दबा रहा था। धीरे धीरे मैंने अपने पेटीकोट को उपर और जादा उपर उठा रही थी। कुछ समय बाद मैंने पूरा पेटीकोट पलट दिया। मेरी नंगी चूत का दीदार आसिफ को हो गया। वो झेप गया। मेरी गांड खरबूजे की तरह गोल मटोल थी। मेरे पुट्ठो का साइज 42 था। बिलकुल गोल गोल कद्दू की तरह। इससे आप अंदाजा लगा सकते है की मेरी गांड कितनी मस्त थी। आसिफ मेरे पैर दबा रहा था पर बार बार मेरी रसीली चूत की तरफ देख रहा था। अभी अभी कुछ देर पहले मैंने चूत में ऊँगली की थी। इस वजह से ताजा सफ़ेद मक्खन मेरी बुर के उपर लगा हुआ था। दोस्तों कुछ ही सेकंड में मेरा बेटा मेरी भरी हुई चूत का आशिक हो गया। ये कहानी आप इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।
वो खुद ही कुछ देर बाद मेरी चूत पर हाथ लगाने लगा। वो खुद को रोक न सका।
“आसिफ बेटा!! पियोगे मेरी बुर!! आओ कोई शर्म की बात नही है। कितने ही लड़के अपनी माँ को चोद लेते है। बेटे किसी से कहना नही” मैंने कहा
मैंने अपनी टांग खोल दी। दोस्तों मैं एक हट्टी कट्टी तंदुरुस्त बदन वाली औरत। मैंने अपना पेटीकोट उपर उठा दिया। पैर खोल दिए। आसिफ लेट गया और जल्दी जल्दी मेरी गुलाबी बुर पीने लगा। वो मेरे भोसड़े को जल्दी जल्दी चाट रहा था। मैं “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। कुछ ही देर में आसिफ का लौड़ा उसके कच्छे में खड़ा हो गया। उसने फ्रेंची वाली चड्डी और सफ़ेद बनियान पहन रखी थी। वो लेटकर मेरी चूत पी रहा था। मेरी जान निकल रही थी क्यूंकि आज पुरे 1 साल बाद कोई मेरी चूत पी रहा था। मेरे शौहर तो दुबई में थे। कोई चोदने वाला न था। आसिफ जल्दी जल्दी मेरी गुलाबी चूत पर जीभ नचा रहा था। वो जल्दी पी रहा था। मैं तडप रही थी। धीरे धीरे आसिफ ने मेरी चूत में ऊँगली करना शुरू कर दिया। मैं मुंह खोल खोलकर सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। मेरा जल्दी जल्दी चूत का मक्खन चाट रहा था।
“अम्मी तुम तो बड़ी सेक्सी औरत हो” आसिफ बोला
“हाँ बेटा पर इसके बाद भी तो कोई लंड देने वाला नही है। सुबह से शाम तक रसीला लंड खाने को तरसती रहती हूँ। तू भी कैसा बेटा है। कभी नही सोचता की अपनी अम्मी को चोदकर मजे दे दूँ” मैंने मुंह बनाकर कहा
“अम्मी!! आज मैं तुमको चोद डालूँगा। तुम देखना!!” आसिफ बोला
“चोद बेटा चोद!! जल्दी से अपना लंड मेरे भोसड़े में डाल दे” मैंने कहा
कुछ देर बाद मेरे बेटे आसिफ ने मेरी अपनी चड्डी और बनियान उतार दिया। मेरे पैर खोले और लंड अंदर सरका दिया। जल्दी जल्दी वो मेरे साथ चुदाई करने लगा। मैं “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” की गर्म गर्म आवाजे निकाल रही थी। आसिफ का लंड 7” मोटा और बहुत रसीला था। जल्दी जल्दी मुझे पेल रहा था। मैं चुद रही थी। कुछ देर बाद तो मुझे दुगुना मजा आने लगा जब मेरे बेटे आसिफ का लंड पूरा का पूरा 7” अंदर घुसकर मेरी चूत में धमाल मचाने लगा। मैं बार बार अपना पेट और कमर उठाकर चुदा रही थी। इसी गरमा गर्मी में मैंने आसिफ के गाल पर 3 -4 चांटे मार दिए।
“पेल!! और जल्दी जल्दी पेल। क्या तूने मेरा दूध नही पीया है। क्यों मेरे दूध की बेइज्जती कर रहा है। और कसके चोद मुझे। फाड़ दे मेरी गुलाबी चूत!!” मैं कह रही थी
मेरी बात सुनकर मेरा बेटा और जोश में आ गया था। उसने मेरी दोनों खूबसूरत टांगो को उठाकर अपने कंधे पर रख दिया और दना दन मुझे चोदने लगा। अब तो आसिफ मेरी रसीली चूत को जल्दी जल्दी चोद रहा था। मैं तो तडप रही थी। आसिफ का 7” लंड मेरी लाल लाल चूत को अंदर तक फाड़ रहा था। मेरी मखमली बुर में उसका मोटा लंड सरक रहा था। मैं कामुकता के साथ गहरी गहरी साँसे भर भर रही थी। “ हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। आसिफ जल्दी जल्दी मेरा गेम बजा रहा था। मैं तडप रही थी। कुछ देर बाद आसिफ के धक्के की रफ्तार तेज हो गयी। वो बड़ी तेज तेज मुझे ठोंक रहा था। मेरे जिस्म में बिजली सी दौड़ रही थी। मैंने अपना अंगूठा अपने ही मुंह में डाल दिया और जल्दी जल्दी चूसने लगी। बेटा अपने काम पर लगा हुआ था। जल्दी जल्दी मुझे चोद रहा था। मैं किसी देसी रंडी की तरह लग रही थी। मेरी 36” की चूचियां गोल गोल बड़े ही सेक्सी अंदाज में हिल रही थी। मुझे मीठा – मीठा चूत में लग रहा था। मेरी रसीली चूत अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी। मेरा बेटा आसिफ मुझे पेल रहा था। मेरी बुर से मानो अंगारे फूट रहे थे।

