चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

ससुर और पति ने एक साथ लिटाकर चोदा

sex story मेरा नाम अंजू है। बंगलौर की रहने वाली हूँ। मैं बहुत सुंदर और सेक्सी माल हूँ। चुदने में बहुत मजा आता है मुझे। जब घर पर कोई मर्द मेरी पेलाई करने के लिए नही होता है तो खुद ही अपनी चूत में जल्दी जल्दी ऊँगली करके पानी निकाल देती हूँ। अपने 36” के बूब्स को खुद ही दबाकर मजा ले लेती हूँ। मेरी सेक्स की आग ऐसी है की बुझती ही नही है। जितना जादा लंड चूत में खाती हूँ उतनी की ये आग और भड़क जाती है। मेरा जिस्म गोरा और बहुत सेक्सी है। गोल, मटोल जिस्म है मेरा जिसमे नीचे से उपर तक गोश ही गोश है। 36 30 32 का फिगर है मेरा। मैं साड़ी ब्लाउस में बहुत सेक्सी औरत लगती हूँ। नेट वाली साड़ी और आगे से गहरा और पीछे से खुला डोरी वाला ब्लाउस पहनती हूँ जिसमे मेरी पीठ खुली खुली सबको दिख जाती है और मर्दों के लौड़े खड़े हो जाते है। सब मुझे चोदना चाहते है पर मैं कोई छिनाल औरत नही हूँ जो किसी का भी लौड़ा खा लूँ। मुझे मर्दों का लंड चूसना बहुत अच्छा लगता है। हाथ से फेट फेटकर लंड खड़ा कर देती हूँ। अब स्टोरी पर आती हूँ।  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
मेरी शादी होने के बाद ही मेरे ससुर मुझे बुरी नजरो से देखते थे। मेरे पति रोहन मुझे बहुत प्यार करते थे। रोज रात में मुझे चोदते थे। धीरे धीरे ससुर जी का भी दिल करने लगा। मेरी सास गुजर चुकी थी। अब घर में सिर्फ मैं, पतिदेव, और ससुर ही थे। एक दिन जब मैं उनके लिए चाय लेकर गयी तो उन्होंने मुझे अपने पास बिठा लिया और दोनों कन्धो को पकड़ लिया।

“बहू!! तुम अभी जवान और खूबसूरत हो। सेक्स तो तुमको बहुत पसंद होगा। कभी कभी मुझे ही अपनी सेवा करने का मौका दो” ससुर जी बोले
मैं समझ गयी की वो मुझे चोदना चाहते है।
“पापा जी!! ये कैसी बात कर रहे है आप?? मैं तो आपकी बेटी जैसी हूँ। आप मेरे पिता सामान है। आप ऐसी बाते कैसे कर सकते है???” मैंने कहा
वो हँसने लगे।
“बेटी!! तुम बेकार में उसूल आदर्श के चक्कर में पड़ी हूँ। 2 -2 मर्द तुम्हारे सामने है और तुम्हारी सेवा करते को तैयार है। तुमको तो डबल डबल मजा मिल सकता है। जवानी का मजा लूटो बेटी!!” ससुर जी बोले और मुझे किस करने लगे
धीरे धीरे मेरे ब्लाउस पर उन्होंने हाथ रख दिया और दबाने लगे। कुछ देर बाद मैं चली आई। रात को पतिदेव को बताया की पापा जी मुझे गंदी नजरो से देखते है। मुझे चोदना चाहते है। तो पति बोले की इसमें गलत क्या है। 2 -2 लंड एक साथ खाओगी तो जन्नत का मजा लूटोगी। पतिदेव बोले। मैं हैरान थी की कैसी फेमिली है। बाप और बेटा दोनों मेरी चुद्दी में लंड देना चाहते है। कई दिन मैं परेशान रही। फिर एक रात ससुर जी ने बुलाया। मेरे पति रोहन भी वही बैठे थे।  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

