चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

मेरी शादीशुदा बहन दरवाजे से मुझे उसके नाम की मुठ मारते देख रही थी

loading...

हेलो मेरे प्यारे दोस्तों आज मैं अंकित आपको अपनी फर्स्ट कहानी के बारे में बताने जा रहा हूं. इस स्टोरी में मैं बताऊंगा कि के कैसे मेने मेरी सगी बहन को जो की मैरिड है और दो छोटे बच्चों की मां है उसको उसकी मर्जी से मस्ती के साथ चोदा. अब कहानी पर आता हूं, पहले में अपनी और अपनी फैमिली के बारे में कुछ बता दूंगा. मेरा नाम अंकित है और २० साल का हूं मैं अभी ग्रेजुएशन कर रहा हूं. मेरे लंड  का साइज ८ इंच है और मैं बिल्कुल भी झूठ नहीं बोल रहा. मेरे पापा की उम्र ६५ साल है और मां की उम्र ६० साल है. मेरी दो बड़ी बहनें हैं, मैं घर में सबसे छोटा हूं इसलिए मुझे सब का बहुत प्यार मिलता है. मेरी बहन की उम्र ४० साल है और दूसरी की ३४ हे. मेरे सेक्स संबंध दूसरी बहन के साथ बने थे उसका नाम शिवानी है.

उसका पति प्रायवेट कम्पनी में जॉब करता है और बहुत अच्छी पोस्ट पर हे. दोस्तों जब मैं 18 साल का था तब शिवानी की शादी हुई थी, मेरी उससे बहुत बनती थी और वह मुझे बहुत प्यार करती थी. उसकी शादी के बाद मुझे बहुत दुख हुआ और मैं बहुत रोया. लेकिन जैसे जैसे मैं बड़ा होता गया मेरा प्यार मेरी बहन के लिए सेक्स फिलिंग में बदल गया और मैं उसे सेक्सी लेडी के रूप में देखने लगा. शिवानी के बारे में बताना चाहूंगा उसकी उम्र ३४ साल है उसकी हाइट ५ फुट ३ इंच है और बहुत ही मस्त और सेक्सी बॉडी है. उसके बूब ३८ कमर ३४ के हे. कुल मिलाकर देखा जाए तो वह बहुत ही सेक्सी लेडी है और किसी का भी लंड बड़ा कर सकती है. एक साल पहले हमें पता चला कि मेरे जीजा का किसी दूसरी लड़की के साथ चक्कर है और सेक्सुअल रिलेशन भी हे. घर में बहुत टेंशन होने लगी और बहन भी बहुत दुखी रहने लगी, उसके दो बच्चे हैं एक लड़का ६ साल का और एक लड़की ४ साल कि. मैं हमेशा से उसकी बेटी को बहुत प्यार करता हूं. तो जब हमें पता चला जीजा के रिलेशन का तो हमने उसके परिवार से बात की लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला.

अब तक वो सहन कर रही है वह मेरी बहन को हाथ भी नहीं लगाता, यह मेरी बहन ने मुझे बाद में बताया. मैं अपनी बहन को पीछे डेढ़ साल से चोदने का बहाना खोजने की कोशिश में लगा हुआ था. जब भी मेरी बहन हमारे घर रहने आती थी तो मैं चुप कर उसके बूब्स देखा करता था और उसकी पेंटी हाथ में लेकर मुठ मारता था, मुझे बहुत बार मेरी बहन ने मुझे उसके बूब्स को घूरते हुए देखा था. लेकिनउसने मुझे कभी कुछ नहीं बोला, इस से मैं एक पॉजिटिव सिग्नल समझने लगा. ६ महीने पहले मेरे फादर की तबीयत खराब हो गई और वह मोहाली के फोर्टिस हॉस्पिटल में एडमिट हुए थे. हमको भी उनके साथ रहना पड़ा और मैं भी साथ में हॉस्पिटल गया. घर पर शिवानी अपने बच्चों के साथ रहने आ गई घर संभालने के लिए. इन दिनों में भी ग्रेजुएशन के एग्जाम चल रहे थे तीसरे सेमेस्टर के, दिसंबर में तो में हॉस्पिटल से वापस घर आ गया डैड को एडमिट करवा कर.

loading...