loading...

“…….उई. .उई..उई……. आज मेरी चूत फाड़ फाड़कर इसका भरता बना डालो बेटा ओह्ह्ह्ह माँ……अहह्ह्ह्हह…” मैं जोर जोर से चीख रही थी। आसिफ तो रुकना जानता ही नही था। जल्दी जल्दी मुझे बजा रहा था। कितनी तेज तेज पट पट की आवाजे मेरी चूत से निकल रही थी। जैसे लावा फूट रहा हो। मेरी चूत में आतिशबाजी हो रही थी। मुझे बड़ा मजा आ रहा था। आसिफ का जिस्म मुझे चोदने के चक्कर में पसीना पसीना हो गया था। मेरा बेटा बड़ी मेहनत कर रहा था। 30 मिनट की ठुकाई के बाद आखिर वो मेरी रसीली चूत में स्खलित हो गया। मेरी चूत उसके सफ़ेद माल से पूरी तरह उपर तक भर गयी। आसिफ मेरे किनारे ही लेट गया। मैंने उसे गले लगा लिया। गालों पर किस करने लगी।

loading...

“….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ—बेटा!! आज तूने मुझे भरपूर मजा दिया। सबको तुम्हारे जैसा प्यारा सा बेटा मिले” मैंने कहा
कुछ देर तक हम माँ बेटे लेते रहे। अब आसिफ सुस्ता रहा था। धीरे धीरे मैंने उसका लंड चुसना शुरू कर दिया। मेरे बेटे का लंड बहुत ताकतवर और लम्बा था। मेरे शौहर से भी अधिक लम्बा था आसिफ का लंड। धीरे धीरे मैं चूसने लगी। आसिफ मस्त होने लगा। दोस्तों 15 मिनट तक मैं जल्दी जल्दी उसका लंड हाथ से फेटती रही और मुंह में लेकर चूसती रही। आसिफ के लंड में अभी भी मेरी चूत का शहद लगा हुआ था। मैं जल्दी जल्दी चूस रही थी। थोड़ी देर की मेहनत के बाद आसिफ का लंड किसी सांड के लंड की तरह हो गया। फिर उसने मेरी गांड मारी। मुझे कुतिया बनाकर आसिफ ने 2 बार और चोदा और 3 बार मेरी कुवारी गांड चोद डाली. DMCA.com Protection Status

loading...