“बहू!! क्या सोचा तुमने??? मुझे अपनी सेवा करने का मौका दोगी की नही???” ससुर जी बोले
मैं संकोच करने लगी। फिर वो फ्रिज से व्हिस्की और वोदका की बोतल ले आये। हम तीनो पीने लगे। आधे घंटे में मुझे चढ़ गयी। मैं अब नशे में टुन्न हो गयी थी। ससुर जी और पति रोहन मुझे बेड पर ले गये और मेरे अगल बगल लेट गये। दोनों मेरी एक एक चूची में लेकर दबाने लगे। मुझे भी मजा आने लगा। मैं होश में नही थी इसलिए मुझे सब अच्छा लग रहा था। मैंने भी अपने ब्लाउस की बटन खोल दी।
“तुम बाप बेटे आज मेरे दूध पीलो। मेरी चूत भी चाट लो। दोनो मर्द आज अपनी प्यास मुझसे बुझा लो। आज एक साथ चोद डालो मुझे” मैंने भी ससुर जी से शराब के नशे में झूमते हुए कहा।
ये बात सुनते की ससुर जी और रोहन पागल हो गये। मेरा ब्लाउस उन्होंने उतार दिया। मेरी साड़ी भी उतार दी। अब मैं लाल रंग की ब्रा और पेंटी में आ गयी थी। बहुत मस्त माल दिख रही थी। मेरे दूधिया जिस्म पर लाल रंग की ब्रा और पेंटी बड़ी सुंदर दिख रही थी। ससुर जी मेरे बाए तरह आकर चिपक गये और गाल पर चुम्मा देने लगे। रोहन मेरे दाये तरफ आ गये और मेरे दूध दबाने लगे। दोनों मर्द मेरी जवानी देखकर पागल हो गये। दोनों मुझे बार बार किस कर रहे थे। रोहन तो मुझे हर रात चोद लेते थे पर ससुर जी का आज पहली बार था। उन्होंने 10 मिनट तक मेरे दूध ब्रा के उपर से ही दबा दबाकर मजा लिया। फिर अपने कपड़े उतार दिए। मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे नंगे दूध हाथ से मसलने लगे।
“रोहन बेटा!! तेरी बीबी तो मस्त आइटम है। कितनी सेक्सी माल है ये” ससुर जी बोले
“अरे पापा!! इसकी चूत तो मलाई की तरह है। बिलकुल मक्खन की तरह। एक बार आप अंजू की चूत मरोगे तो मजा आ जाएगा” रोहन बोला
फिर ससुर ने जल्दी जल्दी मेरे दूध को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। मैं शराब के नशे में थी। मुझे हल्का हल्का होश था। फिर रोहन भी नंगे हो गये। मेरे पैर के अंगूठे और ऊँगली को मुंह में लेकर चूसने लगे। मैं इस वक्त पूरी तरह से सजी धजी थी। हाथो में लाल रंग की चूड़ियाँ पहनी थी। पावों में पायल थी। ओंठो पर मैंने डार्क लाल रंग की लिपस्टिक लगाई थी और काले रंग का लिप लाइनर लगाया था। चेहरे पर मैंने फेसिअल किया था जिससे मेरा रंग ऐश्वर्या की तरह चमक रहा था। ससुर जी आँख बंदकर मेरी चूची जल्दी जल्दी चूस रहे थे। मेरे दूध बड़े मुलायम, और सफ़ेद थे। धीरे धीरे ससुर का लौड़ा खड़ा हो गया था। उनका लंड तो 8” लम्बा और 3” मोटा था। धीरे धीरे जब मैंने ससुर जी का लौड़ा खड़ा होता देखा तो डर ही गयी।  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

