चेतावनी : इस वेब साइट पर सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है। कहानियां सिर्फ आप के मनोरंजन के लिए है, कहानियां काल्पनिक हो सकती है। कहानियां पढ़ कर इसे वास्तविक जीवन में आजमाने की कोशिस ना करें। सेक्स हमेशा आपसी सहमति से करें।

ट्रेन में मिली औरत को टॉयलेट में खड़े खड़े चोदा

दोस्तों मेरा नाम राकेश है और मेरी उम्र २७ साल है. में इलेक्ट्रिक कंपनी में बाड़मेर में काम करता हूं. मेरी हाइट ५ फुट ७ इंच है और मैं अच्छा दिखता हूं. मैं आपको अपनी कहानी सुनाने जा रहा हूं जो मेरे साथ पिछले गर्मियों के दिनों में हुई थी. लेडीज मुझे देखते ही मेरी तरफ आकर्षित हो जाती थी. एक बार में हावड़ा से जम्मू जा रहा था मैं जम्मू तवी एक्सप्रेस एसी कोच में बैठा था, मेरा बर्थ निचे वाला था. उस कंपार्टमेंट में चार लोग और थे, एक बूढा आदमी था एक लड़का था २४ साल का और वह उसकी मां के साथ था, और एक लड़की जैसी लेडी थी जो ऊपर की बर्थ पर जाकर सो रही थी. हम लोग आपस में बात करते हुए आ रहे थे. शाम के टाइम वह लेडी भी उतरी. वह २६-२७ साल की लग रही थी. बात करते करते पता चला वह ४५ साल की है, मैंने उसे कहा कि वह २६ साल की ही दिखती है. तब उसने अपना कार्ड दिखाया तो मुझे यकीन हुआ. उसके बाद हमने खाना खाया और सोने के लिए चले गए. तब १० बज रहे थे. मैं तकरीबन रात के १:३० बजे उठा और टॉयलेट में गया. मैंने देखा कि वहां पर वह लेडी खड़ी थी, मैंने कुछ नहीं कहा और टॉयलेट में चला गया, बहार आने के बाद मैंने उसे पूछा की क्या हुआ? उसने कहा कि उसको ट्रेन में अच्छे से नींद नहीं आती इसलिए वहां पर खड़ी है. मैंने उसे कहा आप मेरे बर्थ पर बैठ सकती हो, तो वह आई और मेरी बर्थ पर बैठ गई, फिर हम थोड़ी देर बातें करते रहे. फिर उसने कहा कि वह इस तरह से ज्यादा देर तक नहीं बैठ सकती उसे स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम है और उसे बेल्ट पहनना पड़ता है.

फिर यह सब सुन कर मैं खड़ा हुआ और उसे पूछा कि क्या प्रॉब्लम है? तो उसने कहा कि यह पीठ में दर्द है. मैंने कहा किस तरफ है तो उसने कहा नीचे की तरफ. फिर मैंने उसकी पीठ पर टच किया और मैंने कहा कि मुझे लगता है स्लिप डिस्क नेक की तरफ से है. तो उसने कहा नहीं, वह नीचे की तरफ है. मैंने उसकी कमर पर टच किया तो वह बोली हां यहीं पर हे. फिर मैं हाथ वही रखा और उसे पूछता रहा तब उसने बताया कि स्लिप डिस्क के बाद उसने एक जिम जॉइन किया था जिससे उसे बहुत फायदा हुआ. तब मैंने उसे कहां तभी आप स्लिम हो. वह बोली नहीं अब तो थोड़ी मोटी हो गई हु. इस पर मैं अपना हाथ आगे लाया और उसके पेट पर लगाया कि नहीं तो फेट तो नहीं है. वह बोली की है. मैंने फिर उसके पेट पर हाथ लगाया और कहा कि यह मोटापा नहीं है. तभी वो बोली आप सो जाइए मैं बाहर जाकर खड़ी रहती हूं. मैंने कहा कि अब मुझे भी नींद नहीं आ रही है, में भी आता हु. हम दोनों बाहर खड़े होकर बात करते रहे मैंने उससे पूछा कि मुझे तो ऐसा लग रहा था कि स्लिप डिस्क नेक के नीचे होता है. वह फिर बोली की नीचे होती है. फिर मैंने ऊपर नेक के पास हाथ लगाया और बोला कि मैं यहां सोचता था, तो वह बोली कि नीचे होती है.