जब घर गया तो कुछ देर बाद मेरी बहन नहाकर बाथरुम से बाहर आई और मेरे रूम में आई. दोस्तों उस टाइम मैं उसे देखता ही रह गया. उसने लोवर और एक पतली सी टी शर्ट पहनी हुई थी और ब्रा नहीं पहनी थी. उसकी टीशर्ट उसके बूब से चिपक गई थी पानी की वजह से. मेरा लंड खड़ा हो गया बहुत मुश्किल से मैंने उसे छुपाया तब वह कुछ सामान लेकर मेरे रुम से चली गई. रात को खाना खाकर हम लोग सोने की तैयारी करने लगे. हमारे घर में तीन बेडरूम मेंरा एक, एक पैरेंटस का और एक गेस्ट रूम. में अपने रूम में आ गया और बहन पैरेंट के रूम में सोने चली गई अपने बच्चों के साथ. उस रात मुझे बिल्कुल नींद नहीं आई और मैंने अपनी बहन के नाम की तीन बार मुठ मारी, अगली सुबह मेरी छुट्टी थी तो मैं लेट उठा और ब्रेकफास्ट कर के नहाया. फिर अपनी छोटी भांजी के साथ खेलने लगा, मेरी बहन की मेरे से बातें कर रही थी. उसने सलवार कमीज पहना था वह बार-बार हंस रही थी तो मेरे पूछने पर कि तुम बार-बार हंस क्यों रही हो

loading...

तो वह बोली कि कुछ नहीं वैसे ही. फिर लंच टाइम हुआ तो लंच करके मैं अपने रूम में आ गया और लेट गया. मेरा लंड फिर से मचलने लगा और मैं मेरी बहन के नाम की मुठ मारने लगा. उस वक्त मेरी बहन दूसरे रूम में अपने बच्चों को सुला रही थी. मुझे इस बात का ध्यान नहीं रहा कि मैं मस्ती से धीरे धीरे उसका नाम लेते हुए मुठ मारने लगा. जैसे ही मेरा पानी निकलने वाला था मैंने आँखे बंद कर ली और उसका नाम लेकर जोर जोर से मुठ मारने लगा. जब मेरा पानी निकला तो मैंने रिलैक्स होकर आंखें खोली तो देखा कि मेरी बहन दरवाजे के पास खड़ी सब कुछ देख रही थी. तब मुझे याद आया कि मैं दरवाजा लॉक करना भूल गया था. मेरी बहन मेरे पास आई और उसकी नजरे मेरे आधे खड़े हुए लंड पर थी. फिर उस टाइम मेरा लंड ८  इंच का था. वह बोली कि तुम मेरे नाम की मुठ मारते हो. मैं बोला सॉरी दीदी अब नहीं करूंगा कभी भी. मैं बहुत डर गया था.

वो हंसने लगी और बोली तो क्या हुआ? तू जवान हो गया है और फीलिंग सब में होती है और मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी और बोली तेरा तो तेरे जीजा से बहुत बड़ा है. उसकी बातों और हाथ की मोमेंट से मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा और मुझे अच्छा लगने लगा. वह और तेजी से लंड हिलाने लगी मैं धीरे-धीरे उसके गालों पर किस करने लगा और अपने हाथ से उसके मोटे मोटे बूब दबाने लगा. उससे उसे भी मस्ती आने लगी और वह मुझे लिप पर किस करने स्टार्ट हो गई. मैं भी उसकी किस का रिस्पांस देने लगा और दोनों हाथों से उसके बूब्स दबाने लगा. वैसे ही हम १० मिनट तक करते रहे. फिर मैं बेड से उठा और अपने सारे कपड़े उतार दिए, और अपनी बहन की कमीज उतारने लगा उसने कुछ मना नहीं किया और कमीज उतार ने में हेल्प करने लगी. मैं उसे किस करने लगा और बेड पर लेटा दिया और उसके ऊपर लेट कर किस करने लगा वह भी मेरा लंड मसल रही थी.

फिर मैंने एक झटके में उसकी ब्रा उतार दिया और उसके बड़े बड़े बूब एक हाथ से दबाने लगा और दूसरे को मुंह में लेकर चूसने लगा. उसके निप्पल लाइट ब्राउन कलर के थे हो और बिल्कुल हार्ड हो चुके थे. वो एक हाथ मेरे बालों में घुमा रही थी और जोर जोर से अपने बूब्स पर दबा रही थी. और जोर जोर से उसके बूब सक करने लगा. वो बोली आराम से करो दर्द होता है तो मैंने धीरे धीरे चूसना शुरू कर दिया. वह बोली अब मेरे से बर्दाश्त नहीं होता जल्दी से मुझे चोद दे, बहुत मन कर रहा है एक साल से तेरे जीजा ने हाथ भी नहीं लगाया. यह सुनकर में खड़ा हुआ और उसकी सलवार उतरने लगा लेकिन उस ने पेंटी नहीं पहनी थी और चूत बिल्कुल क्लीन शेव और गीली हुई पड़ी थी. वह बोली कि आज ही शेव की है स्पेशल तुम्हारे लिए यह सुनकर मैं बहुत खुश हुआ और उसे किस करने लगा.