“पापा जी!! आपका लौड़ा तो गधे की तरह मोटा है। कैसे मेरी चूत में ये जाएगा???” मैंने शराब के नशे में बोला
“बेटी!! आज ये तेरी भोसड़ी में जरुर जाएगा” ससुर जी मुंह उठाकर बोले और फिर सिर झुका लिया और दूसरी छाती को मुंह में लेकर चूसने लगे। मैं “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” करने लगी। आज लाइफ में पहली बार 2 -2 मर्द मेरे सेक्सी जिस्म के साथ खेल रहे थे। पति मेरी पेंटी के उपर से मेरी चूत को चाट रहे थे। ससुर जी जल्दी जल्दी दोनों छातियाँ चूस रहे थे। मेरे पेट को हाथो से छू रहे थे और किस भी कर रहे थे। दोनों आधे घंटे तक मेरे जिस्म से खेलते रहे। रोहन ने मेरी पेंटी हाथ से खींचकर उतार दी।
“पापा!! इस रंडी को आप पहले चोद लो। मैं तो इसकी चुद्दी रोज फाड़ता हूँ” रोहन बोला
“जुग जुग जीतो बेटा!! तुम्हारे जैसा बेटा हर बाप को मिले” ससुर जी रोहन से बोले
उसने मुझे रंडी बोला। मैं शराब के नशे में हँसने लगी। आज उसने मुझे रंडी बोला। रोहन किनारे हो गया। ससुर जी मेरी चूत पर आ गये। मैं खुद ही अपने पैर खोल दिए। वो जल्दी जल्दी मेरा भोसड़ा पीने लगे। मैं “ओहह्ह्ह…ओह्ह्ह्ह…अह्हह्हह…अई..अई. .अई… उ उ उ उ उ…”करने लगी। मैं आज सुबह ही अपने झांट बना ली थी। इसलिए मेरी चूत पूरी तरह से चिकनी थी और बहुत सुंदर दिख रही थी। ससुर जी जल्दी जल्दी मेरी चूत चाटने लगे। सब रस वो पी जाते थे। मैं तो तडप रही थी। जल्दी जल्दी मुंह खोलकर आवाज निकाल रही थी। ससुर मेरे चूत के होठो को दांत से काट काटकर चूस रहे थे। दोस्तों, मेरी तो जान ही निकल रही थी। उन्होंने 15 मिनट मेरी चूत का रसपान किया। फिर चूत में ऊँगली डाल दी और जल्दी जल्दी अंदर बाहर करने लगे।
मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था। रोहन भी इसी तरह चूत में ऊँगली करता था। ससुर ने 10 मिनट तक चूत में 2 -2 ऊँगली एक साथ अंदर बाहर की। जो माल निकलता उसे ऊँगली में भरकर चाट जाते। खूब मजा ले लिया।  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
“पापा!! अब चोदिये इस रंडी को। आपकी अपनी बहू है। इसे चोदने का पूरा हक है आपको” रोहन बोला
उसने फिर मुझे रंडी कहा। ससुर जी कुछ देर तक चूत की चटनी पीते रहे। फिर अपने 8” लंड को हाथ से पकड़कर चूत में डाल दिया और जल्दी जल्दी चोदने लगे।मैं “आआआअह्हह्हह…..ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” चिल्लाने लगी। ससुर का लंड तो बहुत ही मोटा था। अंदर पेट में घुसा जा रहा था। जल्दी जल्दी वो मेरा काम लगाने लगे। मैंने अपने पैर उपर उठा दिए। ससुर जी मेरे खूबसूरत जिस्म का मजा लूट रहे थे। चूत में लंड खा रही थी। कितना मजा आ रहा था। मेरे पति के लौड़े से लम्बा लौड़ा था उनका। वो जल्दी जल्दी मेरा गेम बजाने लगे। मैं चुद रही थी और अपनी कमर उठा रही थी। बहुत नशा मिल रहा था मुझे। ससुर ही सटा सट पेल रहे थे। बहुत आनंद आ रहा था। पति से भी अधिक जोरदार धक्के दे रहे थे। मेरी चूत को फाड़ फाडकर उसका हलवा बना रहे थे।

मैं तो कामोत्जेतना में आकर बिस्तर से उपर ही उछली जा रही थी। ससुर ने मेरे हाथो की उँगलियों में अपने हाथो की उँगलियाँ फंसा दी थी। इससे उनको अच्छी पकड़ मेरे जिस्म पर मिल रही थी। घपा घप बुर का सत्यानाश कर रहे थे। कुछ देर बाद वो झड़ गये। गर्म गर्म माल मेरी भोसड़ी में छोड़ दिया। फिर पति ने मुझे चोदा और झड़ गये।
“आओ बहू!! हम दोनों के लंड चूसो आकर” ससुर जी बोले
दोनों अगल बगल लेट गये। मैं भी मस्त हो गयी है। एक एक बार दोनों मर्दों से चुद चुकी थी। अब मैंने ससुर का लंड हाथ में ले लिया और जल्दी जल्दी फेटने लगी। दूसरे हाथ से रोहन का भी फेटने लगी। दोनों के लौड़े एक साथ फेट रही थी। फिर मुंह में लेकर चूसने लगी। 2 मिनट ससुर का ताकतवर लंड चूसती, फिर 2 मिनट अपने पति रोहन का। इस तरह से खूब मौज मस्ती हुई। मैं दोनों की गोलियों को मुंह में लेकर किसी कम्पट की तरह चूसा। खूब मजा आ गया। आधे घंटे बाद दोनों के लंड फिर से खड़े हो गये।  इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम
“बेटी!! आज तुम्हारी चूत और गांड में एक साथ 2 -2 लौड़े जाएंगे। दर्द होगा पर बाद में जन्नत का मजा पाओगी” ससुर जी बोले
वो बेड के सिरहाने से पीठ लगाकर बीत गये। मुझे उल्टा घुमा दिया। मेरी पीठ उनकी तरह थी। अपने लंड पर तेल लगा दिया और धीरे धीरे मेरी गांड में लंड डाल दिया। फिर अपनी तरह अपने सीने पर लिटा लिया। मुझे किस करने लगे। फिर पति रोहन भी आ गये। मेरी चूत में लंड डाल दिया। इस तरह से मेरे दोनों छेद में 1- 1 लंड घुसा था। धीरे धीरे ससुर मेरी गांड चोदने लगे और पति मेरी चूत। इस तरह से मैं आज एक ही समय में दो दो लंड से चुद रही थी। “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” इस तरह से मुंह खोलकर मैं खूब चिल्लाई। दोनों ने मुझे आधे घंटे पेला। फिर अपने अपने छेद में माल गिरा दिया। मैं दुनिया की सबसे संतुस्ट औरत थी। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर जरुर दे।

DMCA.com Protection Status

कहानी शेयर करें :