मैं नीचे हाथ ले गया और फिर से उसकी कमर पर रख दिया और पूछा यहां ना? वह बोली हां यहीं, फिर मैं उसकी कमर पर हाथ फेरता रहा. हम लोग बात करते रहे तब मैंने पूछा कि आपको स्लिप डिस्क कैसे हो गया? यह तो भारी आइटम उठाने से होता है? वह बोली नहीं जो लगातार एक पोज़ में बैठते हैं उनको भी होता है. मैंने कहा कि आप तो हाउसवाइफ हो तो आपको कैसे हुआ? वह बताने लगी कि मैं रात में काफी देर तक टीवी देखती रहती थी इसलिए.. मैंने पूछा आपके पति मना नहीं करते थे?  वह बोली उनके पास टाइम ही कहां है? मैंने पूछा कि रात में तो मिलते ही होंगे. वह बोली की नहीं रात में भी अपने काम में लगे रहते हैं और मैं टीवी  देखती रहती हूं.  मैंने उसे बताया की में तो रात में किसी भी हालत में वाइफ को नहीं छोड़ता हूं. और अगर उसने कभी बोल दिया नींद नहीं आ रही है तो उसे आधे घंटे में ही इतना थका देता हूं कि वह तुरंत सो जाती है, उसने पूछा कि ऐसा क्या करते हो? मैंने कहा जो पति पत्नी करते हैं. वह बोली की उसमे तो इतना नहीं थकते. मैंने कहा कि ऐसी पोजीशन में करता हूं कि कोई भी थक जाए. में उसकी कमर के साथ खेल रहा था तभी मुझे कुछ टाइट सा लगा, मैंने पूछा यह क्या है? वह बोली यह बेल्ट स्लिप डिस्क के बाद लगानी पड़ती है, मैंने उसे बोला कि मेरे एक फ्रेंड को भी यही प्रॉब्लम है यह केसी बिल्ट है मैं उसे भी एडवाइस कर दूंगा, वह बोली की किसी भी मेडिकल शॉप में मिल जाती है, मैंने कहा कि दिखाईए तो सही, तभी एक १०-११ साल का लड़का टॉयलेट के लिए आया और टॉयलेट करके चला गया, मैंने उसे कहा कि हम लोग यहां बात कर रहे हैं कोई और आएगा तो समझेगा कि कुछ लफड़ा है. अंदर जाएंगे तो बात नहीं कर पाएंगे.

एक काम करते हैं टॉयलेट में अंदर चलते हैं, वेस्टर्न टॉयलेट है कोई प्रॉब्लम भी नहीं होगी. वह पहले तो मना किया लेकिन फिर रेडी हो गई. वह अंदर गई और शीशे के सामने खड़ी हो गई फिर मैं भी अंदर गया और उसके पीछे हो गया. वो शीशे में देखते हुए बोली कि देखो मेरी हाइट आपसे कीतनी कम है? मेरी उम्र कम लगती है, मैंने उसे पीछे से देखते हुए बोला कि इतनी कम नहीं है सही है. फिर मेने उसकी कमर पर हाथ रख दिया और कहा की बेल्ट दिखा दो. उसने कहा की में इसे अकेले पहन नहीं पाती इसीलिए खोल नहीं पाउंगी इसीलिए नहीं दिखा रही. मेने कहा की मुझे तो देखना हे. उसने कहा की हाथ लगा कर देख लो. मेने हाथ लगाया और देखा की बेल्ट कमर से निचे तक हे. में हाथ लगा कर देखता रहा और धीरे धीरे हाथ उसके गांड पर लाया, और कपडे के ऊपर से ही बेल्ट की साइड लाइन पर आगे पीछे हाथ फेरता रहा, फिर मेने बोला की ये ओ समज नहीं आ रही. इसका कपड़ा कैसा हे? तब उसने एक साइड से कुरता हटाया और बेल्ट की साइड दिखाई और बोली की इधर से देख लो. मेने बेल्ट पकडी और देखता रहा, अब मेरा हाथ उसके कुरते के निचे था और में बेल्ट देख रहा था, फिर मेने उसकी लेगिंग में हाथ डाल कर बेल्ट के ऊपर ही फेरता रहा, मेने उसे बोला इतनी बेल्ट दिखाई हे तो थोड़ो और देख लेने दो. वो बोली नहीं इतनी ही बहुत हे. में उसकी लेगिंग में हाथ डाल कर उसकी गांड, कमर और बेल्ट पर हाथ फेर रहा था, मेने उसे बोला प्लीज़ और थोड़ी सी निचे खिसका दो, तो वो बोली की ऐसे ही हाथ से देख लो. मेने उसे फिर प्लीज़ बोला और लेगिंग बटक से निचे कर दी और कुरता उठा दिया.