मैं धीरे-धीरे उसकी चूत पर पहुंचा और उसे सुघने लगा, आज मुझे मेरा अमृत मिल गया था जिस को पीने के लिए एक साल से मचल रहा था. उसे सुघने लगा उसकी चूत के पानी की बहुत अच्छी स्मेल आ रही थी.  मुझे मैं अपनी जीभ से उसको चाटने लगा और पानी का स्वाद मेरे मुंह में आने लगा नमकीन सा टेस्ट था उसका.. बहुत ही मदहोश करने वाला. मैं पूरा मुंह लगाकर उसकी चूत चाटने लगा. वह आह्ह औऊ अहह अऊ अह्ह्ह ओह्ह हां उऔ ई अह्ह्ह अह औउ बोल रही थी और हाथ से मेरे सर को दबा रही थी. बोली आज तक उसके पति ने ऐसा नहीं किया मैं पूरी जीभ उसकी चूत में डाल रहा था, १० मिनट तक चूत चाटने पर उसका पानी निकलने लगा और वह मेरा सारा का सारा पि गया. अब में उसके ऊपर आ गया और बूब्स चूसने लगा.

उसके बूब्स चूसने पर वह फिर से गर्म होने लगी, में बोला दीदी मैं एक बार मेरा लंड मुंह में ले लो, तो दीदी बोली इतना प्यारा लंड है तुम्हारा इसे तो हर जगह लूंगी मैं. और मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. यह मेरा किसी लड़की के साथ पहला संबंध था  इसलिए उसके चूसने से मुझे बहुत मजा आने लगा. पूरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. कभी कभी लंड के अगले हिस्से पर जीभ फेरती तो कभी बॉल को मुंह में लेकर चूसती थी. अब मेरे से भी कंट्रोल नहीं हो रहा था इसलिए मैंने जल्दी से अपना लंड उसके मुंह से निकाला.

और उसे बैड पर लिटा दिया और उसकी टांगे फैलाकर अपना लंड उसके छेड़ पर रखकर धीरे धीरे अंदर डालने लगा चूत में काफी दिन से नहीं गया था इसलिए थोड़ी टाइट लग रही थी, पर मैं धक्के लगाता रहा और पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया  वह दर्द से आःह उऔउ ई हहह हहह ईई  करने लगी. अब मेने धक्के रोक कर उसके  बूब्स चूसना स्टार्ट किया, जिससे उसे भी अच्छा लगा. मेरा लंड अभी भी उसकी चूत में ही था अब वह गर्म होने लगी और अपनी गांड उठा उठा कर हिलाने लगी. में समझ गया कि अब यह रेडी है, तो मैं अब धक्के लगाने लगा और उसे चोदना शुरू कर दिया. मेरा लंड  उसकी चूत की गर्मी को फील कर रहा था. मैं ऐसे ही उसे चोदता रहा और बीच बीच में उसके बूब्स चूसता, तो कभी उसे किस करता. वह भी मजे से चुदवा रही थी. वह मुझे बोल रही थी चोद मुझे जोर जोर से चोद. वह बोली आज मेरा भाई बहन चोद बन गया.

उसकी बातें सुनकर बहुत एक्साइटेड हो रहा था और उसे जोर से चोदने लगा. अब उसका पानी निकलने वाला था इसका मुझे पता चल गया क्योंकि उसकी चूत टाइट हो रही थी और वह मुझे कस के पकड़े हुए थी. अब वह जोर जोर से गांड में हिलाने लगी है और आह्ह अय्य्य ईई उऔउ अह्ह्ह ईई ये यस्स्स्य सस यस हहह सिस ये यू उ करते हुए झड़ गई. मेरा लंड उसके पानी से गीला हो गया और आराम से अंदर बाहर होने लगा. उसके पानी की फीलिंग से मेरा भी पानी निकलने वाला था मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा और

मैं बोला मेरा निकलने वाला है कहां निकालूं? तो वह बोली मैं तुम्हारा पानी पीना चाहती हूं तो मैंने अपना अपना लंड निकाल कर उसके मुंह में डाल दिया और हिलाने लगा वह लंड चूसने लगी, थोड़ी देर में मेरा पानी निकल गया और वह सारा पी गई. अब मैं भी थोड़ा थक चुका था तो उसे किस करते हुए उसके ऊपर लेट गया और दूध दबाने लगा. वो बोली कि आज पहली बार असली सेटिस्फेक्शन मिला है शादी के ६ साल बाद और मुझे कस के गले लगा दिया और किस करने लगी. कुछ टाइम बाद हम फिर तैयार थे अगले राउंड के लिए. इस बार मैंने उसकी एक टांग अपने कंधे पर रखकर उसे चोदा और अपना पानी उसकी चूत में निकाला, फिर रात को भी हमने बहुत अलग अलग पोजीशन में सेक्स किया और साथ में बाथ लीया. जब तक हमारे पेरेंट्स नहीं आए वापस तब तक हम ने पति पत्नी की तरफ दिन बिताये और साथ मैंने एग्जाम भी दिए. अब हमें जब भी चांस मिलता है हम सेक्स करते हैं कभी उसके घर कभी हमारे घर.

कहानी शेयर करें :
loading...