उसने कुरता निचे कर के लेगिंग फिर ऊँची कर ली. फिर मेने ध्यान दिया की उसकी बेल्ट उसकी पेंटी और उसकी लेगिग के निचे हे. इस बार मेने लेगिंग और पेंटी दोनों उसकी बटक के निचे कर दी, उसके बटक बेल्ट से ढकी थी, और मेने निचे साइड से बेल्ट  पकड़ ली, अब उसकी पेंटी और लेगिंग मेरे हाथ में फस गयी, वो लेगी और पेंटी ऊपर करना चाह रही थी, उसने मुझे कहा की हाथ हटाओ और कपडे ऊपर करने दो. तो मेने हाथ हटाया और उसके कपडे ऊपर कर लिए. मेने उसे बोला की में टॉयलेट कर के आता हु, वो हस पड़ी और बोली की टॉयलेट के अन्दर तो खड़े हो और बोल रहे हो की टॉयलेट कर के आता हु. मेने कहा की यहाँ आप हो ना, तो उसने कहा की मेरा फेस दूसरी तरफ हे और आप उधर फेस कर के कर लो. में घूम गया और टॉयलेट की जो बहुत मुश्किल से आई. फिर मेने कंडोम लिया और अपने लंड पर चढ़ा लिया.  और लंड को पेंट के अन्दर कर लिया. फिर मेने उसके साथ इधर उधर की बात की और फिर हाथ उसकी बेल्ट तक ले गया. वो बोली कितनी बेल्ट देखोगे? मेने कहा जब तक सही से समज न आ जाये. मेने फिर से उसकी पेंटी और लेगी घुटनों तक कर दिए और बेल्ट निचे वाला किनारा पकड कर देखता रहा, जैसे की नाप ले रहा हु. उसने फ़ौरन लेगी और पेंटी को ऊपर खीच लिया पर वो मेरे हाथ में अटक गए. वो कपडे ऊपर करने की कोशिश करती रही, मेने दो तिन मिनिट सहलाने के बाद हाथ हटाया. तब उसने अपने कपडे ऊपर कर लिए. थोड़ी देर उपर हाथ फेरने के बाद मेने फिर से हाथ अन्दर डाल दिया और बेल्ट के कोने पर सहलाता रहा, उसने कहा की क्या पूरी बेल्ट घिस दोगे? मेने कहा की नहीं पूरी बेल्ट सही तरीके से देखने के बाद ही ठीक से खरीद पाऊंगा. फिर मेने एक हाथ से लंड निकाला और फिर दोनों हाथो से पकड कर उसकी पेंटी और लेगिंग एक ही ज़टके में उसके घुटनों से निचे कर दी.

वो चोंक गयी और यह क्या कर के निचे को जुक गयी, में एक हाथ से उसकी कमर पकड ली और दुसरे हाथ से लंड को उसकी चूत पर लगाया और धक्का दिया. और आधा लंड उसकी चूत में चला गया, वो एकदम करह उठी और बोली ये क्या किया बहार निकालो, मेने हाथ आगे कर के उसके बूब्स पकड़ लिए और लंड आगे बढ़ने लगा तो वो बोली जरा धीरे करो, बहुत दर्द हो रहा हे, मेने कहा आप तो मुझसे १० साल बड़ी हो फिर भी क्यों दर्द हो रहा हे. वो बोली की पिछले ६ महीनो से उंगली भी अंदर नहीं गयी तो दर्द तो होगा ही ना. मेने फिर एक जोर का ज़टका दिया और आधा लंड चूत में चला गया, वो एकदम तडप उठी और कहा की बहार निकालो. में उसके बूब्स पकड लिया और आगे बढ़ने लगा और बाकि लंड एक ज़टके में अन्दर डाल दिया, वो बहुत जोर से हहह औ ऐ इऔऊ माआआअ चिल्ला उठी और में वही रुक गया. और उसके बूब्स को सहलाता रहा, फिर धीरे धीरे में उसका कुरता पूरा ऊपर कर दिया और ब्रा से बूब्स बहार निकाल दिए. और उन्हें दबाता रहा, वो बोली जल्दी कर लो ये ट्रेन हे, मेने ज़टके देते हुए कहा की तो अब ट्रेन ही चला देता हु और मेने अपनी स्पीड बढ़ा दी. वो अहः औऊ अहह अक्क्क करती रही और में उसे तसल्ली से १० मिनिट तक फुल स्पीड में चोदा और फिर वो जड़ गयी और साथ में में भी जड़ गया. वो गभरा गयी की अन्दर निकाल दिया अब कुछ हो गया तो? मेने कहा की मेने कंडोम लगा लिया था. तब वो बोली की बच गए, और मुझे पूछा की कंडोम ले कर चलते हो? मेने कहा की यह घर पर यूज होना था पर रस्ते पर आप मिल गए तो एक यही पर यूज हो गया, उसने शरमाते हुए मुह जुका लिया. फिर हमने कपडे पहन लिए. फिर हम लोग बात करते रहे, मेने उसे पूछा की आपके पति आप को करते नहीं? उसने कहा की आज कल ६-७ महीने में एक बार हो जाये तो हो जाये, वह भी मुझे पहल करनी पड़ती हे. मेने कहा की मेरी बीवी अगर आपके जैसी छोटी सी होती तो उसे लंड पे बैठाके ही रखता. वो मुस्कुराने लगी, फिर उसने मुझे पूछा की में अपनी बीवी को कैसे थका देता हु.

तो मेने बताया की में बीवी की टांगे कंधे पर रख लेता हु और एकदम फुल स्पीड में चोद देता हु तो १५-२० मिनिट में वो २-३ बार जड़ भी जाती हे और थक भी जाती हे, वो बोली मेरे साथ तो मेरे पति ने कभी ऐसा नहीं किया हे. मेने कहा की अब कर लेते हे, मेने टाइम देखा तो २:४५ हो रहे थे. मेने उसे स्मूच करना स्टार्ट कर दिया और ५-६ मिनीट के बाद वह गरम होने लगी, मेने उसे निचे बैठाया और अपना लंड उसके मुह में देना चाह. तो उसने मन कर दिया. मेने उसे कहा की किस कर लो. उसने लंड को किस किया, फिर ६-७ मिनिट तक बूब्स दबाने और चूसने के बाद में उसे वेस्टर्न कमोड पर बैठाया और उसके पैर अपने कंधो पर रख कर एक ही ज़टके में अन्दर कर दिया. उसके मुज से आह निकल गयी. फिर मेने जोर जोर से २० मिनिट चुदाई की और उसके बाद में जड़ गया, वो दस बार जड़ चुकी थी. फिर मेने उसे खड़े होने को कहा तो वो खड़ी भी नहीं हो पा रही थी, उसके बूब्स पर कटाने के निशान पड़े हुए थे, एक निशान गाल पर भी था, वो बोली की तुमने तो सही में मेरी बुरी हालत कर दी. पैरो में, चूत में, गाल में और बूब्स में दर्द हो रहा हे. मेने कहा की अगर टाइम होता तो तुम कहती की गांड में भी दर्द हो रहा हे, वो हंस पड़ी. वो बोली की तुमने गाल पर क्यों काटा? मेने कहा की चोदते समय मुझे कुछ भी याद नहीं रहता, केवल चुदाई याद रहती हे, उसने जैसे अपने कपडे ठीक किये, फिर हम लोग अपनी बर्थ पर चले गए और सो गए. वो सुबह ११ बजे उठी. मेने पूछा की आप तो कह रही थी की आप को ट्रेन में नींद नहीं आती. वो बोली की पहली बार नींद आई हे, फिर उसने अपना नंबर दिया और कहा की कोलकाता में आ कर मिलना.

कहानी शेयर करें :